Connect with us

News

महिला प्रोफेसर ने मंगलसूत्र को कुत्ते की चेन बताई, एफआईआर दर्ज

Published

on

महिला प्रोफेसर ने मंगलसूत्र को कुत्ते की चेन बताई, एफआईआर दर्ज
महिला प्रोफेसर ने मंगलसूत्र को कुत्ते की चेन बताई, एफआईआर दर्ज

पणजी, देशज न्यूज। हिंदू धर्म में मंगलसूत्र को सुहाग की निशानी माना जाता है, लेकिन गोवा के लॉ कॉलेज की एक सहायक प्रोफेसर ने मंगलसूत्र को लेकर शर्मनाक टिप्पणी की है. प्रोफसेर ने अपनी फेसबुक पोस्ट में इसका जिक्र भी किया है. इसको लेकर गोवा में विवाद खड़ा हो गया।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, अब राष्ट्रीय हिंदू युवा वाहिनी की शिकायत पर पुलिस ने प्रोफेसर के खिलाफ धार्मिक भावनाएँ भड़काने का मामला दर्ज किया है। ये एफआईआर राष्ट्रीय हिंदू युवा वाहिनी के गोवा यूनिट के राजीव झा ने दर्ज करवाई है।

लगातार विश्वसनीय, असरदार, करेंट, ब्रेकिंग दरभंगा, मधुबनी से लेकर संपूर्ण मिथिलांचल, देश से विदेशों तक लगातार खबरों के लिए हमसें यहां जुड़ें,

हालाँकि, अपनी फेसबुक पोस्ट पर बवाल मचने के बाद प्रोफेसर शिल्पा सिंह ने माफी भी माँगी है।

उन्होंने लिखा, मेरी बातों को गलत तरीके से लिया गया, मैं उन सभी महिलाओं से खेद प्रकट करती हूँ जिन्हें मेरी पोस्ट से दुख हुआ. मैं हमेशा सोचती थी कि शादी के बाद मैरिटल स्टेटस का सिम्बल सिर्फ महिलाओं के लिए क्यों जरूरी है, पुरुषों के लिए क्यों नहीं. ये देखकर निराश हूँ कि मेरे बारे में गलत विचार फैलाए गए. मैं अधार्मिक और नास्तिक नहीं हूं।

145 साल पुराने दरभंगा से पहली बार खबरों का गरम भांप ...असंभव से आगे देशज टाइम्स हिंदी दैनिक। वेब पेज का संपूर्ण अखबार। दरभंगा खासकर मिथिलाक्षेत्रे, हमार प्रदेश, सारा जहां की ताजा खबरें। रोजाना नए कलेवर में। फिल्म-नौटंकी के साथ सरजमीं को समेटे। सिर्फ देशज टाइम्स में, पढि़ए, जाग जाइए।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

News

महिला इंस्पेक्टर ने बिना मास्क के बिजलीकर्मी को जड़ा थप्पड़, साथियों ने 35 गांवों की बत्ती गुल की

Published

on

महिला इंस्पेक्टर ने बिना मास्क के बिजलीकर्मी को जड़ा थप्पड़, साथियों ने 35 गांवों की बत्ती गुल की
महिला इंस्पेक्टर ने बिना मास्क के बिजलीकर्मी को जड़ा थप्पड़, साथियों ने 35 गांवों की बत्ती गुल की

बदायूं, देशज न्यूज। उत्तर प्रदेश के बदायूं में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है. यहां बगैर मास्क लगाए जा रहे बिजली विभाग के एसएसओ (सब स्टेशन ऑपरेटर) की पुलिसकर्मियों से झड़प हो गई। उसनेे महिला इंस्पेक्टर से जेई से बात करानी चाही, लेकिन मोबाइल छीनते हुए महिला इंस्पेक्टर ने उसे थप्पड़ जड़ दिया. इससे नाराज बिजलीकर्मियों ने थाने पहुंचकर धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया और 35 गांवों की बिजली गुल कर दी।

बिजली गुल होने के बाद करीब 10 हजार घरों में अंधेरा हो गया। पुलिस अफसरों के मनाने पर बिजली कर्मचारियों ने अपनी जिद छोड़ी और बिजली सप्लाई बहाल की गई. ऐसे में करीब चार घंटे बिजली गुल रही. सीओ सिटी विनय द्विवेदी ने कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

कुंवरगांव कस्बे का मामला

मामला कुंवरगांव थाना क्षेत्र का है. दरअसल, प्रदेश में अचानक कोरोना के ग्राफ में उछाल आया है. ऐसे में गृह विभाग के दिशा निर्देशों के तहत पुलिस ने बदायूं जिले में बिना मास्क रोड पर टहलने वालों पर जुर्माना लगा रही है. इसी सिलसिले में सोमवार को कुंवरगांव थाने में तैनात इंस्पेक्टर शर्मिला शर्मा कस्बे के मुख्य चौराहे पर बिना मास्क मिलने वालों पर जुर्माना लगा रही थीं. दोपहर करीब एक बजे विद्युत उपकेंद्र पर तैनात एसएसओ सुनील कुमार पेट दर्द की दवा लेने के लिए चौराहे पर पहुंचा था. उसे इंस्पेक्टर ने पकड़ लिया और चालान जमा करने को कहा, लेकिन सुनील के पास रुपए नहीं थे. आरोप है कि उसने अपने एक परिचित से 100 रुपए लेकर इंस्पेक्टर को दिए और जेई सतीश चंद्र से फोन पर बात कराने की कोशिश की।

लेकिन इंस्पेक्टर ने मोबाइल छीन लिया और थप्पड़ जड़ दिया. इसके बाद पुलिस ने एसएसओ को हिरासत में ले लिया और थाने लाकर लॉकअप में बंद कर दिया। यह बात जब उसके साथियों को पता चली तो सभी थाने पर इक_ा हो गए. सुनील को छुड़ाने की मांग को लेकर बिजली कर्मियों ने थाने के बाहर धरना-प्रदर्शन शुरू कर दिया। आसपास के 35 गांवों व कस्बे की बिजली सप्लाई ठप कर दी। शाम करीब 5 बजे सीओ सिटी विनय द्विवेदी मौके पर पहुंचे और उन्होंने लिखित में शिकायती पत्र की मांग करते हुए कार्रवाई का आश्वासन दिया। इसके बाद बिजली कर्मी धरने से उठे।

बिजली कर्मियों से अभद्रता की गई

कुंवरगांव सब स्टेशन पर तैनात एसएसओ जापान सिंह का कहना है कि ड्यूटी पर तैनात कर्मचारी के रात सीने में दर्द हुआ था तो मैंने उससे कहा जाकर तुम दवा ले आओ. मैं ड्यूटी कर रहा हूं। जब वह दवा लेने जा रहा था तो रास्ते में उसका मास्क को लेकर चालान कर दिया. उसे थप्पड़ भी मारा। कर्मचारी को लॉकअप में बंद कर दिया. जब हम लोग पूरे मामले को लेकर बात करने थाने पहुंचे तो हम लोगों के साथ भी अभद्रता की गई।

Continue Reading

News

जॉनसन एंड जॉनसन पाउडर लगाने से महिला को कैंसर! कंपनी देगी 120 मीलियन डॉलर हर्जाना

Published

on

जॉनसन एंड जॉनसन पाउडर लगाने से महिला को कैंसर! कंपनी देगी 120 मीलियन डॉलर हर्जाना
जॉनसन एंड जॉनसन पाउडर लगाने से महिला को कैंसर! कंपनी देगी 120 मीलियन डॉलर हर्जाना

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। बच्चों के हेल्थ केयर प्रोडक्ट बनाने वाली कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन पर न्यूयॉर्क की एक अदालत ने 120 मिलियन डॉलर का जुर्माना लगाया है। न्यूयॉर्क के एक राज्य न्यायाधीश ने एक ब्रुकलिन महिला और उसके पति को 120 मिलियन डॉलर का हर्जाना देने का आदेश दिया है।

यह मामला कुछ साल पहले का बताया जा रहा है। केस करने वाली महिला ने कंपनी पर आरोप लगाया था कि वह काफी समय से जॉनसन के टेल्कम पाउडर का इस्तेमाल करने से उसके स्वास्थ्य को बड़ा नुकसान हुआ है। कोर्ट ने महिला के दावे को सही माना है और कंपनी पर 120 मिलियन डॉलर का जुर्माना लगाया गया है।

महिला के अनुसार, कंपनी के दस्तावेजों से पता चलता है कि उसे 1970 के दशक से ही इस बात की जानकारी थी कि टेल्कम पाउडर से सेहत को नुकसान हो सकता है लेकिन इस बात को छिपाया गया। इसलिए कोर्ट ने महिला के दावे को सही मानते हुए कंपनी पर जुर्माना लगा दिया।

वहीँ, जुर्माना लगाए जाने पर जॉनसन एंड जॉनसन ने मुकदमे करने की अपील करने की बात कही है। उसने कहा है कि वो मुकदमे में “महत्वपूर्ण कानूनी और स्पष्टवादी त्रुटियों” का हवाला देगा। कंपनी ने कहा कि हम कैंसर से पीड़ित के साथ सहानुभूति रखते हैं। हमें विश्वास है कि हमारा पाउडर सुरक्षित है और यह कैंसर का कारण नहीं हो सकता है।

बताते चलें कि इससे पहले भी इसी तरह का एक मामला समाने आ चुका है। लेकिन कंपनी ने इसे दबाने की कोशिश की थी। वहीँ, कंपनी पर उसके बेबी पाउडर में कैंसर कारक तत्व मौजूद होने के 15 हजार से अधिक केस अब तक किए जा चुके हैं। बता दें, बेबी पाउडर की वजह से मेसोथलिओमा हो गया जोकि एक आक्रामक कैंसर है।

भारत में भी जॉनसन एंड जॉनसन के शैंपू में कैंसरकारी तत्वों की पहचान की गई थी। राजस्थान ड्रग कंट्रोल की रिपोर्ट में बेबी शैंपू में कैंसरकारक तत्व पाए गए, जो घातक कैंसर का कारण हो सकते थे।

Continue Reading

News

चचेरी बहन के साथ लिव-इन में रह रहा युवक करना चाहता है शादी, हाईकोर्ट दिया ये निर्देश

Published

on

चचेरी बहन के साथ लिव-इन में रह रहा युवक करना चाहता है शादी, हाईकोर्ट दिया ये निर्देश
चचेरी बहन के साथ लिव-इन में रह रहा युवक करना चाहता है शादी, हाईकोर्ट दिया ये निर्देश

चंडीगढ़: पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने कहा है कि सगे चाचा-ताऊ, मामा-बुआ और मौसी के बच्चों के बीच शादी गैरकानूनी होती है. कोर्ट ने यह बात एक युवक की उस याचिका पर कही जो अपनी चचेरी बहन के साथ लिव इन में रह रहा है. लड़की 17 साल की है और दोनों ‘लिव-इन’ रिश्ते में हैं. युवक अपने पिता के भाई की बेटी से शादी करना चाहता है, जो उसकी रिश्ते की बहन है।

अदालत ने गुरुवार को एक याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि याचिकाकर्ता अपने पिता के भाई की बेटी से शादी करना चाहता है, जो उसकी रिश्ते की बहन है और ऐसा करना अपने आप में गैरकानूनी है. न्यायाधीश ने कहा, ”इस याचिका में दलील दी गई है कि जब भी लड़की 18 साल की हो जाएगी तो वे शादी करेंगे, लेकिन तब भी यह गैरकानूनी है।”

मामले में 21 वर्षीय युवक ने 18 अगस्त को लुधियाना जिले के खन्ना शहर-2 थाने में आईपीसी की धाराओं 363 और 366ए के तहत दर्ज मामले में अग्रिम जमानत का अनुरोध करते हुए पंजाब सरकार के खिलाफ हाईकोर्ट का रुख किया।

राज्य सरकार के वकील ने जमानत अर्जी का विरोध करते हुए दलील दी थी कि लड़की नाबालिग है और उसके माता-पिता ने प्राथमिकी दर्ज कराई थी कि उसके और लड़के के पिता भाई हैं।

युवक के वकील ने जस्टिस अरविंद सिंह सांगवान से कहा कि याचिकाकर्ता ने भी जीवन और स्वतंत्रता के लिए लड़की के साथ आपराधिक रिट याचिका दाखिल की है. इसके अनुसार, लड़की 17 साल की है और याचिकाकर्ता ने याचिका में दलील दी थी कि दोनों ‘लिव-इन’ रिश्ते में हैं. लड़की ने अपने माता-पिता द्वारा दोनों को परेशान किए जाने की आशंका जताई थी।

 

Continue Reading

लोकप्रिय

Copyright © 2020 Deshaj Group of Print. All Rights Reserved Tingg Technology Solution LLP.

%d bloggers like this: