Thursday, August 5, 2021

जाम में घुट गई बिहार के आदर्श की जान : एक मासूम की जान के पीछे दिग्विजय सिंह, लालू प्रसाद यादव, अधीर रंजन...

एक मासूम की जान के पीछे दिग्विजय सिंह, लालू प्रसाद यादव, अधीर रंजन चौधरी, शरद यादव तक के नाम सामने आ रहे हैं। फिर...

खबरों से जुड़े रहने के लिए आज ही डाउनलोड करें Deshaj APP

दरभंगा में कोरोना से मौत के बाद मरी हुई इंसानियत को रातभर जिंदा करते रहे नवीन-बदरुजम्मा

अभी-अभी

41 साल बाद हॉकी में एक नए मनप्रीत युग की शुरुआत: भारत की पुरुष हॉकी टीम की टोक्यो ओलंपिक में ऐतिहासिक जीत, कांस्य के...

ओलंपिक जीत की मुख्य बातें जानिए प्वाइंट में 41 साल के बाद ओलंपिक में पुरुष हॉकी टीम ने पदक जीतकर इतिहास रचा 2.  भारत ने कांस्य...

डॉ.संजय जायसवाल ने कहा-जम्मू-कश्मीर की धरती को जनकल्याण की योजनाओं से जोड़कर मोदी सरकार ने साकार किया सबका साथ, सबका विकास

डॉ.संजय जायसवाल ने कहा-सबका साथ, सबका विकास यानी सभी के सहयोग से चलने, सभी को विकास यात्रा में भागीदार बनाने वाली सरकार  2014 से...

बिहार में आधी रात को खुला था बैंक, हाफ पैंट में पहुंच गए अपराधी और हथियार के बल पर आठ लाख रुपए लेकर चलते...

बिहार में आधी रात को खुला था बैंक, हाफ पैंट में पहुंच गए अपराधी और हथियार के बल पर आठ लाख रुपए लेकर चलते...

Darbhanga AIMS निर्माण को लेकर MSU ने घर-घर से ईट लाने के अभियान का किया श्रीगणेश

दरभंगा। पूर्व घोषित कार्यक्रमा के अनुसार मिथिला स्टूडेंट यूनियन (एमएसयू) द्वारा एम्स ( Darbhanga AIMS ) निर्माण को लेकर घर घर से ईट लाने...

Read Deshaj Magazine For FREE!

  • ये है बुधवार को पटना से कोरोना से मौत के बाद शव के पहुंचने व दाहसंस्कार के पहले के सवाल
  • इंसानियत कहीं मर तो नहीं रही…? 
  • कोरोना संक्रमण से हुई मौत के बाद शव को दफ़नाने या दाह संस्कार करने के खिलाफ क्यों है समाज…?
  • अगर आपके अपने हों तो क्या होगा मगर यहां कई सवाल हैं जिसका जवाब मिलना मुश्किल है, सबको इंतजार है 

    दरभंगा, देशज टाइम्स ब्यूरो। कोरोना महामारी से आम लोगों की जान व काम धंधे को खतरा है। वहीं, इसके संक्रमण से लोगों की मानसिकता भी संक्रमित होती जा रही है। ये खौफ है या अज्ञानता…? विश्व स्वास्थ्य संगठन व शासन-प्रशासन की ओर से सूचना व संचार के विभिन्न माध्यमों से इस महामारी को लेकर बड़े स्तर पर जागरूकता चलाई जा रही है।मगर, हम सुरक्षा को लेकर दी जा रही गाइडलाइन का खुलकर मज़ाक उड़ा रहे है, बिना मास्क के घूम रहे हैं लेकिन पड़ोसी, सगे-संबंधियों की मौत पर संकुचित विचारधारा का परिचय देकर भाग रहे हैं, लोगों को गोलबंद कर स्थानीय कब्रिस्तान व शमशान में दफ़न या दाह संस्कार का विरोध कर रहे हैं।
    जब आप अपने पड़ोसी, अपने मोहल्ले-गांव के मृतक को अपने मोहल्ले या गांव के कब्रिस्तान या शमशान में जगह नहीं देंगे तो दूसरे मोहल्ले-गांव वाले अपने कब्रिस्तान या शमशान में बाहरी को कैसे जगह देंगे। कहां लेकर जाएंगें परिवार जन अपनों के शव को…?ज़रा सोचिए, मृत्यु निश्चित है, हर किसी को प्राप्त होनी है। जो हमारा पड़ोसी या सगे संबंधी इस महामारी से गुज़र गए, उनके परिवार ने कभी ख्याल में भी न सोचा होगा तो नंबर किसी का भी आ सकता है, हां-किसी के पिता का, किसी के पुत्र का, किसी की पत्नी का…खुदा न करे, कहीं आपका कोई अपना गुज़र गया तब भी आप विरोध करेंगे।

    कोरोना संक्रमण से होती मौत के बाद शवों को दफ़नाने या दाह संस्कार को लेकर कमोवेश देश के लगभग सभी हिस्सों में यही स्थिति है। लोगों को जागरूक करने की ज़रूरत है, लोगों को WHO और स्वास्थ्य विभाग की गाइडलाइन को समझाने की ज़रूरत है। उन जन प्रतिनिधियों को भी पहले अपनी अज्ञानता दूर करनी चाहिए जो अपने क्षेत्र के लोगों को समझाने के बदले ऐसी मौत की खबर के बाद स्थानीय लोगों को उकसाने व गोलबंद होकर विरोध करवाने का काम करते हैं।

    आमजन से सहयोग के लिए स्थानीय प्रशासन को पूर्व प्रयास करना चाहिए। इसके लिए जिला से लेकर वार्ड स्तर पर सभी वरीय अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति व अध्यक्षता में वार्ड पार्षद, सभी राजनितिक पार्टी के वार्ड अध्यक्ष, धार्मिक स्थलों के प्रमुख के अलावे हिंदू मुस्लिम समुदाय से पांच-पांच सामाजिक कार्यकर्ताओं, बुद्धिजीवियों की बैठक होनी चाहिए।


इसमें एक घोषणा पत्र पर सामूहिक हस्ताक्षर कर के सुनिश्चित किया जाए,भविष्य में इस तरह की शवों के दफ़नाने या अंत्येष्टि में कोई विवाद या व्यवधान उत्पन्न नही होगा।

कल बुधवार को ही दरभंगा में जो हुआ वह अति निंदनीय व चिंतनीय है। बुधवार को कोरोना से पटना में दरभंगा के एक व्यक्ति की मौत के बाद एक शमशान में दाह संस्कार की व्यवस्था की गई। मगर, शाम सात बजे शव के आने की सूचना पर स्थानीय लोग एकत्रित होकर वहां अंत्येष्टि का विरोध करने लगे।

कई थानों की पुलिस व पदाधिकारी समझाने पहुंचे। शव जलाने से कोरोना का संक्रमण नही फैलता है। लेकिन, इस मुद्दे पर एकजुट स्थानीय लोग अपनी बातों पर अड़े रहे। आक्रोश में चिता के लिए सजी लकड़ियों तक को नदी में फेंंक डाला। अंततः टकराव से अलग हट लोगों को समझाने में असफल पुलिस ने किसी अन्य जगह अंत्येष्टि का मन बनाया। मृतक के परिवार व संबंधी के एक दर्जन लोगों को इसके लिए तैयार कर दूसरे शमशान के लिए मन बना लिया।

मृतक के वार्ड के पार्षद सह उपमहापौर बदरुजम्मा खान व शांति समिति के वरिष्ठ सदस्य नवीन सिन्हा को भी सहयोग के लिए प्रशासन ने आग्रह किया। इस प्रकरण में तब तक रात्रि के बारह बज चुके थे। मृतक के परिजन के साथ शव लेकर ये लोग दूसरे शमशान पहुंचे। गड्ढा खोदने के लिए दो लोग तैयार होकर इस कार्य को तो कर दिया, लेकिन एंबुलेंस से शव पहुंचते ही ये लोग भी चले गए। और तो और मृतक के परिजन में उसके परिवार के चार लोग छोड़ मात्र दो नजदीकी सदस्य ही शमशान तक पहुंचे, बाकी लोग रास्ते से ही छोड़ कर चल दिए। प्रशासन की ओर से पदाधिकारी व पुलिसकर्मी शमशान से थोड़ी दूरी पर तैनात रहे।

अंततः देर रात तीन बजे तक बदरुजम्मा खान व नवीन सिन्हा  ने मात्र दो लोगों की मदद से सड़क से तीन सौ मीटर दूर उबड़-खाबड़ रास्ते से लकड़ी व अंत्येष्टि में प्रयोग होने वाले अन्य सामान शमशान तक पहुंचाया। मृतक के परिजन किसी तरह पीपीई किट पहन शव को चिता तक पहुंचा कर अंत्येष्टि की।  सुबह तीन बजे सभी सुरक्षा मानक अपनाकर ये लोग घर लौटे।

स्वास्थ्य विशेषज्ञ का कहना है, कोरोना से मृत शव के विशेष पैकिंग के बाद उसे खोले बिना अंत्येष्टि करना है ताकि संक्रमण नही फैले। शव जलने के बाद उसके राख से कोई हानि नही होती है। लेकिन इस सबसे अलग लोग भ्रांतियों में पड़कर इंसानियत को तार तार कर रहे हैं।
इसी तरह दो अन्य मुस्लिम समुदाय के कोरोना से मौत के उपरांत भी दो कब्रिस्तान में दफन के विरोध पर अन्य तीसरे कब्रिस्तान में काफी विवाद के बाद कुछ बुद्धिजीवियों के सहयोग से शव की मिट्टी (दफ़न) हो सकी थी।

दरभंगा में अभी तक कोरोना से मृत मुस्लिम व हिंदू दोनों समुदाय के शव निष्पादन में सहयोगी बन कार्य को अंजाम देने वाले समाजसेवी नवीन सिन्हा ने प्रशासन से इस दिशा में लोगों को जागरूक व पूरी जानकारी देने के साथ आगे शव अंत्येष्टि के नियम बनाने की भी मांग की है।

बुधवार को कोरोना से मृत हिंदू शव की अंत्येष्टि में सहयोग करने वाले शहर के उप-महापौर बदरुज़्ज़मां खान के कार्य को असल इंसानियत का कार्य बताते हुए अन्य लोगों से भी सुरक्षा मानक अपनाकर इस विपरीत परिस्थिति में मानवता को ज़िंदा रखने की अपील की है। जानकारी के अनुसार, नवीन सिन्हा  कबीर सेवा संस्थान के सदस्य भी हैं, जिसमें एक दर्जन सदस्य लगातार बारह महीने अपने खर्च पर लावारिस शव की अंत्येष्टि सश्रम करते आ रहे हैं।

पढ़िए खबरें सीधा अपने व्हाट्सएप पर

Latest Posts

41 साल बाद हॉकी में एक नए मनप्रीत युग की शुरुआत: भारत की पुरुष हॉकी टीम की टोक्यो ओलंपिक में ऐतिहासिक जीत, कांस्य के...

ओलंपिक जीत की मुख्य बातें जानिए प्वाइंट में 41 साल के बाद ओलंपिक में पुरुष हॉकी टीम ने पदक जीतकर इतिहास रचा 2.  भारत ने कांस्य...

डॉ.संजय जायसवाल ने कहा-जम्मू-कश्मीर की धरती को जनकल्याण की योजनाओं से जोड़कर मोदी सरकार ने साकार किया सबका साथ, सबका विकास

डॉ.संजय जायसवाल ने कहा-सबका साथ, सबका विकास यानी सभी के सहयोग से चलने, सभी को विकास यात्रा में भागीदार बनाने वाली सरकार  2014 से...

बिहार में आधी रात को खुला था बैंक, हाफ पैंट में पहुंच गए अपराधी और हथियार के बल पर आठ लाख रुपए लेकर चलते...

बिहार में आधी रात को खुला था बैंक, हाफ पैंट में पहुंच गए अपराधी और हथियार के बल पर आठ लाख रुपए लेकर चलते...

Darbhanga AIMS निर्माण को लेकर MSU ने घर-घर से ईट लाने के अभियान का किया श्रीगणेश

दरभंगा। पूर्व घोषित कार्यक्रमा के अनुसार मिथिला स्टूडेंट यूनियन (एमएसयू) द्वारा एम्स ( Darbhanga AIMS ) निर्माण को लेकर घर घर से ईट लाने...

ख़बरें

बिहार के इस गांव में चप्पे-चप्पे पर शराब, दारू, तारी की दुकान…खुलेआम कहते हैं “…मेरा पुलिस कुछ नहीं बिगाड़ सकती ” पढ़िए क्या है...

बिहार के इस गांव में चप्पे-चप्पे पर शराब, दारू, तारी की दुकान...खुलेआम, जानलेवा हमले भी आम हैं, देशज टाइम्स को मिली जानकारी के अनुसार...

बिरौल संतोबा इंटरनेशनल स्कूल का जलवा, दिखाया बच्चों ने दसवीं में कमाल

बिरौल देशज टाइम्स डिजिटल डेस्क। अनुमंडल का +2 उच्चतर का प्रथम मान्यता प्राप्त संतोबा इन्टरनेशनल स्कूल के बच्चों ने इस बार सीबीएसई दशवीं मे...

बिरौल में भूमि निबंधन में ज्योति की इंट्री से अब टेबल पर नहीं स्पॉट पर होने लगे वैरिफिकेशन, जानिए क्या है खास

बिरौल देशज टाइम्स डिजिटल डेस्क। अनुमंडल निबंधन कार्यालय बिरौल के तेजतर्रार व यूवा अवर निबंधक भास्कर ज्योति की पैनी निगाह भूमि रजिस्ट्री के दौरान...

बेनीपुर मदर टेरेसा एकेडमी व मानस इंटरनेशनल स्कूल के छात्रों का दिखा दम, मनवाया लोहा

बेनीपुर।  केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड  की कक्षा दसवीं के परीक्षा में स्थानीय मदर टेरेसा एकेडमी एवं मानस इंटरनेशनल स्कूल के छात्र छात्राओं ने शानदार...

बेनीपुर में भूमि विवाद की सुनवाई, पांच मामलों में जल्द आएगा फैसला

बेनीपुर। अनुमंडल पदाधिकारी  प्रदीप कुमार झा एवं अनुमंडल आरक्षी पदाधिकारी उमेश्वर चौधरी के संजुक्ता अध्यक्षता में मंगलवार को अनुमंडल पदाधिकारी के कार्यालय कक्ष में...

Stay in touch

To be updated with all the latest news, offers and special announcements.