Friday, July 30, 2021

राजद विधायक भाई वीरेंद्र की ओर से किये गये टिप्पणी पर भड़क गये विधानसभा अध्यक्ष, कहा-अपने शब्द वापस लें

पटना। बिहार विधानसभा की कार्यवाही के दौरान बुधवार को राजद विधायक भाई वीरेंद्र की ओर से किये गये टिप्पणी पर विधानसभा अध्यक्ष भड़क गये।भाई...

खबरों से जुड़े रहने के लिए आज ही डाउनलोड करें Deshaj Times APP

अभी-अभी

लॉज में चल रहे सेक्स रैकेट का भांडाफोड़, पांच आरोपी गिरफ्तार, मौके से पुलिस ने चार युवतियों को छुड़ाया, पढ़िए पूरी ख़बर

लॉज में चल रहे सेक्स रैकेट का भांडाफोड़, पांच आरोपी गिरफ्तार, मौके से पुलिस ने चार युवतियों को छुड़ाया जानकारी के अनुसार सिलीगुड़ी थाने...

इस वक्त की सबसे बड़ी खबर : CM Nitish से मिलने पहुंचे Tejashwi Yadav साथ में तेज प्रताप यादव, पढ़िए पूरी रिपोर्ट

पटना। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात करने पहुंचे हैं। तेजस्वी के साथ कांग्रेस विधायक दल के नेता अजीत शर्मा, वामदल...

Bihar Assembly Monsoon Session : …” हमारे विधायक फंड से जो राशि काटी गई उसे कहां खर्च किया गया? ” कोरोना में विधायक फंड...

पटना। बिहार में कोरोना महामारी को देखते हुए राज्य सरकार ने विधायक फंड की राशि में कटौती की थी। इससे संबंधित मामला शुक्रवार को...

Bihar Assembly Monsoon Session : ” ..जिस तरह मेयर की हत्या की गई है, उसके बाद यह साबित है कि राज्य में कानून व्यवस्था...

पटना। बिहार विधानसभा मानसून के पांचवे दिन शुक्रवार को कटिहार के मेयर शिवराज पासवान की हत्या का मामला गूंजता रहा। सदन की कार्यवाही शुरू...

नेपालः अब ओली क्या करेंगे? इस्तीफा देंगे या अविश्वास प्रस्ताव का सामना करेंगे ओली

पढ़िए Deshaj Times को सीधा अपने व्हाट्सएप पर, कम समय में जानें दिन भर की महत्वपुर्ण खबरें, विश्लेषण के साथ

पढ़िए देशज टाइम्स हिंदी मैगजीन, कम समय में जानें हफ्तेभर की महत्वपुर्ण खबरें, सटीक विश्लेषण के साथ।

काठमांडु। नेपाल की सर्वोच्च अदालत ने नेपाल की प्रतिनिधि सभा यानी नेपाल की संसद को भंग किये जाने के फैसले को पलट दिया है। अदालत ने सरकार को 13 दिनों के भीतर सदन की बैठक बुलाने का Political crisis in Nepal. निर्देश दिया है।

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने पिछले साल 20 दिसंबर को संसद भंग करने की सिफारिश की थी जिसे राष्ट्रपति ने मंजूर कर लिया। संसद भंग किये जाने के इसी फैसले को चुनौती देने वाली 13 याचिकाओं पर नेपाल की सर्वोच्च अदालत ने एतिहासिक फैसला दिया है। सवाल यही है कि प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली अब क्या करेंगे?

सत्ताधारी पार्टी के भीतर भारी अंतर्विरोध के बीच नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने नाटकीय राजनीतिक घटनाक्रम में संसद भंग किये जाने की सिफारिश की थी। 20 दिसंबर को संसद भंग किये जाने के बाद इस साल 30 अप्रैल और 10 मई को नये चुनावों की तारीख भी घोषित कर दी गयी थी।

फैसले पर सवाल

नेपाल की संसद भंग किये जाने के फैसले पर काफी सवाल उठे थे। इस फैसले के खिलाफ नेपाल की तमाम विपक्षी पार्टियां लगातार विरोध दर्ज कराती रही। नेपाल के संविधान में संसद भंग किये जाने को लेकर स्थिति बहुत स्पष्ट नहीं है। विरोधी दलों के साथ-साथ संविधान विशेषज्ञों की राय थी कि प्रधानमंत्री के पास संसद भंग करने का अधिकार नहीं है। इसी तर्क के आधार पर सर्वोच्च अदालत में याचिका दायर कर नेपाली संसद के निचले सदन को बहाल करने की मांग की गयी थी।

अब ओली क्या करेंगे

नेपाल की सर्वोच्च अदालत का ताजा फैसला प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के लिए झटके की तरह है। इसके बाद ओली के सामने विकल्प बहुत कम रह गए हैं। उनके सामने बहुमत साबित करने की चुनौती है। बहुमत उनके साथ नहीं दिख रहा है, ऐसे में उन्हें इस्तीफा देना होगा। सबकी नज़र इसी बात पर टिकी हैं कि ओली आखिरकार ख़ुद कुर्सी छोड़ते हैं या अविश्वास प्रस्ताव का सामना करते हैं?

नेपाली कांग्रेस का किरदार

ओली बनाम प्रचंड की तरह सत्तारूढ़ नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी दो खेमों में बंट गयी है। पार्टी के सांसदों की निष्ठा भी बंटी हुई है। मौजूदा स्थिति में ओली के लिए बहुमत साबित कर पाना निःसंदेह बहुत मुश्किल है। ऐसे में नेपाली कांग्रेस का किरदार काफी अहम हो गया है। क्या ओली सत्ता बचाने के लिए नेपाली कांग्रेस की मदद लेंगे? लेकिन इसमें पेंच यह है कि संसद भंग करने के फैसले का नेपाली कांग्रेस ने भी विरोध किया था और न्यायालय के ताजा फैसले का नेपाली कांग्रेस ने भी स्वागत किया है। दूसरे, नेपाली कांग्रेस को साथ लेने का विकल्प पुष्प कमल दहल प्रचंड खेमे के साथ भी है।

कयास यह भी लगाया जा रहा है कि ओली और प्रचंड खेमा किसी Political crisis in Nepal. तीसरे को नेता बनाए जाने के फैसले पर फिर से एकजुट हो सकते हैं। हालांकि इसकी संभावना बहुत कम है।

ओली-प्रचंड के बीच गहरी खाई

केपी शर्मा ओली की पार्टी कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ नेपाल (सीपीएन)- नेपाल युनाइटेड मार्क्सवादी लेनिनवादी (यूएमएल) और पुष्प कमल दहल प्रचंड की पार्टी कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) ने नवंबर 2017 का आम चुनाव साथ मिलकर लड़ा था। फरवरी 2018 में केपी शर्मा ओली प्रधानमंत्री बने और सत्ता में आने के कुछेक माह बाद इन तमाम पार्टियों का आपस में विलय हुआ जो बाद में नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के रूप में सामने आयी। हालांकि इस विलय के समय अहम समझौता भी हुआ था जिसमें ढाई साल ओली के प्रधानमंत्री बनने और ढाई साल प्रचंड के प्रधानमंत्री बनने की बात थी।

राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं की होड़ में दोनों नेताओं के बीच यह एकता कायम नहीं रह पायी। दोनों के बीच दूरियां बढ़ीं। यह दूरी तब और ज्यादा हो गयी जब शर्तों के मुताबिक ढाई साल बाद केपी शर्मा ओली कुर्सी छोड़ने के लिए राजी नहीं हुए। इसके बाद से कई ऐसे मौके आए जब दोनों के रिश्तों की खाई और भी चौड़ी होती गयी। यहां तक की प्रचंड गुट ने ओली को नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी से निकालने की भी घोषणा कर दी।

पार्टी के भीतर अपने खिलाफ उठती आवाज़ को भांपते हुए ही केपी शर्मा ओली ने संसद भंग की सिफारिश की थी। लेकिन अदालत के ताजा फैसले के बाद उन्हें अब या तो खुद ही कुर्सी छोड़नी होगी या फिर Political crisis in Nepal.अविश्वास प्रस्ताव का सामना करना पड़ेगा।

Latest Posts

लॉज में चल रहे सेक्स रैकेट का भांडाफोड़, पांच आरोपी गिरफ्तार, मौके से पुलिस ने चार युवतियों को छुड़ाया, पढ़िए पूरी ख़बर

लॉज में चल रहे सेक्स रैकेट का भांडाफोड़, पांच आरोपी गिरफ्तार, मौके से पुलिस ने चार युवतियों को छुड़ाया जानकारी के अनुसार सिलीगुड़ी थाने...

इस वक्त की सबसे बड़ी खबर : CM Nitish से मिलने पहुंचे Tejashwi Yadav साथ में तेज प्रताप यादव, पढ़िए पूरी रिपोर्ट

पटना। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात करने पहुंचे हैं। तेजस्वी के साथ कांग्रेस विधायक दल के नेता अजीत शर्मा, वामदल...

Bihar Assembly Monsoon Session : …” हमारे विधायक फंड से जो राशि काटी गई उसे कहां खर्च किया गया? ” कोरोना में विधायक फंड...

पटना। बिहार में कोरोना महामारी को देखते हुए राज्य सरकार ने विधायक फंड की राशि में कटौती की थी। इससे संबंधित मामला शुक्रवार को...

Bihar Assembly Monsoon Session : ” ..जिस तरह मेयर की हत्या की गई है, उसके बाद यह साबित है कि राज्य में कानून व्यवस्था...

पटना। बिहार विधानसभा मानसून के पांचवे दिन शुक्रवार को कटिहार के मेयर शिवराज पासवान की हत्या का मामला गूंजता रहा। सदन की कार्यवाही शुरू...

ख़बरें

पुलिस को मिली बड़ी सफलता, 1,170 बोतल शराब बरामद, एक गिरफ़्तार, तीन बाइक जब्त, पढ़िए पूरी ख़बर

लदनियां। लदनियां थाना अध्यक्ष संतोष कुमार सिंह ने बुधवार की सुबह योगिया गांव के सिमरा टोला में सुनील कुमार यादव के घर छापेमारी कर...

दरभंगा के बिरौल से बड़ी ख़बर सामने आ रही है जहां दो लोगों की मौत हाे गई है, पढ़िए पूरी ख़बर

बिरौल देशज टाइम्स डिजिटल डेस्क। थाना क्षेत्र के विभिन्न जगहों में दो अलग अलग घटनाओ में दो की मौत हो गयी।जानकारी के अनुसार नेउरी...

MODI Cabinet Decisions: डिपॉजिटर्स को बड़ी राहत, बैंक डूबने पर 90 दिन के अंदर मिलेगी 5 लाख तक की रकम

नई दिल्ली। आरबीआई द्वारा अब किसी बैंक पर मोरेटोरियम लगाए जाने के 90 दिन के भीतर उस बैंक के जमाकर्ताओं को पांच लाख रुपये...

बिरौल के हनुमाननगर में पीसीसी सड़क को तोड़कर नाला निर्माण का मामला पहुंचेगा एसडीओ से लेकर डीएम तक

बिरौल देशज टाइम्स डिजिटल डेस्क। प्रखंड के हनुमाननगर गांव में पीसीसी सड़क को तोड़कर नाला निर्माण कार्य शुरू किए जाने का मामला एसडीओ से...

गया-जमालपुर और गया-किऊल पैसेंजर ट्रेन का परिचालन एक अगस्त से

गया। पूर्व मध्य रेल द्वारा यात्रियों की सुविधा के लिए पहली अगस्त से छह जोड़ी पैसेंजर स्पेशल ट्रेन का परिचालन बहाल होगा। यात्रियों के लिए...

Stay in touch

To be updated with all the latest news, offers and special announcements.