Tuesday, August 3, 2021

बेनीपुर केसीसी ऋण शिविर में 44 किसानों ने भरे कृषि ॠण के लिए आवेदन

बेनीपुर। स्थानीय कृषि भवन में आयोजित केसीसी ऋण शिविर में 44 किसानों ने कृषि ॠण के लिए आवेदन दिया। उक्त जानकारी देते बीएओ नकुल...

खबरों से जुड़े रहने के लिए आज ही डाउनलोड करें Deshaj Times APP

अभी-अभी

“…उनकी लिखी पहली कविता मिथिला मिहिर के 27 नवंबर 1960 के अंक में प्रकाशित हुई थी” मैथिली साहित्य की वरिष्ठ कवयित्री प्रभा झा...

दरभंगा। मैथिली साहित्य की वरिष्ठ कवयित्री प्रभा झा के निधन पर विद्यापति सेवा संस्थान ने मंगलवार को शोक संवेदना व्यक्त किया है। अपने शोक...

कुलपति प्रो. एस.पी सिंह ने स्नातकोत्तर गणित विभाग द्वारा आयोजित ई-सेमिनार को संबोधित करते हुए कहा, गणित के बिना जीवन जीने की कल्पना नहीं...

दरभंगा। ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर एस पी सिंह ने स्नातकोत्तर गणित विभाग द्वारा मंगलवार को आयोजित ई-सेमिनार को संबोधित करते हुए...

पेगासस जासूसी कांड : कांग्रेस का धरना, पेगासस का इस्तेमाल राजनीतिक हथियार के तौर पर हुआ

मधुबनी। पेगासस जासूसी मामले में सर्वोच्च न्यायालय की निगरानी में जांच एवं केन्द्रीय गृहमंत्री के इस्तीफे की मांग को लेकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जिलाध्यक्ष...

” 26 जनवरी 1950 को भारतीय संविधान लागू होने के समय से ही लगातार OBC के साथ धोखाधड़ी की जा रही है… ” NEET...

मधुबनी। नीट परीक्षा में ओबीसी आरक्षण की मांग को लेकर मंगलवार को राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) मोर्चा के तत्वावधान में रैली प्रदर्शन किया गया।...

महाशिवरात्रि विशेष: सारनाथ सारंगनाथ मंदिर में महादेव की ससुराल, साले के साथ होता है दर्शन, दर्शन पूजन से ससुराल और मायके का सम्बन्ध प्रगाढ़ होने की मान्यता

पढ़िए Deshaj Times को सीधा अपने व्हाट्सएप पर, कम समय में जानें दिन भर की महत्वपुर्ण खबरें, विश्लेषण के साथ

पढ़िए देशज टाइम्स हिंदी मैगजीन, कम समय में जानें हफ्तेभर की महत्वपुर्ण खबरें, सटीक विश्लेषण के साथ।

-मंदिर के गर्भगृह में एक साथ सारंग ऋषि और महादेव का शिवलिंग है विराजमान
-दर्शन पूजन से ससुराल और मायके का सम्बन्ध प्रगाढ़ होने की मान्यता
वाराणसी। धर्म नगरी काशी में द्वादश ज्योतिर्लिंग में प्रमुख सातवें श्री विश्वेश्वर ज्योतिर्लिंग (काशी विश्वनाथ) स्वयं विराजते हैं। इस पावन ज्योतिर्लिंग के दर्शन-पूजन मात्र से मनुष्य के सभी पापों-तापों से छुटकारा मिलता है। काशी विश्वनाथ के इस नगरी में विराजमान होने से ही यहां जो भी प्राणी अपने प्राण को त्यागता है। उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है। मान्यता है कि काशी विश्वनाथ उसके कान में तारक मंत्र का उपदेश करते हैं।
इस मंत्र के प्रभाव से पापी से पापी प्राणी भी सहज ही भवसागर की बाधाओं से पार हो जाते हैं। उन्हें पुनः संसार बंधन में नहीं जाना पड़ता। खास बात यह है कि इसी नगरी में बाबा विश्वनाथ सारनाथ सारंगनाथ महादेव मंदिर स्थित ससुराल में साले ऋषि सारंग नाथ के साथ विराजमान हैं। जहां बाबा विश्वनाथ और उनके साले ऋषि सारंग नाथ का शिवलिंग है। मंदिर के गर्भगृह में दोनों शिवलिंग एक साथ है। इस मंदिर में दर्शन पूजन से ससुराल और मायके पक्ष में संबंध प्रगाढ़, सौहार्दपूर्ण हो जाते है।
काशी में मान्यता है कि सावन माह में बाबा पूरे एक माह यहां विराजते हैं। सावन माह यहां दर्शन पूजन और जलाभिषेक करने से वही पुण्य मिलता है, जितना कि श्री काशी विश्वनाथ मंदिर में। बुधवार को ‘हिन्दुस्थान समाचार’ से बातचीत में काशी में वर्षों से भोर में ओम नम: शिवाय प्रभातफेरी निकालने वाले शिवाराधना समिति के संस्थापक अध्यक्ष डॉ.मृदुल मिश्र ने बताया कि अपने साले सारंग ऋषि की भक्ति से प्रसन्न बाबा विश्वनाथ यहां उनके साथ सोमनाथ के रूप में विराजमान हैं। उन्होंने पुराणों में वर्णित कथा का उल्लेख किया।
डॉ. मिश्र ने बताया कि महादेव आदिशक्ति पार्वती के साथ विवाह के बंधन (पाणिग्रहण) में बंधने के बाद कैलाश पर्वत पर ही रह रहे थे। अपने पिता के घर में ही विवाहित जीवन बिताना जगदम्बा पार्वती जी को अच्छा नहीं लग रहा था। एक दिन उन्होंने महादेव से कहा कि आप मुझे अपने घर ले चलिये। यहां रहना मुझे अच्छा नहीं लगता। सभी लड़कियां शादी के बाद अपने पति के घर जाती हैं, मुझे पिता के घर ही रहना पड़ रहा है। महादेव ने उनकी प्रार्थना स्वीकार कर ली। वह माता पार्वती जी को साथ लेकर अपनी पवित्र नगरी काशी में आ गये। यहां आकर वे विश्वेश्वर ज्योतिर्लिंग के रूप में स्थापित हो गए।
उधर, राजा दक्ष प्रजापति (मां पार्वती के पिता) के पुत्र और सती के बड़े भाई सारंग ऋषि तपस्या के बाद हिमालय पर्वत से लौट कर घर आये तो पता चला कि बहन सती (पार्वती) का विवाह महादेव से हो गया है। इस पर उन्होंने अपनी मां से विरोध जताते हुए कहा कि सती का विवाह आपने एक ऐसे व्यक्ति से कर दिया जिसके पास न घर है, ना तन पर ढंग के कपड़े । मृगछाला लपेटे भूतों टोली के साथ घूमते फिरते हैं। माता उन्हें समझाती हैं कि जिसके प्रारब्ध में जो होता है उसे वही वर मिलता है। तुम बहुत दिनों बाद आए हो जाकर अपने बहन से मिल आओ।
मां के समझाने पर ऋषि सारंगनाथ भारी मात्रा में धन संपदा लेकर बहन पार्वती से मिलने काशी आ रहे थे। काशी से कुछ दूर मृगदाव (सारनाथ) पहुंचे तो उन्होंने देखा कि पूरी काशी ही सोने की तरह चमक रही है। यह देख उन्हें अपनी गलती का एहसास हुआ और ऋषि वहीं तपस्या में लीन हो गए। जब इसका बोध काशी विश्वनाथ को हुआ तो वह मृगदाव पहुंचे।
महादेव ने तपस्यारत सारंगनाथ से कहा कि व्यथा और दुख को त्याग दे। हर भाई अपनी बहन की सुख-समृद्धि चाहता है। भाई होने के नाते आप भी अपना कर्तव्य निर्वहन कर रहे थे। हम आप के तपस्या से खुश है,वर मांगे। इस पर ऋषि सारंग बोले- प्रभु, हम चाहते हैं कि आप हमारे साथ सदैव रहें। इस पर भगवान शिव ने उनसे काशी स्थित अपने धाम पर चलने का अनुरोध किया। लेकिन, ऋषि सारंग ने साथ जाने से यह कहते हुए मना किया कि यह जगह बहुत रमणीय है।
इसके बाद महादेव ने कहा कि भविष्य में तुम सारंगनाथ महादेव के नाम से पूजे जाओगे। पौराणिक कथाओं के अनुसार सारंग ऋषि की भक्ति से प्रसन्न बाबा विश्वनाथ यहां उनके साथ सोमनाथ के रूप में विराजमान हैं। माना जाता है कि उत्तर भारत में सारंगनाथ महादेव मंदिर ही ऐसा स्थान है। जहां मंदिर के गर्भगृह में दो शिवलिंग विराजमान है।

Latest Posts

“…उनकी लिखी पहली कविता मिथिला मिहिर के 27 नवंबर 1960 के अंक में प्रकाशित हुई थी” मैथिली साहित्य की वरिष्ठ कवयित्री प्रभा झा...

दरभंगा। मैथिली साहित्य की वरिष्ठ कवयित्री प्रभा झा के निधन पर विद्यापति सेवा संस्थान ने मंगलवार को शोक संवेदना व्यक्त किया है। अपने शोक...

कुलपति प्रो. एस.पी सिंह ने स्नातकोत्तर गणित विभाग द्वारा आयोजित ई-सेमिनार को संबोधित करते हुए कहा, गणित के बिना जीवन जीने की कल्पना नहीं...

दरभंगा। ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर एस पी सिंह ने स्नातकोत्तर गणित विभाग द्वारा मंगलवार को आयोजित ई-सेमिनार को संबोधित करते हुए...

पेगासस जासूसी कांड : कांग्रेस का धरना, पेगासस का इस्तेमाल राजनीतिक हथियार के तौर पर हुआ

मधुबनी। पेगासस जासूसी मामले में सर्वोच्च न्यायालय की निगरानी में जांच एवं केन्द्रीय गृहमंत्री के इस्तीफे की मांग को लेकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जिलाध्यक्ष...

” 26 जनवरी 1950 को भारतीय संविधान लागू होने के समय से ही लगातार OBC के साथ धोखाधड़ी की जा रही है… ” NEET...

मधुबनी। नीट परीक्षा में ओबीसी आरक्षण की मांग को लेकर मंगलवार को राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) मोर्चा के तत्वावधान में रैली प्रदर्शन किया गया।...

ख़बरें

कुशेश्वरस्थान के विधायक शशिभूषण हजारी की पत्नी रेखा हजारी का पटना में निधन, अपने पुत्र के साथ गई थी पति के विधायक आवास, पड़ा...

कुशेश्वरस्थान। कुशेश्वरस्थान के पूर्व विधायक स्व.शशिभूषण हजारी की धर्मपत्नी रेखा हजारी का अभी कुछ देर पहले पटना स्थित जीबछ मेमोरियल अस्पताल में दिल का...

वेतन नहीं मिलने से आक्रोशित वार्ड सचिवों का विधानसभा मार्च, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

विधानसभा मार्च पर निकले वार्ड सचिवों पर लाठी चार्ज: चार साल से 1.15 लाख वार्ड सचिवों को नहीं मिला वेतन; कारगिल चौक पर बवाल...

दरभंगा के प्रखंडों में Covishild के लिए बने 52 टीका केंद्र, कोई भी इन केंद्रों पर जाकर ऑन द स्पॉट लगवा सकता है टीका

दरभंगा। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए बिहार में विशेष टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के अंतर्गत दरभंगा जिले के सभी...

धनबाद ADJ हत्याकांड : ऑटो ड्राइवर समेत 3 आरोपी अरेस्ट, ऑटो जब्त, CCTV फुटेज से साजिश का शक

गिरिडीह। Jharkhand के Dhanbad में एडिशनल जिला जज की हादसे में मौत पर विवाद गहराता जा रहा है. सीसीटीवी फुटेज में दिख रहा है...

चिराग को पस्त करने बिहार के हर जिले का दौरा करेंगे पारस, 15 अगस्त के बाद आयेंगे बिहार, पढ़िए पूरी रिपोर्ट

पटना। पिछले महीने लोक जनशक्ति पार्टी के पांच सांसदों को साथ लेकर लोजपा पर अधिकार कर मोदी कैबिनेट में जगह बनाने वाले पशुपति कुमार...

Stay in touch

To be updated with all the latest news, offers and special announcements.