Connect with us

News

असम:11 जिलों में बाढ़, 2,71,655 प्रभावित, आधा दर्जन नदियों में उफान, 2,678 हेक्टेयर फसल डूबे

Published

on

असम:11 जिलों में बाढ़, 2,71,655 प्रभावित, आधा दर्जन नदियों में उफान, 2,678 हेक्टेयर फसल डूबे

गुवाहाटी, देशज न्यूज। कोरोना महामारी के बीच असम में बाढ़ के चलते एक नई समस्या उत्पन्न हो गई है। चक्रवाती तूफान अम्फन आने के साथ ही असम समेत पूरे पूर्वोत्तर में बरसात शुरू हुई जो अभी भी जारी है। मौसम विभाग का कहना है कि बरसात अभी अगले कुछ दिनों तक जारी रहेगी।

लगातार बरसात के कारण असम के धेमाजी, लखीमपुर, नगांव, होजाई, दरंग, बरपेटा, नलबारी, ग्वालपारा, वेस्ट कार्बी आंग्लांग, डिब्रूगढ़, तिनसुकिया समेत 11 जिलों के 2,71,655 से अधिक व्यक्ति बाढ़ से प्रभावित हुए हैं।

लगातार विश्वसनीय, असरदार, करेंट, ब्रेकिंग दरभंगा, मधुबनी से लेकर संपूर्ण मिथिलांचल, देश से विदेशों तक लगातार खबरों के लिए हमसें यहां जुड़ें,

राज्य आपदा विभाग (एएसडीएमए) के अनुसार असम के 11 जिलों के 21 राजस्व सर्किल के 321 गांवों में निवास करने वाले 2,71,655 से अधिक व्यक्ति बाढ़ से प्रभावित हुए हैं। ब्रह्मपुत्र नद जोरहाट जिले के निमातीघाट में खतरे के निशान से  01.06 मीटर ऊपर यानी 86.10 मीटर पर बह रहा है। डिब्रूगढ़ में 104.96 मीटर की चेतावनी लेबल पर, तेजपुर में 64.82 मीटर की चेतावनी लेवल पर बह रहा है। रंगानदी लखीमपुर जिले एनटी रोड क्रासिंग इलाके में 94.04 मीटर की चेतावनी लेवल पर बह रही है। जिया भराली नदी शोणितपुर जिले के एनएच रोड क्रासिंग इलाके में खतरे के निशान से 00.72 मीटर ऊपर 77.72 मीटर पर बह रही है। इसी तरह नगांव जिले के कामपुर में जिया भराली नदी खतरे के निशान से 01.03 मीटर ऊपर यानी 61.07 मीटर पर बह रही है। पुठीमारी नदी कामरूप जिले में एनएच रोड क्रासिंग इलाके में खतरे के निशान से ऊपर यानी  52.20 मीटर पर बह रही है। हालांकि, कुछ नदियां चेतावनी स्तर पर बह रही हैं।

बाढ़ के पानी में 2,678 हेक्टेयर फसल पूरी तरह से डूब गई है। 57 राहत शिविर बनाए गए हैं जबकि राहत सामग्री वितरित करने के लिए 16,720 शिविर बनाए गए हैं। बाढ़ से 28,253 बड़े पशु, 16,078 छोटे तथा 9,350 पोल्ट्री प्रभावित हुए हैं। राहत व बचाव कार्य में एसडीआरएफ व एनडीआरएफ की टीमों को तैनात किया गया है।

09 नावों को भी बाढ़ प्रभावित इलाकों में तैनात किया गया है। बाढ़ प्रभावितों के बीच 137,68 कुंतल चावल, 26,81 कुंतल दाल, 08.04 कुंतल नमक और 804.42 लीटर सरसों का तेल वितरित किया गया है। बाढ़ के दौरान कुछ इलाकों में सड़क, कलवर्ट व कच्चे मकान पूरी तरह से ड़ूब कर क्षतिग्रस्त हो गए हैं। कई इलाकों में नदियों के किनारे काफी कटाव भी हो रहा है जिसके चलते किसानों को काफी नुकसान हुआ है।

145 साल पुराने दरभंगा से पहली बार खबरों का गरम भांप ...असंभव से आगे देशज टाइम्स हिंदी दैनिक। वेब पेज का संपूर्ण अखबार। दरभंगा खासकर मिथिलाक्षेत्रे, हमार प्रदेश, सारा जहां की ताजा खबरें। रोजाना नए कलेवर में। फिल्म-नौटंकी के साथ सरजमीं को समेटे। सिर्फ देशज टाइम्स में, पढि़ए, जाग जाइए।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

News

हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकी मसूद समेत अनंतनाग में तीन आतंकी ढेर

Published

on

हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकी मसूद समेत अनंतनाग में तीन आतंकी ढेर
हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकी मसूद समेत अनंतनाग में तीन आतंकी ढेर
अनंतनाग, देशज न्यूज। अनंतनाग जिले के खुल्चोहर क्षेत्र में सोमवार सुबह हुई एक मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया है। इनमें एक डोडा का रहने वाला आतंकी मसूद भी है जो दुष्कर्म के एक मामले में वंछित था। इसके बाद उसने हिजबुल मुजाहिदीन आतंकी संगठन का दामन थाम लिया था। इन 3 militant killed in anantnag आतंकियों के मारे जाने के बाद जम्मू कश्मीर के डीजीपी ने कहा है कि अब डोडा जिला भी आतंकवाद से मुक्त हो गया है।
जिले के खुल्चोहर इलाके में सुरक्षाबलों को आतंकियों की मौजूदगी की पुख्ता सूचना मिली जिस पर सेना तथा पुलिस की एक टीम ने पूरे क्षेत्र की घेराबंदी करते हुए तलाशी अभियान शुरू किया।
इस दौरान सुरक्षाबलों को पास आते देख आतंकियों ने गोलीबारी शुरू कर दी, जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई। इस मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने क्षेत्र में छिपे तीनों आतंकियों को मार गिराया है। मुठभेड़ स्थल से आतंकवादियों 3 militant killed in anantnag के शव के अलावा एक एके-47 और दो पिस्तौल भी बरामद की गई हैं। सुरक्षाबलों ने अभी भी क्षेत्र में तलाशी अभियान चला रखा है।
जम्मू कश्मीर के डीजीपी ने बताया है कि आज ऑपरेशन में हिजबुल मुजाहिदीन कमांडर मसूद समेत तीन आतंकी मारे गए हैं जिनमें एक लश्कर का जिला कमांडर भी है। उन्होंने कहा कि अब डोडा जिला भी एक बार फिर आतंकवाद से मुक्त हो गया है।
Continue Reading

News

#EarthquakeNews : मिजोरम में लगातार चौथे दिन भूकंप से दहशत, रिक्टर स्केल पर तीव्रता 4.1

Published

on

panic-in-mizoram-for-fourth-consecutive-day-magnitude
#EarthquakeNews : मिजोरम में लगातार चौथे दिन भूकंप से दहशत, रिक्टर स्केल पर तीव्रता 4.1

आइजोल,देशज न्यूज। मिजोरम में पिछले नौ घंटे के दौरान 4.1 व 3.2 तीव्रता के भूकंप महसूस किए गए हैं। वहीं पिछले 21 जून से प्रतिदिन भूकंप आ रहे हैं। भूकंप की तीव्रता 22 जून को सबसे अधिक 5.5 (रिक्टर स्केल पर) दर्ज हुई।

बुधवार सुबह चामफाई से 31 किमी दूर साउथ साउथ वेस्ट में सुबह 08 बजकर 02 मिनट 36 सेकेंड पर 4.1 तीव्रता के भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप के चलते कहीं से किसी भी तरह के नुकसान की खबर नहीं है।

भूकंप का झटका महसूस होते ही लोग अपने घरों से बाहर निकल आए। भूकंप के चलते लोगों में दहशत फैल गई। मौसम विज्ञान केंद्र से मिली जानकारी के अनुसार भूकंप का केंद्र मिजोरम के चम्फाई से 31 किमी दूर साउथ साउथ वेस्ट में जमीन में 10 किमी नीचे बताया गया है। भूकंप का एपीक सेंटर 23.18 उत्तरी अक्षांश तथा 93.25 पूर्वी देशांत्तर पर स्थित था।

वहीं मंगलवार मध्य रात्रि को 11 बजकर 03 मिनट 48 सेकेंड पर चम्फाई से 70 किमी दूर साउथ साउथ ईस्ट में जमीन के अंदर 10 किमी नीचे 3.2 तीव्रता का भूकंप महसूस किया गया। भूकंप का एपीक सेंटर 22.89 उत्तरी अक्षांश तथा 93.64 पूर्वी देशांत्तर पर स्थित था।

मंगलवार देर शाम 07 बजकर 17 मिनट 37 सेकेंड पर 3.7 तीव्रता के भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप का केंद्र मिजोरम के सेरचीप जिला के थेनज्वाल शहर से 39 किमी दूर साउथ ईस्ट में जमीन में 25 किमी नीचे था। भूकंप का एपीक सेंटर 23.01 उत्तरी अक्षांश तथा 93.03 पूर्वी देशांत्तर पर स्थित था।

मिरजोम में लगातार चौथे दिन भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। 21 जून को 5.1 व 22 जून को 5.5 तीव्रता का भूकंप आया था। 22 जून को आए भूकंप की वजह से राजधानी आइजोल में कुछ मकानों को नुकसान हुआ था, जिसके चलते लोगों में दहशत उत्पन्न हो गई थी। एक चर्च के अंदर काफी नुकसान हुआ था, जबकि कई मकानों की दीवारों में दरार पड़ गई थी।

राज्य में लगातार आ रहे भूकंप के झटकों से लोगों में डर का माहौल है। लोग यह मान रहे हैं कि कही बड़े भूकंप की यह कोई चेतावनी तो नहीं है।

Continue Reading

News

यूपी में प्रत्येक थाना, तहसील, ब्लॉक और जेल में होगी कोविड हेल्प डेस्क की स्थापना

Published

on

यूपी में प्रत्येक थाना, तहसील, ब्लॉक और जेल में होगी कोविड हेल्प डेस्क की स्थापना

मेडिकल उपकरणों के इस्तेमाल को हेल्प डेस्क पर तैनात कर्मियों होंगे प्रशिक्षित  

लखनऊ, देशज न्यूज। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रत्येक थाना, चिकित्सालय, राजस्व न्यायालय-तहसील, विकास खण्ड तथा जेल में कोविड हेल्प डेस्क की स्थापना करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि कोविड हेल्प डेस्क पर कोविड-19 के संक्रमण से बचाव सम्बन्धी सावधानियों के पोस्टर लगाए जाए। कोविड हेल्प डेस्क पर पल्स ऑक्सीमीटर, इंफ्रारेड थर्मामीटर तथा सेनिटाइजर की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। मेडिकल उपकरणों के संचालन के सम्बन्ध में कोविड हेल्प डेस्क पर तैनात कर्मियों को प्रशिक्षित किया जाए। इन कर्मियों को मास्क तथा ग्लव्स उपलब्ध कराए जाएं।
कोविड हेल्प डेस्क पर हमेशा एक से दो कर्मी अनिवार्य रूप से रहें उपलब्ध
मुख्यमंत्री मंगलवार को यहां लोक भवन में एक उच्च स्तरीय बैठक में अनलाॅक व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाए कि कोविड हेल्प डेस्क पर हमेशा एक से दो कर्मी अनिवार्य रूप से उपलब्ध रहें। कोविड हेल्प डेस्क का प्रतिदिन प्रातः से सायं तक संचालन किया जाए। प्राइवेट अस्पतालों को भी कोविड हेल्प डेस्क की स्थापना के लिए प्रेरित किया जाए। उन्होंने स्थापित की गईं कोविड हेल्प डेस्क की सूची उपलब्ध कराने के भी निर्देश दिए हैं।
आपदाकाल में अधिकारियों के किए कार्यों का होगा मूल्यांकन
मुख्यमंत्री ने जनपदों में भेजे जाने वाले विशेष सचिव स्तर के अधिकारियों को जनपदों में रहकर स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को बेहतर करने में सम्बन्धित मुख्य चिकित्सा अधिकारी को सहयोग प्रदान करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के आपदाकाल में इन अधिकारियों द्वारा किए जाने वाले कार्यों का विशेष रूप से मूल्यांकन किया जाएगा।
उन्होंने कहा कि टेस्टिंग की संख्या में लगातार वृद्धि की जाए। सर्विलांस व्यवस्था को और बेहतर करने के निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि इस उद्देश्य के लिए जनपदों में विशेष सचिव स्तर के अधिकारी भेजे जा रहे हैं। सर्विलांस कार्य को सुदृढ़ करने से मेडिकल टेस्टिंग की संख्या बढ़ाने में मदद मिलेगी।
हर सप्ताह नियमित तौर पर हो मेडिकल स्क्रीनिंग 
मुख्यमंत्री ने मेडिकल स्क्रीनिंग के कार्य के लिए अविलम्ब एक लाख से अधिक टीम गठित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि टीम के द्वारा प्रत्येक व्यक्ति की हर सप्ताह नियमित तौर पर मेडिकल स्क्रीनिंग का कार्य किया जाए।
टीम के सदस्यों को मास्क, ग्लव्स एवं सेनिटाइजर उपलब्ध कराया जाए। स्क्रीनिंग के पश्चात मेडिकल टेस्टिंग के लिए आवश्यकतानुसार सैम्पल लिए जाएं। लक्षणरहित संक्रमित लोगों को उपचार के लिए कोविड चिकित्सालय में भर्ती किया जाए। उन्होंने ट्रेनिंग, सर्विलांस, मेडिकल टेस्टिंग तथा कोविड हेल्प डेस्क के कार्यों को तेजी से आगे बढ़ाने के निर्देश दिए हैं।
कोविड चिकित्सालयों में बेड की संख्या और बढ़ायी जाए
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड चिकित्सालयों में बेड की संख्या बढ़ाने के लिए निरन्तर प्रयास किए जाएं। कोविड तथा नाॅन कोविड अस्पतालों में प्रोटोकाॅल का पूर्ण पालन करते हुए उपचार किया जाए। अस्पतालों में साफ-सफाई की बेहतर व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। डाॅक्टर तथा नर्सिंग स्टाफ द्वारा नियमित राउण्ड लिया जाए। चिकित्सालय में भर्ती मरीजों की नियमित माॅनिटरिंग की जाए। उन्होंने चिकित्सा कर्मियों को मेडिकल इंफेक्शन से सुरक्षित रखने के लिए ट्रेनिंग पर विशेष बल दिया।
लोगों को संक्रमण के लक्षणों के बारे में किया जाए जागरूक
मुख्यमंत्री ने कहा कि रेडियो तथा टेलीविजन के माध्यम से कोविड-19 से बचाव के सम्बन्ध में जागरूकता का निरन्तर प्रसार किया जाए। पब्लिक एड्रेस सिस्टम का उपयोग करते हुए लोगों को मास्क लगाने, शारीरिक दूरी बनाए रखने तथा संक्रमण के लक्षणों आदि के बारे में जागरूक किया जाए।
उन्होंने मास्क लगाने के लिए प्रवर्तन कार्यवाही में सघनता लाने के निर्देश देते हुए कहा कि पब्लिक एड्रेस सिस्टम के माध्यम से इसके लिए भी लोगों को प्रेरित व जागरूक किया जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि निःशुल्क राशन वितरण का कार्य सुचारु ढंग से कराया जाए। कोविड-19 से बचाव की समुचित सावधानी बरतते हुए खाद्यान्न वितरित किया जाए।
गो-आश्रय स्थलों की व्यवस्था को सुदृढ़ करें
उन्होंने गो-आश्रय स्थलों की व्यवस्था को सुदृढ़ बनाए रखने के निर्देश देते हुए कहा कि बरसात के मौसम में पशु रोगों के दृष्टिगत गोवंश के स्वास्थ्य के प्रति आवश्यक सावधानियां बरती जाएं। उन्होंने अवैध शस्त्रों पर नियंत्रण के लिए त्वरित और सघन अभियान संचालित करने के निर्देश भी दिए।
Continue Reading

लोकप्रिय

Copyright © 2020 Deshaj Group of Print. All Rights Reserved Tingg Technology Solution LLP.