Connect with us

Patna

कोरोना में भी 2 महीने से वेतन नहीं, पटना AIIMS में स्वास्थ्यकर्मी गए हड़ताल पर, व्यवस्था चरमराई

Published

on

कोरोना में भी 2 महीने से वेतन नहीं, पटना AIIMS में स्वास्थ्यकर्मी गए हड़ताल पर, व्यवस्था चरमराई

 बिहार में कोरोना के इलाज का विशेष अस्पताल है पटना एम्स

पटना, देशज न्यूज। जानलेवा वैश्विक महामारी कोरोना से मुकाबला कर रहे बिहार को बड़ा झटका लगा है। पटना एम्स के नर्सिंग स्टाफ, कर्मचारी और सफाई कर्मी शनिवार को हड़ताल पर चले गए हैं। (Strike by health workers in Patna AIIMS, system crumbles)
पिछले दो महीने से इन्हें वेतन का भुगतान नहीं किया गया है जिसके कारण कर्मचारियों  काम बंद कर दिया है। पटना एम्स को सरकार ने कोविड-19 का विशेष हॉस्पिटल बना रखा है। (Strike by health workers in Patna AIIMS, system crumbles)
यहां सिर्फ कोरोना के मरीजों का ही इलाज किया जा रहा है। लेकिन नर्सिंग स्टाफ , कर्मचारी और सफाई कर्मियों के हड़ताल पर चले जाने के बाद यहां स्वास्थ्य सेवाओं पर  बड़ा संकट खड़ा हो गया है।(Strike by health workers in Patna AIIMS, system crumbles)
हड़ताल पर गए नर्सिंग स्टाफ ,कर्मचारियों और सफाई कर्मियों का कहना है कि पिछले तीन महीने से वे सभी लोग कोविड-19 काम कर रहे हैं। इसके बावजूद इनको पिछले दो महीने से सैलरी नहीं मिली है।(Strike by health workers in Patna AIIMS, system crumbles)
कर्मियों का आरोप है कि काम के दौरान संक्रमित होने के बावजूद ना तो उनका और ना ही उनके परिवार के सदस्यों का इलाज एम्स में हो पा रहा है।(Strike by health workers in Patna AIIMS, system crumbles)

145 साल पुराने दरभंगा से पहली बार खबरों का गरम भांप ...असंभव से आगे देशज टाइम्स हिंदी दैनिक। वेब पेज का संपूर्ण अखबार। दरभंगा खासकर मिथिलाक्षेत्रे, हमार प्रदेश, सारा जहां की ताजा खबरें। रोजाना नए कलेवर में। फिल्म-नौटंकी के साथ सरजमीं को समेटे। सिर्फ देशज टाइम्स में, पढि़ए, जाग जाइए।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Patna

खुला PM मोदी का बिहार के लिए पिटारा, चुनावी फिजाओं में 9 परियोजनाओं का फिर शिलान्यास

Published

on

खुला PM मोदी का बिहार के लिए पिटारा, चुनावी फिजाओं में 9 परियोजनाओं का फिर शिलान्यास

पटना, देशज न्यूज। पीएम नरेंद्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बिहार के लिए 9 राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं का शिलान्यास किया. सभी परियोजनाओं की कुल लागत 14 हजार 258 करोड़ है.  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस दौरान कहा कि बिहार के लोगों को बहुत-बहुत बधाई, उनकी कनेक्टिविटी बढ़ाने वाली 9 परियोजनाओं का शिलान्यास हुआ है. इससे यातायात को गति मिलेगी.

पीएम नरेंद्र मोदी ने 4 सड़क निर्माण में कुल 2288 करोड़ की लागत से 49 किमी लंबी नरेनपुर-पूर्णिया 4 लेन सड़क, 1149.55 करोड़ की लागत से राष्टीय राजमार्ग 31 के 47.23 किमी लंबी बख्तियारपुर-रजौली खंड का दो पैकेज में 4 लेन चौड़ीकरण कार्य का शिलान्यास किया। वहीं, इस दौरान बिहार के 45 हजार 945 गांवों को फाइबर आप्टिकल नेटवर्क से जोड़ने की योजना की शुरूआत की। उन्होंने घोषणा करते हुए कहा कि 2021 के मार्च तक फाइबर आप्टिकल नेटवर्क की सुविधा 45 हजार 945 गांवों में उपलब्ध करा दी जाएगी।

शिलान्यास परियोजनाओं में तीन महासेतु शामिल हैं। इसमें एक गांधी सेतु, दूसरा व्रिकमशिलता सेतु के समानांतर व तीसरा फुलौत का चार लेन का पुल शामिल है। प्रधानमंत्री ने इसके चार सड़क आरा-मोहनिया, रजौली-बख्तियारपुर, नरेनपुर-पूर्णिया व कन्हौली-रामनगर शामिल है। उन्होंने 2926.42 करोड़ की लागत से गांधी सेतु के समानांतर 14.5 किमी चार लेन पुल, 1110.23 करोड़ की लागत से विक्रमशिला सेतु के समानांतर 4.455 किमी लंबे चार लेन पुल व 1478.40 करोड़ की लागत से फुलौत में 28.93 किमी लंबे चार लेन पुल का पहुंच पथ के साथ निर्माण कार्य का शिलान्यास किया।

Continue Reading

Bihar

मिथिला विवि समेत बिहार के 13 विश्वविद्यालयों में 4638 सहायक प्रोफेसर की जल्द होगी नियुक्ति

Published

on

मिथिला विवि समेत बिहार के 13 विश्वविद्यालयों में 4638 सहायक प्रोफेसर की जल्द होगी नियुक्ति
मिथिला विवि समेत बिहार के 13 विश्वविद्यालयों में 4638 सहायक प्रोफेसर की जल्द होगी नियुक्ति

पटना,देशज न्यूज। बिहार के तेरह विश्वविद्यालयों में 4638 सहायक प्रोफेसर की नियुक्ति होगी। इसमें सबसे अधिक नियुक्ति दरभंगा के ललित नारायण मिथिला विवि में होनी है। प्रदेश के कुल तेरह विश्वविद्यालयों में कुल 52 विषयों के 4638 रिक्त पदों पर यह नियुक्ति होनी है। इसको लेकर शिक्षा विभाग ने विश्वविद्यालय सेवा आयोग को सिफारिश भेज दी है, संभव है बिहार चुनाव से पूर्व आचार संहिता लगने से पहले इसके लिए विज्ञापन जारी हो सकता है।

जानकारी के अनुसार, सर्वाधिक 856 पदों पर ललित नारायण मिथिला विश्विद्यालय में बहाली होगी. वीकेएसयू आरा में 428, मौलाना मजहरुल हक अरबी-फारसी विवि- 02, मगध विवि बोधगया में 381, पूर्णिया विवि पूर्णिया में 213, पटना विवि पटना  में 273, तिलकामांझी विवि भागलपुर में 276, एलएमएनयू दरभंगा में 856, बीएनमंडल विवि मधेपुरा में 377, केएसडीएसयू दरभंगा में 192, पाटलिपुत्र विवि पटना में 462, बीआरए बिहार विवि, मुजफ्फरपुर में 603, मुंगेर विवि मुंगेर में 245, जयप्रकाश विवि छपरा में 319 नियुक्तियां होनी हैं।

शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने पदभार ग्रहण करने के साथ ही लंबित मामलों में सबसे अहम सहायक प्रोफेसरों की नियुक्ति का मामला निबटाया है। माध्यमिक निदेशक के माध्यम से उन्होंने राज्य विश्वविद्यालय सेवा आयोग को अधियाचना भेज दी है। आयोग के चयरमैन डॉ. राजवर्धन आजाद ने अधियाचना मिलने की पुष्टि कर दी है। आचार संहिता से पहले निर्देश मिलने के बाद अब आयोग जल्द ही तय रिक्तियों को लेकर विज्ञापन जारी करेगा।

राजभवन के निर्देशानुसार मनोविज्ञान विषय में सबसे अधिक 424 पद, अर्थशास्त्र में 368 पद, इतिहास में 316 पद, हिन्दी में 292, राजनीति विज्ञान में 280, अंग्रेजी में 253 जबकि भूगोल में 142 पदों पर नियुक्ति की अधियाचना की गई है।

Continue Reading

Patna

रामविलास की तबीयत ज्यादा बिगड़ी, ICU में,चिराग की आई LJP कार्यकर्ताओ के नाम मार्मिक चिट्ठी

Published

on

रामविलास की तबीयत ज्यादा बिगड़ी, ICU में,चिराग की आई LJP कार्यकर्ताओ के नाम मार्मिक चिट्ठी
रामविलास की तबीयत ज्यादा बिगड़ी, ICU में,चिराग की आई LJP कार्यकर्ताओ के नाम मार्मिक चिट्ठी

पटना,देशज न्यूज। लोजपा के रियल सुप्रीमो व केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान की तबीयत बेहद खराब हो गई है। उनकी तबीयत ऐसी  बिगड़ गई है, वे आइसीयू में है। ऐसे में बिहार चुनाव को देखते हुए चिराग पासवान दुविधा में हैं।

चिराग के सामने मुसीबत है। वह पिता श्री को छोड़ नहीं सकते इधर चुनावी मौसम में उनपर महथी जिम्मेदारी है। ऐसे में उन्होंने अपने कार्यकर्ताओं व पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के नाम एक मार्मिक चिट्‌टी लिखी है।

 

बकौल चिराग, पिताश्री को छोड़ कर बिहार आना फिलहाल मेरे लिए संभव नहीं। विधानसभा चुनाव को लेकर बिहार के भविष्‍य व सीटाें के तालमेल को लेकर एनडीए में किसी भी सहयोगी घटक दल से कोई बात नहीं हुई है। चिराग ने लिखा है,कोरोना संक्रमण काल में लोगों को राशन की परेशानी न हो, इसके लिए उनके पिता अपना रूटीन  हेल्‍थ चेक-अप लगातार टालते रहे। इस कारण वे अस्‍वथ हो गए। बीते तीन सप्‍ताह से वे अस्‍पताल में हैं।

वे पिता को रोज बीमारी से लड़ते देख कर विचलित हो जाते हैं। पिता पटना जाने के लिए कहते हैं, लकिन बेटा होने के नाते वे उन्‍हें इस हाल में आइसीयू में छोड़ कर नहीं हट सकते हैं। नहीं ताे वे खुद को कभी माफ नहीं कर पाएंगे।

Continue Reading

लोकप्रिय

Copyright © 2020 Deshaj Group of Print. All Rights Reserved Tingg Technology Solution LLP.

%d bloggers like this: