Connect with us

Patna

तिलका मांझी राष्ट्रीय सम्मान 2020 के लिए लेखक-पत्रकार संजय कुमार का चयन

Published

on

तिलका मांझी राष्ट्रीय सम्मान 2020 के लिए लेखक-पत्रकार संजय कुमार का चयन
तिलका मांझी राष्ट्रीय सम्मान 2020 के लिए लेखक-पत्रकार संजय कुमार का चयन

पटना, देशज न्यूज। लेखक-पत्रकार के तौर संजय कुमार (sanjay kumar) का चयन “तिलका मांझी राष्ट्रीय सम्मान 2020” के लिए किया गया है। अंग मदद फाउंडेशन भागलपुर, स्वाधीनता सेनानी शुभकरण चूड़ीवाला की याद में ‘तिलका मांझी राष्ट्रीय सम्मान’ विभिन्न क्षेत्रों में कार्य कर रहे प्रतिष्ठित लोगों को सम्मान देती आ रही है।

इस बार भागलपुर के संजय कुमार (sanjay kumar) जो प्रेस इनफार्मेशन ब्यूरो पटना में सहायक निदेशक के पद पर कार्यरत हैं का भी चयन किया गया है। श्री कुमार 1987 से पत्रकारिता कर रहे हैं।

लगातार विश्वसनीय, असरदार, करेंट, ब्रेकिंग दरभंगा, मधुबनी से लेकर संपूर्ण मिथिलांचल, देश से विदेशों तक लगातार खबरों के लिए हमसें यहां जुड़ें,

 

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय से पत्रकारिता की पढ़ाई करने के बाद 1993 में भारतीय सूचना सेवा में चयनित हो गए उसके बाद प्रेस इनफॉरमेशन ब्यूरो, आकाशवाणी व दूरदर्शन समाचार और पत्रिका सैनिक समाचार मैं बतौर संपादक कार्य कर चुके हैं।

साथ ही मीडिया, पर्यावरण और सामाजिक सरोकार को लेकर राष्ट्रीय पत्र-पत्रिकाओं में लगातार लिखते रहे हैं। संजय कुमार (sanjay kumar) की अब तक 10 पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी है, जिनमें तालों में ताले अलीगढ़ के ताले, नागालैंड के रंग बिरंगे उत्सव, 1857 जनक्रांति के बिहारी नायक, बिहार की पत्रकारिता तब और अब, आकाशवाणी समाचार की दुनिया, रेडियो पत्रकारिता, मीडिया में दलित ढूंढते रह जाओगे, मीडिया:महिला,जाति और जुगाड़ और मीडिया में दलित प्रमुख हैं। विलुप्त होती गौरैया पर पुस्तक, अभी मैं जिन्दा हूं ..गौरैया, प्रकाशन की प्रतीक्षा में है।तिलका मांझी राष्ट्रीय सम्मान 2020 के लिए लेखक-पत्रकार संजय कुमार का चयन

आकाशवाणी भागलपुर में वार्ता और नाटकों में भागीदारी भी की है। साथी ही नुक्कड़ नाटक आंदोलन के शुरुआती दौर से भागलपुर की नाट्य संस्था दिशा से 1977 से सक्रिय रहे हैं। सरकारी मीडिया में रहने के साथ साथ लेखन और पत्रकारिता को एक प्रोफेशन (sanjay kumar)के तौर पर देखते हुए लगातार काम करते आ रहे हैं ।

145 साल पुराने दरभंगा से पहली बार खबरों का गरम भांप ...असंभव से आगे देशज टाइम्स हिंदी दैनिक। वेब पेज का संपूर्ण अखबार। दरभंगा खासकर मिथिलाक्षेत्रे, हमार प्रदेश, सारा जहां की ताजा खबरें। रोजाना नए कलेवर में। फिल्म-नौटंकी के साथ सरजमीं को समेटे। सिर्फ देशज टाइम्स में, पढि़ए, जाग जाइए।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Patna

बिहार चुनाव: बागियों पर पार्टी का चला डंडा, RJD 12, BJP ने 3 नेताओं को पार्टी से निकाला

Published

on

बिहार चुनाव: बागियों पर पार्टी का चला डंडा, RJD 12, BJP ने 3 नेताओं को पार्टी से निकाला
बिहार चुनाव: बागियों पर पार्टी का चला डंडा, RJD 12, BJP ने 3 नेताओं को पार्टी से निकाला

पटना,देशज न्यूज। बिहार विधान सभा चुनाव में राजनीतिक जोड़-तोड़ के बीच टिकट को लेकर तमाम पार्टियों में रिश्ते बनते बिगड़ते रहे। इन सब के बीच चुनाव लडऩे का मन बना चुके नेताओं की मुसीबत तब बढ़ गई जब पार्टियों ने आपसी समझौते के तहत सीटों के बंटवारे कर लिए और आस लगाए नेता की सीट किसी और को चली गई। ऐसे में नेताओं का बागी होना स्वाभाविक सी बात थी और तब ये बागी कहीं विरोधी खेमा तो कहीं निर्दलीय मैदान में उतर गए और चुनाव लडऩे की इन्होने भी कर दी घोषणा। पार्टी के वरिष्ठों को ये बात नागवार गुजरी और तीसरे चरण को लेकर नाम वापसी के अंतिम घड़ी में पार्टी के खिलाफ चुनाव लड़ रहे उन नेताओं को पार्टी से निष्कासित कर दिया. इस कड़ी में एनडीए के खिलाफ चुनाव लडऩे वाले तीन नेताओं को बाहर निकाला वहीं आरजेडी ने 12 नेताओं को निष्कासित कर दिया।

बीजेपी के निष्कासित नेता

एनडीए के खिलाफ चुनाव लड़ रहे और पार्टी विरोधी कार्य करने वाले अपने तीन नेतआों को बीजेपी ने 6 साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया है. इनमें एक हैं बेगूसराय के पूर्व विधायक रामचंद्र राम जिनको एनडीए के अधिकृत प्रत्याशी के खिलाफ चुनाव लडऩे के आरोप में पार्टी ने 6 साल के लिए निकाल दिया है। वहीं छपरा के कामेश्वर सिंह मुन्ना और सिवाल के डॉ. देवरंजन सिंह को भी एनडीए प्रत्याशी के खिलाफ चुनाव लडऩे के आरोप में निष्कासित किया गया है। पार्टी ने आधिकारिक तौर पर ये कह रखा है कि दल विरोधी चुनाव लडऩे को अनुशासन के खिलाफ माना जाता है ऐसे में पार्टी अधिकृत है इन्हे दंडित करने के लिए।

आरजेडी के निष्कासित नेता

आरजेडी ने महागठबंधन के खिलाफ चुनाव लडऩे वाले 12 नेताओं की अगले 6 साल तक के लिए सदस्यता रद्द कर दी है. पार्टी द्वारा मिली जानकारी के अनुसार राष्ट्री. अध्यक्ष के निर्देश पर जिन नेताओं को दल से निष्कासित किया गया है उनमें सहरसा के विधायक मो.जफर आलम, पूर्वी चंपारण के विधायक राजेश कुमार, मुजफ्फरपुर के विधायक सुरेन्द्र राय, गोपालगंज के मो. नेमतुल्ला, चंपारण के पूर्व विधायक लक्ष्मी नारायण. विधायक अंबिका सिंह यादव, लोक सभा प्रत्याशी कृष्ण कुमार यादव, औरंगाबाद के आपदा प्रबंधन प्रकोष्ठ के उपाध्यक्ष प्रकाश चंद्र, प्रदेश उपाध्यक्ष धर्मेन्द्र चंद्रवंशी, महासचिव गोपाल कृष्ण और चंदन यादव, नालंदा के कोषाध्यक्ष महेन्द्र यादव और नवादा के जिलाध्यक्ष प्रेम चौधरी की सदस्यता पार्टी ने 6 साल के लिए रद्द कर दिया है।

Continue Reading

Patna

ये है बिहार का चुनाव : देवेंद्र फडणवीस, सुशील मोदी समेत NDA के 7 नेता कोरोना संक्रमित

Published

on

ये है बिहार का चुनाव : देवेंद्र फडणवीस, सुशील मोदी समेत NDA के 7 नेता कोरोना संक्रमित
ये है बिहार का चुनाव : देवेंद्र फडणवीस, सुशील मोदी समेत NDA के 7 नेता कोरोना संक्रमित

पटना, देशज न्यूज। महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री व बिहार चुनाव के बीजेपी प्रभारी देवेंद्र फडणवीस की कोविड-19 रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। देवेंद्र फडणवीस ने खुद ट्वीट करके यह जानकारी दी है।

कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद उन्‍होंने खुद को आइसोलेट कर लिया है. फडणवीस ने ट्वीट किया, ‘मैं लॉकडाउन के बाद से हर दिन काम कर रहा हूं, लेकिन अब ऐसा लगता है कि भगवान चाहते हैं कि मैं थोड़ी देर के लिए रुक जाऊं और छुट्टी ले लूं! मैं कोविड पॉजिटिव पाया गया हूं और फिलहाल आइसोलेशन में हूं। डॉक्टर्स की सलाह पर दवा और उपचार चल रहा है.’ इसके साथ ही उन्होंने लिखा कि ‘जो लोग मेरे संपर्क में आए हैं, वे कोरोना टेस्ट जरूर करवा लें. सभी लोग अपना ध्यान रखें।

इससे पहले, राज्य के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी, पार्टी प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन, पूर्व केंद्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूडी, मंगल पांडे और जेडीयू के विजय कुमार मांझी भी कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके हैं. अगर आंकड़ों पर गौर करें तो एनडीए के 7 नेता बिहार में कोरोना वायरस से संक्रमित हुए हैं।

फडणवीस के कुछ ही दिन पहले, सारण के सांसद राजीव प्रताप और बिहार विधानसभा चुनावों में भाजपा के स्टार प्रचारक शाहनवाज हुसैन भी कोविड-19 से संक्रमित पाए गए हैं. शाहनवाज हुसैन ने बुधवार को ट्विट करके अपने संक्रमित होने की जानकारी देते हुए कहा कि जो लोग उनके संपर्क में आए हैं, वे कोविड-19 का टेस्‍ट करवा लें।

Continue Reading

Patna

मतदाताओं को वोट करने का रिमांइडर भेजेगा फेसबुक,कोरोना से डराने वाले पोस्ट को करेगा बैन   

Published

on

मतदाताओं को वोट करने का रिमांइडर भेजेगा फेसबुक,कोरोना से डराने वाले पोस्ट को करेगा बैन   
मतदाताओं को वोट करने का रिमांइडर भेजेगा फेसबुक,कोरोना से डराने वाले पोस्ट को करेगा बैन   

पटना, देशज न्यूज।चुनाव को प्रभावित करने वाले और भ्रामक पोस्ट को रोकने की फेसबुक ने तैयारी कर ली है। मतदाताओं को भ्रम में डालनेवाले, डराने या किसी दूसरी तरह से प्रभावित करने वाले पोस्ट को जांच के बाद फेसबुक साझा नहीं होने देगा।
चुनाव में स्थानीय और रोचक जानकारी पर भी फेसबुक विशेष फोकस करेगा। बिहारी मतदाताओं को चुनाव में अधिक भागीदार बनाने के लिए फेसबुक कोरोना काल में हुए न्यूजीलैंड व साउथ कोरिया के चुनाव की तर्ज पर यहां भी जागरूकता फैलाएगा। उपयोगकर्ताओं को मतदान के लिए बार-बार रिमांइडर भी भेजा जाएगा। इसको फेसबुक की ओर से वोटर डे रिमाइंडर नाम दिया गया है। उधर, फेसबुक के चुनाव विंग की कंट्री हेड ने दावा किया कि फेसबुक भारतीय निर्वाचन आयोग के साथ मिलकर जागरूकता के लिए भी काम करेगा। उन्होंने कहा कि फेसबुक देश में वर्ष 2018 से लागू पॉलिटिकल ट्रांसपेरेंसी को बढ़ावा देने को लेकर भी काम करेगा। फैक्ट चेक करने को लेकर इस प्लेटफॉर्म पर 11 भाषाओं में काम हो रहा है।

फेसबुक इलेक्शन विंग की कंट्री हेड नताशा ने बताया कि होम पेज पर ऊपर दाहिने में कंप्लेन का ऑप्शन आता है। इस सेक्शन में यूजर्स कंप्लेन कर सकता है। साथ ही अगर यूजर्स को लगता है कि पोस्ट सही नहीं है तो वह रीवोक कर सकता है। फेसबुक सभी कंप्लेन और शिकायतों पर विशेष रूप से ध्यान देता है। ऐसे पोस्ट की चेकिंग कर ऐसे पोस्ट को डिलीट करता है। इस वर्ष 2020 के जून तक फेसबुक ने कुल 22.5 मिलियन पोस्ट हटाए हैं।

फेसबुक के चुनाव विंग की भारत व दक्षिण एशिया की प्रमुख नताशा जोग ने बताया कि बिहार चुनाव कोरोना संकट में हो रहा है। इसलिए स्वास्थ्य संबंधी कोई भी भ्रामक जानकारी फेसबुक साझा नहीं होने देगा। ऐसे मामलों में पोस्ट शेयर करने की अनुमति नहीं देगा, जिसमें मतदान पर सीधा असर पड़े। जैसे यदि कोई व्यक्ति यह कहता है, मैं कोविड-19 को लेकर चिंतित हूं और इसलिए मतदान करने नहीं जा रहा हूं या ईवीएम सैनेटाइज नहीं है, इसलिए मैं उसका उपयोग करने का जोखिम नहीं उठाऊंगा, ऐसे पोस्ट को फेसबुक अनुमति नहीं देगा। उपयोगकर्ता सही और गलत के बारे में जानें, यह प्रयास रहेगा। इसके अलावा इस बार अधिकाधिक उपयोगकर्ताओं को मतदान के लिए जागरूक किया जाएगा। चुनाव की तिथियों की जानकारी भी होमपेज पर बार-बार फ्लैश होगी।

 

Continue Reading

लोकप्रिय

Copyright © 2020 Deshaj Group of Print. All Rights Reserved Tingg Technology Solution LLP.

%d bloggers like this: