Tuesday, June 22, 2021

जाले मुखिया महासंघ ने कहा मुखिया को पदपर बनाए रखने के फैसले पर सरकार को कहा-साधुवाद, मुखियागण के अधिकार बहाल रखने पर जताई खुशी

जाले। प्रखंड मुखिया महासंघ की बैठक रविवार को उत्तरी पंचायत के पंचायत सरकार भवन में मुखिया महासंघ के अध्यक्ष राघवेंद्र प्रसाद की अध्यक्षता में...

खबरों से जुड़े रहने के लिए आज ही डाउनलोड करें Deshaj Times APP

अभी-अभी

बिहार : अनलॉक-तीन सिर्फ 15 दिनों के लिए, जानिए फिर कब होगी आपदा प्रबंधन समूह की बैठक

पटना। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार देर शाम ट्वीट कर अनलॉक-तीन का ऐलान किया। इसके तहत अब दुकानें शाम 7:00 बजे तक खुलेगी। 23...

मधुबनी में योग दिवस पर दिखा नहीं लोगों का उत्साह, भागीदारी में कोरोना, बारिश पड़ी भारी

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर मधुबनी जिले के विभिन्न प्रखंडों और पंचायतों में कार्यक्रम   अंधराठाढ़ी में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर प्रखंड के विभिन्न पंचायतों...

बिस्फी के रघौली गांव में गिट्टी मिक्चर मशीन के पीछे बने मकान से 219 कार्टन शराब जब्त

बिस्फी। स्थानीय थाना क्षेत्र के रघौली गिट्टी मिक्चर मशीन के पीछे बने मकान से कंट्रोल रूम की ओर से 7428 बोतल गुप्त सूचना के...

मधुबनी के लदनियां में पुलिया निर्माण की गुणवत्ता पर उठने लगे सवाल, जांच के घेरे में दरभंगा का ठेकेदार

लदनियां। लदनियां प्रखंड के कमतौलिया से कुमरखत गांव को जोड़ने वाली सड़क में पुलिया का निर्माण कार्य के प्राक्कलन में गुणवत्ता की अनदेखी को...

इतिहास के पन्नों मेंः 22 मार्च, देशज के साथ देश से विदेश…यानी मास्टर दा यानी मास्टर सूर्यसेन, भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के अमर सेनानी

पढ़िए Deshaj Times को सीधा अपने व्हाट्सएप पर, कम समय में जानें दिन भर की महत्वपुर्ण खबरें, विश्लेषण के साथ

पढ़िए देशज टाइम्स हिंदी मैगजीन, कम समय में जानें हफ्तेभर की महत्वपुर्ण खबरें, सटीक विश्लेषण के साथ।

नई दिल्ली, 22 मार्च। मास्टर दा यानी मास्टर सूर्यसेन। भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के अमर सेनानी, जिन्होंने सशस्त्र विद्रोह कर अंग्रेजी हुकूमत को कड़ी चुनौती दी। इस घटनाक्रम को इतिहास में चटगांव विद्रोह के नाम से जाना जाता है। इसकी अगुवाई करने वाले मास्टर सूर्यसेन का जन्म 22 मार्च 1894 को चटगांव (अब बांग्लादेश) के नवापाड़ा में हुआ था।
मास्टर सूर्यसेन ने ब्रिटिश हुकूमत के खिलाफ निजी सेना तैयार की जिसका नाम रखा- इंडियन रिपब्लिक आर्मी। इसमें युवक-युवतियां, दोनों बड़ी संख्या में शामिल थे। अपनी आर्मी के लिए जब हथियारों की जरूरत पड़ी तो मास्टर सूर्यसेन ने 18 अप्रैल 1930 की रात चटगांव के दो शस्त्रागारों को लूटने की योजना बनायी। लूट को अंजाम देने से पहले रेल पटरियों को उखाड़ दिया गया और संचार व्यवस्था पूरी तरह नष्ट कर दी गयी। इसके बाद शस्त्रागारों से हथियार लूटे गए। ब्रिटिश हुकूमत के जिन कर्मचारियों ने लूट का विरोध किया, उन्हें गोली मार दी गयी।
घटना को अंजाम देकर क्रांतिकारी जलालाबाद की पहाड़ी में जा पहुंचे। संचार व्यवस्था ठप होने के कारण अगले चार दिनों तक चटगांव का प्रशासन मास्टर सूर्यसेन की आर्मी के हाथों ही रहा। चार दिनों बाद अंग्रेजों ने पहाड़ी को घेर लिया और दोनों तरफ से गोलीबारी हुई। कई क्रांतिकारी शहीद हुए और कुछ पकड़े गए। बड़ी संख्या में ब्रिटिश सैनिक भी मारे गए। लेकिन मास्टर सूर्यसेन सहित संगठन के कुछ शीर्ष नेता वहां से निकलने में सफल हो गए।
तीन साल बाद 16 फरवरी को वे गिरफ्तार कर लिये गए। उनपर मुकदमा चला और 12 जनवरी 1934 को मेदिनीपुर जेल में उन्हें फांसी दे दी गयी। फांसी दिये जाने से पहले कहते हैं कि बर्रबरता की तमाम हदों को पार करते हुए उन्हें यातनाएं दी गयीं। उनके साथ एक अन्य क्रांतिकारी तारकेश्वर दस्तीदार को भी फांसी दी गयी।
आख़िरी ख़त में उन्होंने अपने दोस्तों को लिखा- `मौत मेरे दरवाजे पर दस्तक दे रही है। मेरा मन अनंतकाल की ओर उड़ रहा है। ऐसे सुखद समय पर, ऐसे गंभीर क्षण में, मैं तुम सबके पास क्या छोड़ जाऊंगा? केवल एक चीज, यह मेरा सपना है, एक सुनहरा सपना- स्वतंत्र भारत का सपना। कभी चटगांव विद्रोह को मत भूलना। अपने दिल पर देशभक्तों के नाम को स्वर्णिम अक्षरों में लिखना, जिन्होंने भारत की स्वतंत्रता की वेदी पर अपना जीवन बलिदान किया है।’
अन्य अहम घटनाएंः
1739- ईरान के बादशाह नादिर शाह ने अपनी फौज को दिल्ली में नरसंहार का हुक्म दिया। इतिहास में इसे कत्लेआम के नाम से जाना जाता है।
1783- लॉर्ड कार्नवालिस ने बंगाल और बिहार के बीच अंतिम समझौते का ऐलान किया।
1890- रामचंद्र चटर्जी पैराशूट से उतरने वाले पहले भारतीय बने।
1947- लॉर्ड माउंटबेटन आखिरी वायसराय के रूप में भारत आए।
1964- कलकत्ता में पहली विंटेज कार रैली का आयोजन।
1977- आपातकाल के बाद हुए आम चुनाव में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने राष्ट्रपति को इस्तीफा सौंपा।
1993- पहली बार विश्व जल दिवस मनाया गया।

Latest Posts

बिहार : अनलॉक-तीन सिर्फ 15 दिनों के लिए, जानिए फिर कब होगी आपदा प्रबंधन समूह की बैठक

पटना। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार देर शाम ट्वीट कर अनलॉक-तीन का ऐलान किया। इसके तहत अब दुकानें शाम 7:00 बजे तक खुलेगी। 23...

मधुबनी में योग दिवस पर दिखा नहीं लोगों का उत्साह, भागीदारी में कोरोना, बारिश पड़ी भारी

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर मधुबनी जिले के विभिन्न प्रखंडों और पंचायतों में कार्यक्रम   अंधराठाढ़ी में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर प्रखंड के विभिन्न पंचायतों...

बिस्फी के रघौली गांव में गिट्टी मिक्चर मशीन के पीछे बने मकान से 219 कार्टन शराब जब्त

बिस्फी। स्थानीय थाना क्षेत्र के रघौली गिट्टी मिक्चर मशीन के पीछे बने मकान से कंट्रोल रूम की ओर से 7428 बोतल गुप्त सूचना के...

मधुबनी के लदनियां में पुलिया निर्माण की गुणवत्ता पर उठने लगे सवाल, जांच के घेरे में दरभंगा का ठेकेदार

लदनियां। लदनियां प्रखंड के कमतौलिया से कुमरखत गांव को जोड़ने वाली सड़क में पुलिया का निर्माण कार्य के प्राक्कलन में गुणवत्ता की अनदेखी को...

ख़बरें

बिरौल पंचायत का बिरौल गांव, किससे करे फरियाद, कौन सुनेगा बात, पानी में तैरने की नियति से बचाएगा कौन? शायद…कोई नहीं, यही समझ जलजमाव...

उत्तम सेन गुप्ता, बिरौल देशज टाइम्स डिजिटल डेस्क। प्रखंड अन्तर्गत बिरौल पंचायत का बिरौल गांव, लेकिन यहां मुख्य मार्ग पर जल जमाव की कोई...

इजरा की चांदनी ने मधुबनी का नाम किया रोशन, पहले ही प्रयास में बनी सब इंस्पेक्टर

मधुबनी। रहिका प्रखंड क्षेत्र के इजरा गांव की चांदनी कुमारी ने बिहार पुलिस अवर सेवा आयोग की परीक्षा पास कर सब इंस्पेक्टर बनी है।...

राजधानी एक्सप्रेस पर लैंड स्लाइडिंग: नई दिल्ली से रांची जा रही ट्रेन पर गिरी चट्टानें, ट्रेन डैमेज; अफरातफरी, लैंड स्लाइडिंग के साथ भारी चट्‌टानें...

गया। गया-कोडरमा ग्रैंडकॉर्ड रेलखंड पर नई दिल्ली-रांची एक्सप्रेस दुर्घटनाग्रस्त होने से बच गई। धनबाद रेल मंडल अंतर्गत गया-मानपुर-कोडरमा रूट पर बसकटवा व नाथगंज के...

बिहार में शनिवार का कहर: अनियंत्रित ट्रक ने दस लोगों को रौंदा, चार की मौके पर ही मौत, आधा दर्जन महिलाएं जख्मी

पटना/सासाराम। बिहार के रोहतास जिला अंतर्गत शिवसागर थाना क्षेत्र के बमहौर गांव में राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या (एनएच) -2 पर एक अनियंत्रित ट्रक ने शनिवार...

एनटीपीसी बरौनी में यूनिट-9 का ट्रायल रन सक्सेस, बिहार को मिलेगी 250 मेगावाट बिजली

बेगूसराय। नेशनल थर्मल पावर कॉरपोरेशन (एनटीपीसी) के हिस्से में आने के बाद बंद करो बरौनी थर्मल पावर स्टेशन लगातार नई ऊंचाई को छू रहा...

Stay in touch

To be updated with all the latest news, offers and special announcements.