Connect with us

Delhi

अंतरराज्यीय शराब तस्कर मधुबनी का मो.यूसुफ दिल्ली में गिरफ्तार, दिल्ली से बिहार भेजता था शराब

Published

on

अंतरराज्यीय शराब तस्कर मधुबनी का मो.यूसुफ दिल्ली में गिरफ्तार, दिल्ली से बिहार भेजता था शराब
नई दिल्ली, देशज न्यूज। मध्य दिल्ली की स्पेशल स्टाफ पुलिस ने अंतरराज्यीय शराब तस्कर को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने आरोपित के कब्जे से कई पेटी अवैध शराब बरामद की है। ये शराब बिहार सप्लाई की जानी थी। आरोपित की पहचान मोहम्मद यूसुफ (40) के रूप में हुई, जो कि जिला मधुबनी बिहार का रहने वाला है। Central Staff Police arrested
मध्य ज‍िले के डीसीपी संजय भाटिया ने शुक्रवार को बताया कि पुल‍िस टीम को एक गुप्त सूचना मिली की रेलवे स्टेशन के आसपास एक शराब तस्कर बिहार के लिए शराब तस्करी करने वाला है। स्पेशल स्टाफ के एसीपी की देखरेख में एक टीम का गठन क‍िया। इस बीच पुल‍िस को जानकारी मिली की इस शराब को हरियाणा से सड़क मार्ग से फरीदाबाद होते हुए दिल्ली लाया गया है, जिसके बाद इसे बिहार पार्सल किया जाना है।
डीसीपी के अनुसार, स्पेशल स्टाफ के एसआई सतवीर को 8:45 पर एक युवक मेट्रो स्टेशन के गेट नंबर-4 के पास भभूति मार्ग के पास खड़ा मिला। पुल‍िस ने शक के आधार पर मोहम्मद यूसुफ को पकड़ लिया। पुलिस ने उसके पास मौजूद पार्सल की तलाशी की तो उसके अंदर थर्मोकोल के कार्टून से अवैध शराब बरामद हुई।Central Staff Police arrested
कार्टून में पैक कर बिहार पार्सल
पुलिस ने बताया कि जब आरोपित मोहम्मद यूसुफ से पूछताछ की गई तो उसने बताया कि बिहार में शराबबंदी हो चुकी है। ऐसे में वह पैसे कमाने के लिए दिल्ली से बिहार अवैध रूप से शराब की सप्लाई करता है। शराब को हरियाणा से खरीद कर सड़क मार्ग के द्वारा फरीदाबाद तक पहुंचाया था फिर दिल्ली लेकर आता था। जिसके बाद यूसुफ शराब को कार्टून में पैक कर बिहार पार्सल करता था। लंबे समय से मोहम्मद यूसुफ और बिहार में मौजूद उसका परिवार अवैध शराब के कारोबार में लिप्त है।
मोटा मुनाफा कमाने की चाह
पुलिस ने बताया कि मोहम्मद यूसुफ बेरोजगार है और बिहार के मधुबनी का रहने वाला है। आसान तरीके से पैसे कमाने की चाह रखता है। जिसके लिए उसने अवैध शराब की सप्लाई का प्लान बनाया क्योंकि बिहार में शराबबंदी हो चुकी है। ऐसे में यहां से शराब सप्लाई कर महंगे दामों पर बिहार में बेच मुनाफा कमाना इसका मकसद था।
Central Staff Police arrested

145 साल पुराने दरभंगा से पहली बार खबरों का गरम भांप ...असंभव से आगे देशज टाइम्स हिंदी दैनिक। वेब पेज का संपूर्ण अखबार। दरभंगा खासकर मिथिलाक्षेत्रे, हमार प्रदेश, सारा जहां की ताजा खबरें। रोजाना नए कलेवर में। फिल्म-नौटंकी के साथ सरजमीं को समेटे। सिर्फ देशज टाइम्स में, पढि़ए, जाग जाइए।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi

CoronaUpdate- देश में कोरोना से ठीक होने वाले लोगों का प्रतिशत बढ़कर हुआ 70.68

Published

on

CoronaUpdate- देश में कोरोना से ठीक होने वाले लोगों का प्रतिशत बढ़कर हुआ 70.68

-पिछले 24 घंटों में आए 66,999 नए मामले, 942 की मौत

नई दिल्ली, 13 अगस्त (हि.स.)। देश में कोरोना के मरीजों की संख्या 24 लाख के करीब पहुंच गई है। पिछले 24 घंटों में कोरोना के 66 हजार 999 नए मामले सामने आए हैं। इसके साथ कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़कर 23,96,638 पर पहुंच गई है। वहीं कोरोना से पिछले 24 घंटों में 942 लोगों की मौत हो गई। इस तरह कोरोना संक्रमण से मरने वालों की संख्या 47,033 तक पहुंच गई है। corona update— 70.68 percent recovery rate
केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक देश में 6,53,622 एक्टिव मरीज हैं। वहीं, राहत भरी खबर भी है देश में पिछले 24 घंटे में 56 हजार से ज्यादा मरीज स्वस्थ हुए हैं। इसके साथ ही कोरोना से अबतक 16,95,982 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। देश का रिकवरी रेट बढ़कर 70.68 प्रतिशत हो गया है। corona update— 70.68 percent recovery rate
Continue Reading

Delhi

कोरोना से देश के हर दिल अजीज मशहूर शायर राहत इंदौरी की मौैत, उदास हो गई शायरी

Published

on

कोरोना से देश के हर दिल अजीज मशहूर शायर राहत इंदौरी की मौैत, उदास हो गई शायरी

कोरोना से देश के हर दिल अजीज मशहूर शायर राहत इंदौरी की मौैत, उदास हो गई शायरीनई दिल्ली,देशज न्यूज। देश के मशहूर शायर राहत इंदौरी का निधन हो गया है। इंदौर अरबिंदो अस्पताल में भर्ती थे। दिल का दौरा पड़ने से उनका निधन हो गया। आज ही मंगलवार को मशहूर शायर राहत इंदौरी की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। जिसकी जानकारी उन्होंने खुद ट्वीट कर दी थी। country famous poet Rahat Indori is no more

इंदौरी मशहूर शायर थे। साथ ही वह बॉलीवुड के लिए भी कई गाने लिखते आए हैं। राहत इंदौरी की उम्र 70 साल थी। ऐसे में उन्हें डॉक्टरों की सलाह पर अस्पताल में भर्ती किया गया था।

उन्होंने कहा था कि कोरोना के शरुआती लक्षण दिखाई देने पर कल मेरा कोरोना टेस्ट किया गया, जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है। ऑरबिंदो हॉस्पिटल में एडमिट हूं। दुआ कीजिये जल्द से जल्द इस बीमारी को हरा दूं। उन्होंने लोगों से अपील की थी कि स्वास्थ्य के बारे में जानकारी के लिए बार-बार उन्हें या फिर परिवार को फोन न करें, इसकी जानकारी ट्विटर और फेसबुक के माध्यम से सभी को मिलती रहेगी।country famous poet Rahat Indori is no more

Continue Reading

Delhi

SC का फैसला : पिता की प्रॉपर्टी में बेटी का हर हाल में आधा हिस्सा, बेटियां हमेशा बेटियां रहती है

Published

on

SC का फैसला : पिता की प्रॉपर्टी में बेटी का हर हाल में आधा हिस्सा, बेटियां हमेशा बेटियां रहती है

बेटे शादी तक, लेकिन बेटियां हमेशा बेटियां रहती हैं, संपत्ति पर बराबर हक, सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाते हुए कहा है कि बेटियों का पिता की संपत्ति पर अधिकार होगा, भले ही हिंदू उत्तराधिकार (अमेंडमेंट) अधिनियम, 2005 के लागू होने से पहले ही कोपर्शनर की मृत्यु हो गई हो। हिंदू कानून के तहत प्रॉपर्टी दो तरह की हो सकती है, एक पिता की ओर से खरीदी हुई, दूसरी पैतृक संपत्ति होती है, जो पिछली चार पीढ़ियों से पुरुषों को मिलती आई है। कानून के मुताबिक, बेटी हो या बेटा ऐसी प्रॉपर्टी पर दोनों का जन्म से बराबर का अधिकार होता है

 

नई दिल्ली, देशज न्यूज। सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court of India) ने एक अहम फैसले में बेटियों को भी पिता या पैतृक संपत्ति में बराबर का हिस्सेदारा माना है। जस्टिस अरुण मिश्रा की बेंच के फैसले में साफ कहा गया है कि ये उत्तराधिकार कानून 2005 में संशोधन की व्याख्या है। कोर्ट ने अपनी अहम टिप्पणी में कहा, बेटियां हमेशा बेटियां रहती हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने हिंदू अविभाजित परिवार की संपत्तियों में बेटियों के पक्ष में फैसला सुनाया है। जस्टिस अरुण मिश्रा की अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा कि 9 सितम्बर 2005 के संशोधन के बाद बेटी का भी संपत्ति पर हिस्सा होगा, भले ही संशोधन के समय पिता जीवित था या नहीं। कोर्ट ने कहा कि बेटियां जीवन भर के लिए होती हैं औऱ एक बार जो बेटी होती है वह हमेशा बेटी ही रहती है।
उल्लेखनीय है कि साल 2005 से पहले हिंदू उत्तराधिकार कानून में बेटियों को शादी से पहले तक ही हिंदू अविभाजित परिवार का हिस्सा माना जाता था लेकिन 2005 में संशोधन के बाद बेटी की शादी होने के बाद भी संपत्ति में समान उत्तराधिकारी माना गया है। यानी बेटी की शादी होने के बाद भी वह पिता की संपत्ति में अपना दावा कर सकती है और हिस्सा ले सकती है।

 

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court of India) ने बड़ा फैसला सुनाते हुए कहा है कि बेटियों का पैतृक संपत्ति पर अधिकार होगा, भले ही हिंदू उत्तराधिकार (अमेंडमेंट) अधिनियम, 2005 के लागू होने से पहले ही कोपर्शनर की मृत्यु हो गई हो. हिंदू महिलाओं को अपने पिता की प्रॉपर्टी में भाई के बराबर हिस्सा मिलेगा. दरअसल साल 2005 में ये कानून बना था कि बेटा और बेटी दोनों को अपने पिता के संपत्ति में समान अधिकार होगा।

 

लेकिन ये साफ नहीं था कि अगर पिता का देहांत 2005 से पहले हुआ तो क्या ये कानून ऐसी फैमिली पर लागू होगा या नहीं. आज जस्टिस अरुण मिश्रा की अगुआई वाली बेंच ने ये फैसला दिया कि ये कानून हर परस्थिति में लागू होगा। अगर पिता का देहांत कानून बनने से पहले यानी 2005 से पहले हो गया है तो भी बेटी को बेटे के बराबर अधिकार मिलेगा।

Continue Reading

लोकप्रिय

Copyright © 2020 Deshaj Group of Print. All Rights Reserved Tingg Technology Solution LLP.