Connect with us

News

BCCI अध्यक्ष क्रिकेटर सौरव गांगुली के भाई को कोरोना,दादा भी क्वारंटाइन, ईडन गार्डन बनेगा सेंटर

Published

on

BCCI अध्यक्ष क्रिकेटर सौरव गांगुली के भाई को कोरोना,दादा भी क्वारंटाइन, ईडन गार्डन बनेगा सेंटर
कोलकाता, देशज न्यूज। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष सौरव गांगुली के भाई स्नेहाशीष गांगुली कोरोना वायरस पॉजिटिव हो गए हैं। इसकी वजह से दादा ने भी खुद को होम क्वॉरेंटाइन कर लिया है। (Sourav Ganguly’s brother Corona positive) स्नेहाशीष को कोरोना संक्रमित होने के बाद कोलकाता के बेल व्यू हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है।
क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बंगाल (सीएबी) के पदाधिकारी स्नेहाशीष को पिछले कुछ दिनों से बुखार आ रहा था। बुधवार को उनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। उसके बाद उन्हें हॉस्पिटल में भर्ती (Sourav Ganguly’s brother Corona positive) कराया गया।
जानकारी के अनुसार, सौरव गांगुली ने बीते 8 जुलाई को परिजनों के साथ अपना जन्मदिन मनाया था। ऐसे में अब वो 10 दिनों के लिए सेल्फ आइसोलेशन में रहेंगे। पिछले महीने भी ऐसी खबरें आई थी कि स्नेहाशीष को (Sourav Ganguly’s brother Corona positive) कोरोना संक्रमित पाया गया है लेकिन उन्होंने उस वक्त उन खबरों का खंडन किया था।
राज्य सरकार के अनुरोध पर बीसीसीआई ने कोलकाता के मशहूर ईडन गार्डन स्टेडियम को भी क्वॉरेंटाइन सेंटर में तब्दील करने का निर्णय लिया है, जिसमें कोलकाता पुलिस के जवानों को कोरोना के लक्षण के दिखने के (Sourav Ganguly’s brother Corona positive) बाद रखा जाएगा।

145 साल पुराने दरभंगा से पहली बार खबरों का गरम भांप ...असंभव से आगे देशज टाइम्स हिंदी दैनिक। वेब पेज का संपूर्ण अखबार। दरभंगा खासकर मिथिलाक्षेत्रे, हमार प्रदेश, सारा जहां की ताजा खबरें। रोजाना नए कलेवर में। फिल्म-नौटंकी के साथ सरजमीं को समेटे। सिर्फ देशज टाइम्स में, पढि़ए, जाग जाइए।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

News

पाकिस्तान में राज कपूर और दिलीप कुमार के पुश्तैनी घर खरीदेगी खैबर पख्तूनख्वा सरकार

Published

on

पाकिस्तान में राज कपूर और दिलीप कुमार के पुश्तैनी घर खरीदेगी खैबर पख्तूनख्वा सरकार
पाकिस्तान में राज कपूर और दिलीप कुमार के पुश्तैनी घर खरीदेगी खैबर पख्तूनख्वा सरकार

कराची, देशज न्यूज।  पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा की प्रांतीय सरकार ने बॉलीवुड के महान अभिनेताओं राज कपूर व दिलीप कुमार के पुश्तैनी घरों को खरीदने का फैसला किया है। केपी सरकार ने यह फैसला जर्जर हालत में पड़ीं इन ऐतिहासिक इमारतों के संरक्षण के लिए किया है। इन पर विध्वंस का खतरा भी मंडरा रहा है।

जानकारी के अनुसार, खैबर पख्तूनख्वा प्रांत में पुरातत्व विभाग ने दोनों इमारतों की खरीद के लिए पर्याप्त राशि आवंटित करने का निर्णय किया है।दोनों अभिनेताओं के पुश्तैनी मकानों को सरकार की ओर से राष्ट्रीय धरोहर घोषित किया जा चुका है। ये इमारतें पेशावर शहर के मध्य में स्थित हैं।

राज कपूर के बेटे और दिग्गज अभिनेता ऋषि कपूर के अनुरोध पर साल 2018 में पाक सरकार ने कपूर हवेली को संग्रहालय में परिवर्तित करने का फैसला किया था। हालांकि, दो साल बाद भी यह फैसला अमल में नहीं आ पाया है. बता दें कि पेशावर में ऐसी करीब 1800 ऐतिहासिक इमारतें हैं जो 300 साल से भी ज्यादा पुरानी हैं।

राज कपूर का पुश्तैनी घर कपूर हवेली प्रसिद्ध किस्सा ख्वानी बाजार में स्थित है। इसका निर्माण दिग्गज अभिनेता के जदादा दीवान बशेस्वरनाथ कपूर ने साल 1918 से 1922 के बीच करवाया था। राज कपूर व उनके चाचा त्रिलोक कपूर का जन्म यहीं हुआ था। प्रांतीय सरकार ने इसे राष्ट्रीय धरोहर घोषित किया था।

पुरात्तव विभाग के अध्यक्ष डॉ. अब्दुस समाद खान ने कहा, पेशावर के डिप्टी कमिश्नर को इस संबंध में एक पत्र भेजा गया है. इस पत्र में दोनों ऐतिहासिक इमारतों की कीमत निर्धारित करने को कहा गया है, जहां भारतीय सिनेमा के दो सितारों का जन्म हुआ और विभाजन से पहले जहां उन्होंने अपना शुरुआती जीवन गुजारा।

बताया, दोनों इमारतों के मालिकों ने प्रमुख स्थान पर होने के चलते व्यावसायिक प्लाजा के निर्माण के लिए इमारतों को ढहाने के कई प्रयास किए, लेकिन इन इमारतों के ऐतिहासिक महत्व को देखते हुए पुरातत्व विभाग ने इनके संरक्षण का फैसला लिया। इन्हें ढहाने की कोशिशों पर रोक लगाई गई।

 

Continue Reading

News

कर्नाटक में भीषण सड़क हादसा, ट्रक-कार की टक्कर में गर्भवती महिला सहित 7 लोगों की मौत

Published

on

कर्नाटक में भीषण सड़क हादसा, ट्रक-कार की टक्कर में गर्भवती महिला सहित 7 लोगों की मौत
कर्नाटक में भीषण सड़क हादसा, ट्रक-कार की टक्कर में गर्भवती महिला सहित 7 लोगों की मौत

बेंगलुरू, देशज न्यूज। कर्नाटक के कलबुर्गी जिले में रविवार सुबह एक कार की एक ट्रक के साथ हुई टक्कर में एक गर्भवती महिला समेत सात लोगों की मौत हो गई। पुलिस ने बताया,सावलागी गांव के पास यह हादसा हुआ, जिसमें चार महिलाओं व तीन पुरुषों की मौत हो गई।

उन्होंने बताया कि ये सातों लोग गर्भवती महिला इरफाना बेगम, अबेदबी, जयचुनबी, रूबिया बेगम, मुनीर, मो.अली व शौखत अलीअलंद तालुक के रहने वाले थे। एक गर्भवती महिला को प्रसव के लिए अस्पताल ले जा रहे थे। उन्होंने बताया, घटना को लेकर मामला दर्ज किया गया है।

अब तक मिली जानकारी के मुताबिक, कालाबुरागी पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज किया गया है। दरअसल, कर्नाटक में सड़क हादसे का यह पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी राज्य में कई सड़क हादसे हो चुके हैं।

Continue Reading

News

लखनऊ में बुद्धिजीवियों का जुटान, हिंदी साहित्य लेखन स्वतंत्र व निष्पक्ष रखने पर दिखा जोर

Published

on

लखनऊ में बुद्धिजीवियों का जुटान, हिंदी साहित्य लेखन स्वतंत्र व निष्पक्ष रखने पर दिखा जोर
लखनऊ में बुद्धिजीवियों का जुटान, हिंदी साहित्य लेखन स्वतंत्र व निष्पक्ष रखने पर दिखा जोर

फणींद्र तिवारी लखनऊ, देशज टाइम्स। मार्तण्ड साहित्यिक, सांस्कृतिक व समाजिक संस्था, लखनऊ के तत्त्वावधान में हिंदी पखवाड़े की पंचम काव्य गोष्ठी छत्तीसगढ़ की लोकप्रिय लोक गायिका, साहित्यकार व शिक्षिका लक्ष्मी करियारे  की अध्यक्षता व सुरेश कुमार राजवंशी के संयोजन व कुशल संचालन में संपन्न हुई।

कार्यक्रम का शुभारंभ उत्तराखंड के रामरतन यादव  की वाणी वंदना से हुआ। ऐसा वर दो मातु शारदे मिट जाए मन का अभिमान। लक्ष्मी करियारे ने हिंदी पखवाड़े की पंचम ई सरस काव्य गोष्ठी के अवसर पर कहा, हिंदी साहित्य ही समाज का वास्तविक दर्पण हो सकता है। हिंदी साहित्य लेखन स्वतंत्र व निष्पक्ष होना चाहिए। किसी धर्म या जाति व व्यक्ति विशेष के आधार पर नहीं होना चाहिए। साहित्य का सृजन सर्व समाज के हित को ध्यान में रखकर ही किया जाना चाहिए, साथ ही हिंदी राजभाषा को राष्ट्र भाषा बनाने पर अधिक बल देते कहा, हिंदी हमारे देश की सर्वाधिक बोले जाने वाली तीसरी भाषा है। हिंदी भाषा ही हम सब को समाज से जोड़ने का कार्य करती है।

हमें वैज्ञानिक दृष्टिकोण के आधार पर तर्कसंगत होना चाहिए, जो रूढ़िवादिता से परे हो। सभी कलमकारों को हिंदी पखवाड़े की पंचम सरस गोष्टी व कवि सम्मेलन के अवसर पर हमारी सभी कलमकारों/विदुषी/ विद्वानों को बहुत-बहुत शुभकामनाएँ । कवियत्री सुश्री लक्ष्मी करियारे ने सीमा पर शहीद हुए जांबाज रणबांकुरे की मां की हृदय विदारक संवेदना को अपनी छत्तीसगढ़ी भाषा में कुछ इस तरह सुनाया, सभी की आंख नम हो गई – मोरे राजा दुलरूवा बेटा तुलाकुनि बनिजांऊ मैं खोजूं, भारत भुइयां पर प्राण गवाई।

कवि पंडित बेअदब लखनवी ने पंकज पलाॅस की सुंदर गज़ल – साया बना के रांझे का एक हीर खींच दी, लफ्ज़े वफ़ा की हुबहू तस्वीर खींच दी, पढकर सभी का दिल जीत लिया । वहीं संचालक कवि सुरेश कुमार राजवंशी ने- आयी शाम सुहावनी, खेलू प्रीतम संग, खेल खेल में यूं लगी, साजन तेरे अंग। सुनाकर वाहवाही लूटी।

कवि सत्यपाल सिंह “सजग”ने – चांद निरखते मधुर मिलन की बीत न जाए रात, प्रीतम कहिए मन की बात। सुनाया तो कवि रामरतन यादव ने – बेटी की किलकारी घर में, सुनाकर वाहवाही लूटी। कवि प्रेम शंकर शास्त्री “बेताब” ने वीर सैनिकों की शान में पढ़ा- सरहदें हम बचाते रहे रात -दिन, जान अपनी लुटाते रहे रात-दिन ,माटी चंदन बनी ये मेरे देश की , तन पे उसको लगाते रहे रात-दिन।

कवि सरस्वती प्रसाद रावत ने- धर्म के नाम भारत की आवाम को बंटते देखा है। छत्तीसगढ़ के ही कवि सूरज श्रीवास ने मां की महिमा का बखान करते हुए पढ़ा – मां मेरी भोली भाली है, दुनिया से निराली है। तो कवयित्री रेनू वर्मा ने -बैठ किनारे देख रही थी सागर की गहराई में, डूब रहा था मेरा सूरज अंबर की अंगनाई में ।सुनाकर सभी को भावविभोर कर दिया।

कवि बी सी मेवाती ने – जो शुकून अपने में, वो परायों में कहां, जब अपने ही रूंठ जाएं, तो फिर शिकायत कहां। कार्यक्रम में उपस्थित कवि सर्व पं. बे अदब लखनवी, कवि एस के राजवंशी, कवि सत्यपाल सिंह “सजग” उत्तराखंड, कवयित्री शुचिता अजय श्रीवास्तव उत्तराखंड, कवि रामरतन यादव उत्तराखंड, कवि महेंद्र नारायण पंकज, मधेपुर बिहार, कवि बीसी मेवाती, कवि एस.पी.रावत कवयित्री रेनू वर्मा, कवि प्रेम शंकर शास्त्री बेताब सहित लगभग बीस कवियों ने समसामयिक रचनाओं को सुनाकर श्रोताओं की तालियां बटोरी। अंत में संस्था के अध्यक्ष श्री सरस्वती प्रसाद रावत ने धन्यवाद ज्ञापित कर समारोह का समापन किया।लखनऊ में बुद्धिजीवियों का जुटान, हिंदी साहित्य लेखन स्वतंत्र व निष्पक्ष रखने पर दिखा जोर

Continue Reading

लोकप्रिय

Copyright © 2020 Deshaj Group of Print. All Rights Reserved Tingg Technology Solution LLP.

%d bloggers like this: