Connect with us

Delhi

पुलवामा मुठभेड़ में जैश-ए-मोहम्मद के तीन आतंकी ढेर, हथियार व गोला-बारूद बरामद

Published

on

पुलवामा मुठभेड़ में जैश-ए-मोहम्मद के तीन आतंकी ढेर, हथियार व गोला-बारूद बरामद
पुलवामा,देशज न्यूज। पुलवामा जिले के कंगन क्षेत्र में बुधवार सुबह आतंकियों व सुरक्षाबलों के बीच हुई मुठभेड़़ में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया है। आतंकियों के शवों के साथ भारी मात्रा में हथियार व गोला-बारूद बरामद हुआ है।
क्षेत्र में सुरक्षाबलों की ओर से फिलहाल तलाशी अभियान जारी है। मारे गए सभी आतंकी जैश-ए-मोहम्मद संगठन से संबंधित हैं। फिलहाल इन आतंकियों की पहचान नहीं हो सकी है। वहीं मुठभेड़ के दौरान हिंसक प्रदर्शनों की आशंका के चलते प्रशासन ने जिले में मोबाइल इंटरनेट सेवा को बंद कर दिया है।
जानकारी के अनुसार बुधवार तड़के जिले के कंगन के अंतर्गत अस्तान मोहल्ला में आतंकियों की मौजूदगी की गुप्त सूचना प्राप्त हुई। सूचना मिलते ही सेना की 55 आरआर, सीआरपीएफ 183 बटालियन तथा एसओजी की एक संयुक्त टीम ने पूरे क्षेत्र की घेराबंदी करके तलाशी अभियान शुरू किया।
तलाशी अभियान के दौरान क्षेत्र में छिपे आतंकियों ने सुरक्षाबलों को पास आते देख गोलीबारी की, जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई। इस मुठभेड़ में सुरक्षाबलों तीनों आतंकियों को मार गिराया है। क्षेत्र में फिलहाल अन्य आतंकियों की संभावना के चलते तलाशी अभियान जारी है।
वहीं जम्मू कश्मीर पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह ने भी पुलवामा मुठभेड़ की पुष्टि करते हुए कहा कि जैश-ए-मोहम्मद के तीनों आतंकी मार गिराए गए हैं, जबकि इस दौरान हथियार तथा गोला-बारूद भी बरामद किया गया है।

145 साल पुराने दरभंगा से पहली बार खबरों का गरम भांप ...असंभव से आगे देशज टाइम्स हिंदी दैनिक। वेब पेज का संपूर्ण अखबार। दरभंगा खासकर मिथिलाक्षेत्रे, हमार प्रदेश, सारा जहां की ताजा खबरें। रोजाना नए कलेवर में। फिल्म-नौटंकी के साथ सरजमीं को समेटे। सिर्फ देशज टाइम्स में, पढि़ए, जाग जाइए।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi

1 अक्टूबर से रोजमर्रा की जरूरतों में हो रहा बड़ा बदलाव,बैंक-वाहन, डीएल के बदलेंगे नियम

Published

on

1 अक्टूबर से रोजमर्रा की जरूरतों में हो रहा बड़ा बदलाव,बैंक-वाहन, डीएल के बदलेंगे नियम
1 अक्टूबर से रोजमर्रा की जरूरतों में हो रहा बड़ा बदलाव,बैंक-वाहन, डीएल के बदलेंगे नियम

नई दिल्ली, देशज न्यूज। देश में जारी कोरोना संकट के बीच एक अक्टूबर से रोजमर्रा की कई चीजें बदलने वाली है। ड्राइविंग लाइसेंस-डीएल रखने की टेंशन खत्म हो जाएगी। दुकानदार पुरानी मिठाई नहीं बेच सकेंगे। एक अक्टूबर से देश से बाहर पैसा भेजने पर भी टीसीएस कटेगा। साथ ही बैंकिंग व मोटर वाहन सहित अन्य नियमों में बदलाव होने जा रहे हैं। एक अक्टूबर से मोटर वाहन नियम, रसोई गैस व उज्जवला योजना समेत कई नियम बदल रहे है।

 जानकारी के अनुसार, दुकानदार पुरानी मिठाई नहीं बेच सकेंगे।  खाद्य नियामक एफएसएसएआई ने इसे 1 अक्टूबर से अनिवार्य बनाया है। एफएसएसएआई ने खाने की चीज की सेफ्टी तय करने के तहत खाने का सामान बेचने वाले ग्राहकों के लिए 1 अक्टूबर से खुली मिठाइयों पर इस्तेमाल की समय सीमा प्रदर्शित करना जरूरी कर दिया है.

इसके अलावे, टीवी खरीदना महंगा होने  जा रहा है।  सरकार ने ओपन सेल के आयात पर 5 फीसदी सीमा शुल्क बहाल करने का फैसला किया है। इसके लिए सरकार ने एक साल की छूट दी थी, जो 30 सितंबर को खत्म हो जाएगी. इससे 32 इंच के टीवी का दाम 600 रुपए और 42 इंच का दाम 1,200 से 1,500 रुपए तक बढ़ जाएंगे। वहीं, मोटर वाहन नियमों में बदलाव होने जा रहा है। वाहन संबंधी जरूरी डॉक्युमेंट्स जैसे-लाइसेंस, रजिस्ट्रेशन डॉक्युमेंट्स, फिटनेस सर्टिफिकेट, परमिट्स आदि को सरकार की ओर से संचालित वेब पोर्टल के माध्यम से मेंटेन किया जा सकेगा। अब आप डिजिटल कॉपी दिखाकर ही काम चला सकते हैं। इस वेब पोर्टल पर लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन के सस्पेंशन, कंपाउंडिंग और रिवोकेशन समेत ई-चालान जैसे अपराधों का रिकॉर्ड भी उपलब्ध होगा।

ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना आसान होने जा रहा है। सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने कहा कि उसने मोटर वाहन नियम 1989 में किए गए तमाम संशोधनों के बारे में नोटिफिकेशन जारी किया गया है, जिसमें मोटर वाहन नियमों की बेहतर निगरानी व उन्हें लागू करने के लिए एक अक्टूबर 2020 से पोर्टल के माध्यम से वाहन संबंधी दस्तावेजों और ई-चालान का रखरखाव किया जा सकेगा. नए नियमों के तहत अब ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए आपको ज्यादा डॉक्यूमेंट्स की जरूरत नहीं पड़ेगी. केंद्र सरकार ने डीएल बनवाने के लिए नियमों को आसान कर दिया है।

अब एलपीजी सिलेंडर फ्री नहीं मिलेगा। सरकार की लोकप्रिय योजना प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत मुफ्त गैस सिलेंडर की अवधि 30 सितंबर 2020 को खत्म हो रही है। सरकार इस योजना के तहत गरीबों को मुफ्त एलपीजी कनेक्शन देती है। कोरोना के चलते इस योजना के तहत मुफ्त सिलेंडर भी दिया गया। इसकी तारीख को अप्रैल से सितंबर तक बढ़ाया गया था। वहीं, 1 अक्टूबर को गैर-सब्सिडी वाले एलपीजी सिलेंडर व कामर्शियल गैस के रेट भी रिवाइज होंगे।

ट्रांजैक्शन पर टैक्स लगेगा। केंद्र सरकार ने विदेश पैसे भेजने पर टैक्स वसूलने से जुड़ा नया नियम बना दिया है। ऐसे में अगर आप विदेश में पढ़ रहे अपने बच्चे के पास पैसे भेजते हैं या किसी रिश्तेदार की आर्थिक मदद करते हैं तो रकम पर 5 फीसदी टैक्स कलेक्टेड एट सोर्स (टीसीएस) का अतिरिक्त भुगतान करना होगा। फाइनेंस एक्ट, 2020 के मुताबिक, रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की लिबरलाइज्ड रेमिटेंस स्कीम (एलआरएस) के तहत विदेश पैसे भेजने वाले व्यक्ति को टीसीएस देना होगा. एलआरएस के तहत 2.5 लाख डॉलर सालाना तक भेज सकते हैं, जिस पर कोई टैक्स नहीं लगता. इसी को टैक्स के दायरे में लाने के लिए टीसीएस देना होगा.

हेल्थ इंश्योरेंस के तहत मिलेंगी अधिक सुविधाएं। बीमा नियामक आईआरडीएआई के नियमों के तहत हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी में एक बड़ा बदलाव होने वाला है. 1 अक्टूबर से सभी मौजूदा और नए हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसीज के तहत किफायती दर पर अधिक बीमारियों का कवर उपलब्ध होगा. यह बदलाव हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी को स्टैंडर्डाइज्ड व कस्टमर सेंट्रिक बनाने के लिए किया जा रहा है. इसमें कई अन्य बदलाव भी शामिल हैं. बीमा नियामक प्राधिकरण इरडा (इरडा) ने उन नियमों में बदलाव किया, जिससे लोगों को फायदा होगा। इसके अलावा कंपनियां अपनी मनमर्जी से क्लेम को रिजेक्ट नहीं कर पाएंगी।

घर बैठे मिलेंगी वित्तीय सेवाएं बैंक ग्राहकों को अभी घर बैठे-बैठे चेक, डिमांड ड्राफ्ट, पे ऑर्डर पिक करने जैसी गैर-वित्तीय सेवाएं ही मिलती हैं। इसके अलावा एफडी के ब्?याज पर लगने वाला टैक्स बचाने के लिए जमा किए जाने वाले फॉर्म-15जी व 15एच, आयकर या जीएसटी चालान पिक करने के साथ ही अकाउंट स्टेटमेंट रिक्वेस्ट, टर्म डिपॉजिट रसीद की डिलीवरी की सुविधा भी ग्राहकों को घर पर ही उपलब्ध कराई जाती है। डोरस्टेप बैंकिंग सर्विस लॉन्च होने के बाद अब वित्तीय सेवाएं अक्टूबर 2020 से घर पर ही उपलब्ध होंगी।

Continue Reading

Delhi

अक्टूबर का काम अभी निबटा लें, अक्टूबर में 15 दिन बंद रहेंगे बैंक, जानिए कब-कब है छुट्‌टी

Published

on

अक्टूबर का काम अभी निबटा लें, अक्टूबर में 15 दिन बंद रहेंगे बैंक, जानिए कब-कब है छुट्‌टी
अक्टूबर का काम अभी निबटा लें, अक्टूबर में 15 दिन बंद रहेंगे बैंक, जानिए कब-कब है छुट्‌टी

नई दिल्ली, देशज न्यूज। 4 अक्टूबर (रविवार) साप्ताहिक अवकाश,08 अक्टूबर (गुरुवार) चेहल्लुम स्थानीय छुट्टी,10 अक्टूबर (शनिवार) सेकेंड सैटरडे, 11 अक्टूबर (रविवार) साप्ताहिक अवकाश, 17 अक्टूबर (शनिवार) छुट्टी, 18 अक्टूबर (रविवार) साप्ताहिक अवकाश, 23 अक्टूबर (शुक्रवार) दुर्गा पूजा-महासप्तमी, 24 अक्टूबर (शनिवार) महाअष्टमी-महानवमी, 25 अक्टूबर (रविवार) साप्ताहिक अवकाश, 26 अक्टूबर (सोमवार) दुर्गा पूजा, विजयादशमी, 29 अक्टूबर (गुरुवार) पैगंबर मोहम्मद जयंती, 30 अक्टूबर (शुक्रवार) ईद-ए-मिलाद, 31 अक्टूबर (शनिवार) महर्षि वाल्मिकी व सरदार पटेल की जयंती यह कोई कैंलेंडर नहीं है आपके घर का। यह अक्टूबर महीनें का पूरा हिसाब है जो बैंक के किताब से मेल नहीं खाएगी। यानी, अक्टूबर में इन तारीखों को बैंक बंद रहेंगे। मतलब साफ, आगामी माह बैंक की छुट्टियों की भरमार है।

जानकारी के अनुसार, छुट्टियों की पूरी लिस्ट देखने पर साफ है,इस अक्टूबर में रविवार, सेकेंड सैटरडे के सथ गजेटेड व स्थानीय छुट्टियों को मिलाकर करीब 15 दिन बैंक बंद रहेंगे। जिन लोगों को बैंकों में लगातार काम रहता है, उनके लिए यह जान लेना बहुत जरूरी है। आखिर, किन-किन दिन बैंक बंद रहेंगे।

अगर इस माह आपको बैंक से जुड़े काम-काज निपटाने हैं तो छुट्टियों की लिस्ट पहले ही देख लें जो देशज पर आपको सबसे पहले उपलब्ध है।अक्टूबर की शुरुआत ही दो अक्टूबर गांधी जयंती की राष्ट्रीय अवकाश से शुरू हो रही है। इस महीने दूर्गा पूजा, महास्प्तमी, महानवमी, दशहरा, मिलाद-ए-शरीफ, ईद-ए-मिलाद-उल-नबी बारावफात, लक्ष्मी पूजा, सरदार वल्लभभाई पटेल जयंती / महर्षि वाल्मीकि जयंती / कुमार पूर्णिमा पर कई जगह बैंक बंद रहेंगे।

Continue Reading

Delhi

शाहीनबाग की दादी ने कहा, मैं मोदी से नहीं डरती हूं, बेटे जैसे हैं, मौका मिला तो जरूर मिलूंगी

Published

on

शाहीनबाग की दादी ने कहा, मैं मोदी से नहीं डरती हूं, बेटे जैसे हैं, मौका मिला तो जरूर मिलूंगी
शाहीनबाग की दादी ने कहा, मैं मोदी से नहीं डरती हूं, बेटे जैसे हैं, मौका मिला तो जरूर मिलूंगी

नई दिल्ली, देशज न्यूज। टाइम्स मैगजीन की सौ प्रभावशाली हस्तियों में शामिल शाहीनबाग की बिल्किस दादी ने कहा, मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से नहीं डरती। वह तो उनके बेटे के समान हैं। मौका मिला तो जरूर मिलूंगी। वैसे पीएम मोदी भी उसी टाइम्स की हस्तियों में शामिल हैं जहां दादी हैं।

जानकारी के अनुसार बिल्किस दादी सीएए के खिलाफ शाहीन बाग के आंदोलन के दौरान प्रमुख चेहरा बनकर उभरी थीं। टाइम्स की सूची में आने के बाद वे न सिर्फ भारत बल्कि दुनिया में भी सुर्खियों में आ गई हैं।

एक सवाल के जवाब में बिल्किस ने कहा, यदि प्रधानमंत्री मोदी उन्हें मिलने के लिए बुलाते हैं तो वे खुशी से उनसे मुलाकात करेंगी. इसमें डरने वाली बात कौनसी है। मैं तो उनके लिए मां जैसी हूं। दादी ने मोदी को टाइम्स की सूची में आने पर बधाई भी दी।

शाहीनबाग आंदोलन के वक्त के अनुभवों को साझा करते हुए दादी ने कहा, ठंड, गर्मी, बारिश के बावजूद हमने प्रदर्शन जारी रखा. हम उस वक्त भी नहीं हटे जब जामिया में बच्चों की पुलिस की ओर से पिटाई की गई।

Continue Reading

लोकप्रिय

Copyright © 2020 Deshaj Group of Print. All Rights Reserved Tingg Technology Solution LLP.

%d bloggers like this: