Connect with us

Delhi

कोविड-19 : सीबीएसई अब स्कूलों का करेगा वर्चुअल निरीक्षण, मिलेगी स्कूलों को राहत

Published

on

कोविड-19 : सीबीएसई अब स्कूलों का करेगा वर्चुअल निरीक्षण, मिलेगी स्कूलों को राहत
 नई दिल्ली, देशज न्यूज। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने संबद्धता उन्नयन (एफिलेशन अपग्रेडेशन) के लिए स्कूलों के वर्चुअल निरीक्षण की सुविधा शुरू की है। केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने बोर्ड के इस कदम का स्वागत करते हुए कहा इससे कोविड -19 के चुनौतीपूर्ण समय में स्कूलों को राहत मिलेगी।
सीबीएसई ने गुरुवार को एक नोटिस जारी कर कहा कि कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए स्कूलों के नियमित निरीक्षण में देरी हो रही है। ऐसे में बोर्ड ने 2021-22 सत्र तक के लिए स्कूलों की संबद्धता उन्नयन के लिए वर्चुअल निरीक्षण का फैसला किया है। बोर्ड इसके लिए एक नई निरीक्षण कमेटी गठित करेगा। निरीक्षण समितियों को 10 दिनों के भीतर सभी निरीक्षण पूरे करने होंगे। ।CBSE goes for ‘virtual inspection’ of schools for upgradatio।
सामान्य समय में बोर्ड संबद्धता के उन्नयन के लिए स्कूल की उपयुक्तता का आकलन करने के लिए स्कूल का मौके पर जाकर निरीक्षण करने के लिए एक निरीक्षण समिति नियुक्त करता है। हालांकि, जिन स्कूलों ने संबद्धता उन्नयन के लिए आवेदन किया है, उनका भौतिक निरीक्षण वर्तमान महामारी की स्थिति में वर्चुअल माध्यम से होगा जबकि इस समय सभी स्कूल कोरोना के चलते बंद हैं। ।CBSE goes for ‘virtual inspection’ of schools for upgradatio।
केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने सीबीएसई के वर्चुअल निरीक्षण का स्वागत करते हुए कहा, केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने संबद्धता के उन्नयन के लिए वर्चुअल निरीक्षण की सुविधा शुरू की है। सीबीएसई के इस कदम से कोविड-19 महामारी के चुनौतीपूर्ण समय में स्कूलों को राहत मिलेगी।
वर्चुअल निरीक्षण बच्चों के शैक्षिक हित में एक लाभदायक कदम साबित होगा, जो फिजिकल निरीक्षण पर खर्च किए गए समय की बचत करेगा और स्कूल संबद्धता की त्वरित और सुचारू प्रक्रिया सुनिश्चित करेगा। CBSE goes for ‘virtual inspection’ of schools for upgradatio

145 साल पुराने दरभंगा से पहली बार खबरों का गरम भांप ...असंभव से आगे देशज टाइम्स हिंदी दैनिक। वेब पेज का संपूर्ण अखबार। दरभंगा खासकर मिथिलाक्षेत्रे, हमार प्रदेश, सारा जहां की ताजा खबरें। रोजाना नए कलेवर में। फिल्म-नौटंकी के साथ सरजमीं को समेटे। सिर्फ देशज टाइम्स में, पढि़ए, जाग जाइए।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi

1 नवंबर से बदल जाएंगे आपकी जिंदगी से जुड़े ये 8 नियम, हो जाइए तैयार

Published

on

1 नवंबर से बदल जाएंगे आपकी जिंदगी से जुड़े ये 8 नियम, हो जाइए तैयार
1 नवंबर से बदल जाएंगे आपकी जिंदगी से जुड़े ये 8 नियम, हो जाइए तैयार

नई दिल्ली, देशज न्यूज। 1 नवंबर से आपकी जिंदगी में कई बदलाव होने वाले हैं. रसोई गैस के सिलेंडर से लेकर ट्रेनों के टाइम टेबल तक सबकुछ बदलने वाला है. हम आपको यहां पर इन सभी बदलावों को सिलसिलेवार तरीके से बताने जा रहे हैं. ताकि आप खुद को इन बदलावों के लिए तैयार कर सकें।

एक नवंबर से LPG सिलेंडर की डिलिवरी का सिस्टम बदल जाएगा. तेल कंपनियां एक नवंबर से डिलिवरी ऑथेंटीकेशन कोड (DAC) सिस्टम लागू करेंगी. यानी गैस की डिलिवरी से पहले उपभोक्ता के रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक OTP भेजा जाएगा. जब सिलेंडर आपके घर आएगा तो उस OTP को डिलिवरी ब्वॉय के साथ शेयर करना होगा। जब OTP सिस्टम से मैच होगा तभी आपको सिलेंडर की डिलिवरी होगी।

अगर किसी कस्टमर का मोबाइल नंबर अपडेट नहीं है तो डिलीवरी ब्वॉय के पास के ऐप होगा, जिसके जरिए तत्काल ही अपना नंबर अपडेट करवा सकेंगे. अगर किसी ग्राहक का पता, नाम जैसी जानकारियां अपडेट नहीं हैं तो उन्हें भी 1 नवंबर से पहले ये सभी चीजें अपडेट करवानी होंगी नहीं तो सिलेंडर डिलिवरी में दिक्कत आ सकती है।

दरअसल गैस चोरी को रोकने के लिए तेल कंपनियों ने डिलिवरी का पूरा सिस्टम ही बदल दिया है. ये सिस्टम पहले 100 स्मार्ट सिटी में लागू होगा, फिर धीरे धीरे पूरे देश में लागू कर दिया जाएगा. ये सिस्टम सिर्फ घरेलू गैस सिलेंडरों की डिलिवरी के लिए है, कमर्शियल LPG सिलेंडरों पर ये सिस्टम लागू नहीं होगा।

एक नवंबर से इंडेन ग्राहकों के लिए गैस बुक करने का नंबर बदल जाएगा.  इंडियन ऑयल ने बताया कि पहले रसोई गैस बुकिंग के लिए देश के अलग-अलग सर्किल के लिए अलग-अलग मोबाइल नंबर होते थे. अब देश की सबसे बड़ी पेट्रोलियम कंपनी ने सभी सर्किल के लिए एक ही नंबर जारी किया है, अब देश भर के ग्राहकों को एलपीजी सिलेंडर बुक कराने के लिए 7718955555 पर कॉल या एसएमएस भेजना होगा।

बैंक ऑफ बड़ौदा (BoB) खाताधारकों के लिए बुरी खबर है. 1 नवंबर से बैंक ऑफ बड़ौदा ग्राहकों से एक तय सीमा से ज्याद पैसा जमा करने और निकालने दोनों पर चार्ज वसूलेगा. बैंक ऑफ बड़ौदा ने चालू खाता, कैश क्रेडिट लिमिट और ओवरड्राफ्ट अकाउंट से जमा-निकासी के अलग और बचत खाते से जमा-निकासी के अलग-अलग चार्ज तय किए हैं. लोन अकाउंट के लिए महीने में तीन बार के बाद जितनी बार ज्यादा पैसा निकालेंगे, 150 रुपये हर बार देने पड़ेंगे. बचत खाते में तीन बार तक जमा करना मुफ्त होगा, लेकिन इसके बाद चौथी बार जमा किया तो 40 रुपये देने होंगे.

हालांकि जन-धन खाताधारकों को इस फीस में हल्की राहत दी गई है. उन्हें डिपॉजिट पर कोई चार्ज नहीं चुकाना होगा, लेकिन पैसे निकालने पर 100 रुपये देने होंगे. वरिष्ठ नागरिकों को भी चार्ज से कोई राहत नहीं दी गई है।बाकी बैंक्स जैसे बैंक ऑफ इंडिया, पीएनबी, एक्सिस और सेंट्रल बैंक भी जल्द ही इस तरह के चार्ज लगाने पर फैसला लेंगे।

1 नवंबर से SBI के भी कुछ अहम नियमों में बदलाव होने जा रहा है. SBI के बचत खातों पर कम ब्याज मिलेगा. अब 1 नवंबर से जिन सेविंग्स बैंक अकाउंट में 1 लाख रुपए तक की राशि जमा है उस पर ब्याज की दर 0.25 परसेंट घटकर 3.25 परसेटं रह जाएगी. जबकि 1 लाख रुपए से ज्यादा की जमा पर अब रेपो रेट के अनुसार ब्याज मिलेगा।

एक  नवंबर से अब पचास करोड़ रुपए से अधिक टर्नओवर वाले कारोबारियों के लिए डिजिटल पेमेंट लेना अनिवार्य होगा. RBI का यह नियम भी एक नवंबर से लागू हो जाएगा. नई व्यवस्था के मुताबिक, ग्राहक या मर्चेंट्स से डिजिटल पेमेंट के लिए कोई भी शुल्क या मर्चेंट डिस्काउंट रेट (MDR) नहीं वसूला जाएगा. ये नियम सिर्फ 50 करोड़ रुपये से ज्यादा वाले टर्नओवर पर ही लागू होगा।

 
एक नवंबर से महाराष्ट्र में बैंकों का नया टाइम लागू होने जा रहा है. अब राज्य के सभी बैंक एक ही समय पर खुलेंगे और एक समय पर बंद होंगे. महाराष्ट्र में सभी बैंक्स सुबह 9 बजे से खुलकर शाम 4 बजे तक बंद होंगे. यह नियम सभी पब्लिक सेक्टर बैंक्स पर लागू होगा. हाल ही में वित्त मंत्रालय ने देश में बैंकों के कामकाज का समय एक जैसा करने का निर्देश दिया था। यह नियम उसी के बाद लागू किया जा रहा है।

ट्रेन से सफर करने जा रहे हैं तो आपके लिए जरूरी खबर है. 1 नवंबर से भारतीय रेल पूरे देश की ट्रेनों के टाइम टेबल को बदलने जा रही है. पहले ट्रेनों का टाइम टेबल 1 अक्टूबर से बदलने वाला था, लेकिन इस तारीख को आगे बढ़ा दिया गया. 1 नवंबर से ट्रेनों का नया टाइम टेबल जारी हो जाएगा. इस कदम से 13 हजार यात्री और 7 हजार मालभाड़ा ट्रेनों के टाइम बदल जाएंगे. देश की 30 राजधानी ट्रेनों के टाइम टेबल भी 1 नवंबर से बदल जाएंगे।

1 नंवबर से बुधवार को छोड़कर चंडीगढ़ से न्यू दिल्ली के बीच तेजस एक्सप्रेस चलेगी. गाड़ी संख्या 22425 न्यू दिल्ली-चंडीगढ़ तेजस एक्सप्रेस न्यू दिल्ली रेलवे स्टेशन से प्रत्येक सेामवार, मंगलवार, गुरुवार, शुक्रवार, शनिवार रविवार को सुबह 9.40 पर चलेगी और दोपहर 12.40 पर चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन पहुंचेगी। यानी आप 3 घंटे में चंडीगढ पहुंच जाएंगे।

Continue Reading

Delhi

आयकर विभाग का बड़ा एक्शन, 500 करोड़ की हेराफेरी का भंडाफोड़ किया, देश भर में छापेमारी

Published

on

आयकर विभाग का बड़ा एक्शन, 500 करोड़ की हेराफेरी का भंडाफोड़ किया, देश भर में छापेमारी
आयकर विभाग का बड़ा एक्शन, 500 करोड़ की हेराफेरी का भंडाफोड़ किया, देश भर में छापेमारी

नई दिल्ली, देशज न्यूज। आयकर विभाग (Income Tax Department) ने 500 करोड़ रुपए से अधिक की हेराफेरी का बड़ा खुलासा किया है. आयकर विभाग ने देश की 42 जगहों पर छापा मारते हुए ये बड़ा भंडाफोड़ किया है।

आयकर विभाग ने दिल्ली-एनसीआर, हरियाणा, पंजाब, उत्तराखंड और गोवा में 42 स्थानों पर छापेमारी की. इतना ही नहीं आयकर विभाग ने 2.3 करोड़ रुपए से अधिक की नकदी और 2.8 करोड़ रुपए के गहने जब्त किए हैं।

आयकर विभाग ने एक बयान में कहा कि कई टीमों ने फर्जी बिलिंग के जरिए बड़ी संख्या में नकदी का प्रवेश संचालन और उत्पादन करने का रैकेट चलाने वाले व्यक्तियों के एक बड़े नेटवर्क को खोजा और जब्ती की कार्रवाई की. इसके लिए विभाग ने दिल्ली-एनसीआर, हरियाणा, पंजाब, उत्तराखंड और गोवा में 42 परिसरों में तलाशी ली।

आयकर विभाग ने कहा कि “तलाशी में एंट्री ऑपरेटरों, बिचौलियों, नकदी संचालकों, लाभार्थियों, फर्मों और कंपनियों के पूरे नेटवर्क को उजागर करने वाले सबूत जब्त किए।

वहीं 500 करोड़ रुपये से अधिक की आवास प्रविष्टियों के सबूत के दस्तावेज पहले ही जब्त किये जा चुके हैं.” विभाग ने कहा कि कई शेल कंपनियों या फर्मों द्वारा उपयोग किए गए फर्जी बिलों और जारी किए गए असुरक्षित बिलों के बदले में बेहिसाब फंड और नकद धन निकाला गया।

Continue Reading

Delhi

#CoronaVirusInfection-कोरोना के मरीजों का 10 साल बूढ़ा हो जा रहा दिमाग: शोध

Published

on

#CoronaVirusInfection-कोरोना के मरीजों का 10 साल बूढ़ा हो जा रहा दिमाग: शोध
कोरोना के मरीजों का 10 साल बूढ़ा हो जा रहा दिमाग: शोध

नई दिल्‍ली, देशज न्यूज। कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर दिनोंदिन नए शोध सामने आ रहे हैं. दुनिया भर में कहर बरपा रहे कोरोना वायरस की दवा और वैक्‍सीन विकसित करने का काम भी जारी है।

इस बीच एक नए शोध में कोरोना वायरस संक्रमण से ठीक होने वाले लोगों के मरीजों के मस्तिष्‍क के संबंध में बड़ा दावा किया गया है. इस शोध में वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि कोरोना वायरस संक्रमण लोगों के मस्तिष्‍क पर इतना बुरा प्रभाव डालता है कि यह मस्तिष्‍क के 10 साल बूढ़े होने के बराबर होता है. मतलब मस्तिष्‍क की कार्य प्रणाली बेकार हो जाती है।

लंदन के इंपीरियल कॉलेज के एक डॉ. एडम हैम्पशायर के नेतृत्व में 84,000 से अधिक लोगों पर किए गए समीक्षात्मक अध्ययन में पाया गया कि कुछ गंभीर मामलों में कोरोना वायरस संक्रमण का संबंध महीनों के लिए मस्तिष्‍क में होने वाले नुकसान से है. इसमें मस्तिष्‍क की समझने की क्षमता व कार्य करने की प्रक्रिया शामिल है।

शोध में रिपोर्ट में कहा गया है कि इस अध्‍ययन से इस बात की पुष्टि होती है कि कोविड 19 महामारी मस्तिष्‍क पर बुरा प्रभाव डाल रही है. इसमें यह भी दावा किया गया है कि जो लोग कोरोना वायरस संक्रमण से ठीक हो चुके हैं या जिन लोगों में अब इसके एक भी लक्षण नहीं है, उनके मस्तिष्‍क की कार्य प्रणाली पर नुकसान पहुंच रहा है।

कॉग्निटिव टेस्‍ट के तहत यह जांचा जाता है कि आखिर इंसान का मस्तिष्‍क कितने बेहतर ढंग से कार्य कर रहा है। इसमें लोगों से पहेली सुलझवाई जाती है। आमतौर पर ऐसे टेस्‍ट अल्‍जाइमर के मरीजों की जांच में होता है. हैम्पशायर की टीम ने 84,285 लोगों के नतीजों का विश्लेषण किया. इन लोगों ने ग्रेट ब्रिटिश इंटेलिजेंस टेस्ट नामक एक अध्ययन को पूरा किया है. अभी इसके नतीजों की कुछ विशेषज्ञों द्वारा समीक्षा की जानी है. इन्‍हें MedRxiv वेबसाइट पर ऑनलाइन प्रकाशित किया गया था।

कॉग्निटिव नुकसान खासकर कोरोना वायरस संक्रमण के कारण अस्पताल में भर्ती किए गए लोगों के बीच अधिक है. वैज्ञानिक सीधे तौर पर अध्ययन में शामिल नहीं हैं। हालांकि, कहा गया है कि इसके परिणामों को कुछ सावधानी के साथ देखा जाना चाहिए. एडिनबर्ग यूनिवर्सिटी में न्‍यूरोइमेजिंग के प्रोफेसर जोआना वार्डलॉ के अनुसार लोगों में कोरोना वायरस संक्रमण के पहले मस्तिष्‍क में कॉग्निटिव नुकसान को नहीं देखा गया था।

Continue Reading

लोकप्रिय

Copyright © 2020 Deshaj Group of Print. All Rights Reserved Tingg Technology Solution LLP.

%d bloggers like this: