Connect with us

World

भारतीय कंपनियों इंफोसिस, टाटा, विप्रो पर आफत, अमेरिका ने किया एच1-बी वीजा सस्पेंड

Published

on

भारतीय कंपनियों इंफोसिस, टाटा, विप्रो पर आफत, अमेरिका ने किया एच1-बी वीजा सस्पेंड

अस्थायी वीजा पर रोक, सवा पांंच लाख पेशेवर प्रभावित होंगे 

वाशिंगटन, देशज न्यूज। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने एक कार्यकारी आदेश पर हस्ताक्षर कर एच-1बी, इन पर आश्रित 2 बीएच, स्टूडेंट के लिए जे-1 और ग़ैर कृषि क्षेत्र के लिए एल-1 वीजा पर रोक लगा दी है। इससे कुल मिलाकर सवा पांंच लाख पेशेवर कर्मी प्रभावित होंगे। इनमें ज़्यादातर पेशेवर कर्मी भारत और चीन से हैं।
कहा जा रहा है कि ये रोज़गार अमेरिकी नागरिकों को दिए जा सकेंगे। भारत से टेक्नोलाजी के क्षेत्र में प्रति वर्ष एच-1बी के अंतर्गत 85 हज़ार आईटी कर्मियों को दिए जाने वाले रोज़गार की भी तोड़ निकाली जा रही है।
इसमें आधे से ज़्यादा रोजगार भारतीय आईटी पेशेवर ले जाते हैं।सिलिकन वैली में माइक्रोसाफट, गूगल, फ़ेसबुक और अमेजन के खाते में जाते हैं। इस संदर्भ में कोशिश है कि अब उन्हीं पेशेवरों को रोज़गार दिए जाएंं जो उच्चतम श्रेणी के हों। इन्हें वेतन साठ हज़ार डॉलर प्रतिवर्ष दिए जाने की बजाए एक लाख डॉलर प्रतिवर्ष दिए जाने के बारे में टेक कम्पनियों से कश्मकश चल रही है।
अगर ऐसा होता है, तो भारतीय कंपनियों म्पनियांं इन्फ़ोसिस, टाटा, विप्रो आदि प्रभावित होंगी.।इनमें एच-2 ए को छोड़ दिया गया है जो कृषि क्षेत्र और ग्रोसरी स्टोर के लिए है और अमेरिका को इन श्रमिकों की निहायत ज़रूरत है।

145 साल पुराने दरभंगा से पहली बार खबरों का गरम भांप ...असंभव से आगे देशज टाइम्स हिंदी दैनिक। वेब पेज का संपूर्ण अखबार। दरभंगा खासकर मिथिलाक्षेत्रे, हमार प्रदेश, सारा जहां की ताजा खबरें। रोजाना नए कलेवर में। फिल्म-नौटंकी के साथ सरजमीं को समेटे। सिर्फ देशज टाइम्स में, पढि़ए, जाग जाइए।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

World

बांग्लादेश से बड़ी खबर : बूढ़ीगंगा में नाव डूबी, 28 लोगों की मौत, 12 लोग अब भी लापता

Published

on

बांग्लादेश से बड़ी खबर : बूढ़ीगंगा में नाव डूबी, 28 लोगों की मौत, 12 लोग अब भी लापता

कोलकाता,देशज न्यूज। बांग्लादेश की राजधानी ढाका के श्यामबाजार इलाके में सोमवार की सुबह साढ़े नौ बजे के करीब बूढ़ीगंगा नदी में नाव Bangladesh-boat-drowned डूबने से 28 लोगों की मौत हो गई है। मृतकों में तीन बच्चे और छह महिलाएं शामिल हैं। जबकि 12 लोगों का पता नहीं चला है। उनकी तलाश की जा रही है।

घटना सोमवार सुबह 9:30 बजे की है। बांग्लादेश इनलैंड वॉटर ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी, अग्निशमन विभाग, रिवर पुलिस, कोस्ट गार्ड और बांग्लादेश नेवी की टीम बाकी लोगों की तलाश में जुटी है। हादसे का कारण नौका Bangladesh-boat-drowned का एक अन्य जहाज से टकरा जाना बताया गया है। Bangladesh-boat-drowned फायर सर्विस कंट्रोल रूम अधिकारी रोजिना इस्लाम ने कहा है कि रोजाना की तरह नौका में सवार होकर लोग जा रहे थे, तभी यह हादसा हो गया।

बीआईडब्ल्यूटीए के ट्रांसपोर्ट इंस्पेक्टर एमडी सेलिम ने बताया है कि बोट (नौका) मॉर्निग बर्ड मुंशीगंज से सदरघाट की ओर जा रहा था। जब वह चांदपुर से आ रहे थे, तभी बोट मोयूरी -2 जहाज से टकरा गया। अभी 12 लोग लापता है। उनकी तलाश की जा रही है।
Continue Reading

Delhi

#HeadlineNews – कोरोना वायरस संभवत: कभी खत्म नहीं हो : WHO

Published

on

Corona Virus Live Update

नई दिल्ली, देशज न्यूज। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी देते हुए कहा कि संभव है नोवल कोरोना वायरस कभी खत्म ही न हो  और ऐसे में  दुनिया भर की आबादी को इसके साथ रहना सीखना होगा।

दुनिया भर के कुछ देशों ने नोवल कोरोनावायरस को फैलने से रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन प्रतिबंधों को धीरे-धीरे कम करना शुरू कर दिया है। लेकिन डब्ल्यूएचओ ने कहा कि इसे कभी भी पूरी तरह से मिटाया नहीं जा सकता है।

कोरोनावायरस पहली बार चीन के वुहान शहर में पिछले साल के अंत में उभरा और तब से पूरी दुनिया में 42 लाख से अधिक लोगों को संक्रमित किया और लगभग 300,000 लोगों की इससे मौत हो गई है।

डब्ल्यूएचओ के आपात निदेशक माइकल रेयान ने कहा, “हमारे पास पहली बार मानव आबादी में प्रवेश करने वाला एक नया वायरस है और इसलिए यह अनुमान लगाना बहुत कठिन है कि हम कब इस पर विजय प्राप्त कर लेंगे।”

उन्होंने जिनेवा में एक आभासी संवाददाता सम्मेलन में बताया, “यह वायरस हमारे समुदायों में केवल एक और स्थानिक वायरस में बदल सकता है और यह वायरस कभी खत्म नहीं किया जा सकता है। एचआईवी दूर नहीं हुआ है, लेकिन हम इस वायरस के साथ जीवन बिताते आए हैं।”

कोरोनावायरस संकट शुरू होने के बाद आधे से अधिक मानवता को किसी न किसी रूप में लॉकडाउन में रखा गया है। डब्ल्यूएचओ ने चेतावनी दी कि इस बात की कोई गारंटी  नहीं है कि प्रतिबंधों में ढील देने से संक्रमण की दूसरी लहर शुरू नहीं होगी।

डब्ल्यूएचओ के प्रमुख टेड्रोस एडनोम घेब्येयस ने कहा, “कई देश विभिन्न तरह के उपायों से लॉकडाउन से बाहर निकलना चाहेंगे।लेकिन हमारी सिफारिश है कि अभी भी किसी भी देश में सतर्कता उच्चतम स्तर पर होनी चाहिए।”

Continue Reading

World

अब रिश्तेदार कोरोना मरीज़ों से मिलकर खुदा हाफ़िज़ कह सकेंगे?

Published

on

अब रिश्तेदार कोरोना मरीज़ों से मिलकर खुदा हाफ़िज़ कह सकेंगे?
इज़राइल के बाद अब अमेरिकी अस्पतालों में भी रिश्तेदारों की ओर से माँगे उठ रही हैं कि उन्हें  कोरोना संक्रमित अपने सगे संबंधियों से मिलने की इजाज़त दी जाए ताकि वे आख़िरी बार उन्हें मिलकर ‘खुदा हाफ़िज़’ कह सकें। इसके लिए इज़राइल के अस्पतालों में बेड पर पड़े कोरोना संक्रमित मरीज़ों से सगे संबंधियों को मिलने की इजाज़त दी जा रही है। 
लॉस एंजेल्स, देशज न्यूज। अमेरिका में सी डी सी डिपार्टमेंट ने कहा है कि यह तो अस्पताल पर निर्भर करता है कि इस घातक संक्रामक बीमारी के कारण वह किसे मंज़ूरी दे अथवा नहीं।
अमेरिका में अभी तक किसी भी अस्पताल में कोरोना संक्रमित से उनके सगे संबंधियों को मिलने की इजाज़त नहीं है। यही स्थिति इटली, स्पेन और इंग्लैंड में भी है, जहां हज़ारों कोरोना मरीज़ दम तोड़ चुके हैं।
ऐसी कितनी ही घटनाएँ हुई हैं, जब बेटा अथवा बेटी अपने कोरोना संक्रमित से दम तोड़ रहे अपने  पिता को गुड बाई नहीं कह सके हैं।
Continue Reading

लोकप्रिय

Copyright © 2020 Deshaj Group of Print. All Rights Reserved Tingg Technology Solution LLP.