Connect with us

Patna

चक्का जाम को लेकर सड़क पर उतरे माले कार्यकर्ता, आरा-पटना राजमार्ग जाम

Published

on

चक्का जाम को लेकर सड़क पर उतरे माले कार्यकर्ता, आरा-पटना राजमार्ग जाम

पटना, देशज न्यूज। सीपीआइ-माले पार्टी कार्यकर्ता शनिवार की सुबह से सड़क पर उतर गए हैं। आरा बस स्टैंड के समीप ही आरा-पटना राजमार्ग को जाम कर दिया है। सड़क जाम का नेतृत्व तरारी के भाकपा-माले विधायक सुदामा प्रसाद कर रहे है। वहीं, राज्यसभा सदस्य प्रो. राकेश सिन्हा ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी किसानों के हित के लिए हमेशा से सोचते रहे हैं। उन्होंने कृषि सुधार कानून लाकर किसानों को एक बड़े चक्रव्यूह से बाहर निकाला है।

तीनों कृषि कानून वापस लेने, न्यूनतम समर्थन मूल्य पर धान के सरकारी खरीद की गारंटी देने और प्रस्तावित बिजली बिल 2020 वापस लेने की  मांग कर रहे है। सड़क जाम से  वाहनों की लम्बी कतार लग गई है।

लगातार विश्वसनीय, असरदार, करेंट, ब्रेकिंग दरभंगा, मधुबनी से लेकर संपूर्ण मिथिलांचल, देश से विदेशों तक लगातार खबरों के लिए हमसें यहां जुड़ें,

भाकपा माले की केंद्रीय कमेटी की दो दिवसीय बैठक में कल शुक्रवार को नए कृषि कानूनों के खिलाफ देशव्‍यापी आंदोलन को समर्थन देने और शनिवार को प्रदेश व्‍यापी चक्‍का जाम करने का फैसला लिया गया । पार्टी महासचिव दीपंकर भट्टाचार्य ने कहा कि यह केंद्र सरकार मजदूर और किसान विरोधी है। नया कृषि कानून कारपोरेट घरानों के हित में बनाया गया है।

राज्यव्यापी चक्का जाम आंदोलन के तहत भाकपा -माले के कार्यकर्ता सुबह आठ बजे से ही सड़क पर उतर गए हैं। पार्टी का झंडा व बैनर लेकर प्रदर्शन कर रहे है। किसानों से वार्ता को दिखावा बता रहे हैं। साथ ही तीनों कृषि कानून वापस लेने,न्यूनतम समर्थन मूल्य पर धान के सरकारी खरीद की गारंटी देने और प्रस्तावित बिजली बिल 2020 वापस लेने की  मांग  को लेकर विरोध-प्रदर्शन कर रहे है। आंदोलन में माले विधायक सुदामा प्रसाद के अलावा पार्टी नेता क्यामुद्दीन अंसारी,दिलराज प्रीतम, अमित बंटी व गोपाल प्रसाद समेत कई कार्यकर्ता मौजूद है। पुलिस प्रशासन मौके पर पहुंच कर जाम हटाने के प्रयास में लगी हुई है।

इधर, राज्यसभा सदस्य प्रो. राकेश सिन्हा ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी किसानों के हित के लिए हमेशा से सोचते रहे हैं। उन्होंने कृषि सुधार कानून लाकर किसानों को एक बड़े चक्रव्यूह से बाहर निकाला है। चल रहे किसान आंदोलन को लेकर उन्होंने कहा कि किसानों को अधमरा रखकर ही उन्हें खेत बेचने, सेठ साहूकार से शादी, श्राद्ध में ऊंचे ब्याज पर कर्ज लेने, जमीन दूसरों को लीज पर देने के लिए बाध्य किया जा सकता है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किसानों को इस चक्रव्यूह से निकाला है तो किसानों का हक मारने वाले कैसे शांत रह सकते हैं।

प्रो. राकेश सिन्हा ने कहा कि देश में लगभग 12 करोड़ लघु, सीमांत और मध्यम किसान हैं। वे कृषि सुधार कानून से सशक्त होंगे। मोदी सरकार के इस कदम ने अघोषित रूप से कृषि को उद्योग का दर्जा दिया है। कोई इस प्रश्न पर प्रतिकार करने की क्षमता रखता है? अंग्रेजी शासन में हमारी कृषि पद्धति और किसानों का जीवन खराब किया गया था।
उसके बाद पहली बार किसी ने उनके हित में बात की है। चंद लोग जो पुराने कानूनों की खामियों का फायदा उठा रहे थे, इससे विचलित हो गए हैं और विभिन्न प्रकार से उसे खराब करना चाहते हैं। किसानों को यह बात समझनी चाहिए।

145 साल पुराने दरभंगा से पहली बार खबरों का गरम भांप ...असंभव से आगे देशज टाइम्स हिंदी दैनिक। वेब पेज का संपूर्ण अखबार। दरभंगा खासकर मिथिलाक्षेत्रे, हमार प्रदेश, सारा जहां की ताजा खबरें। रोजाना नए कलेवर में। फिल्म-नौटंकी के साथ सरजमीं को समेटे। सिर्फ देशज टाइम्स में, पढि़ए, जाग जाइए।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Bihar

जदयू की साख को आंच पहुंचाने वाले एमएलसी के खिलाफ पनपने लगा जनाक्रोश

Published

on

आरा, देशज न्यूज।वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय आरा के कुलपति प्रो.डॉ. देवी प्रसाद तिवारी के लगातार भ्र्ष्टाचार पर किये जा रहे चोट से कई सम्बद्ध कॉलेजो में बतौर जनप्रतिनिधि सदस्य के (Public outcry against JLC’s MLC’s reputation) रूप में नियुक्त एक बिहार विधान परिषद के सदस्य की  कथित नींद उड़ गई है।

बिहार विधान परिषद के सदस्य संजीव श्याम सिंह की तिलमिलाहट इतनी बड़ी हुई है कि वे बिहार के राज्यपाल सह राज्य के विश्वविद्यालयों के कुलाधिपति को कई कई पन्नो के पत्र भेजकर कुलपति पर (Public outcry against JLC’s MLC’s reputation) आरोप लगाने में जुट गए हैं।
बिहार विधान परिषद के सदस्य संजीव श्याम राज्यपाल और कुलाधिपति को अपने लंबे लम्बे पत्रों में ये नही बताते हैं कि वह किस कदर विवि की सिंडिकेट की बैठक में कई सिंडिकेट सदस्यों की मौजूदगी में कुलपति के खिलाफ कथित अमर्यादित टिप्पणी करते हैं।सदस्यों की भरी बैठक में अपने मनमाने कार्य नही होने पर अपना आपा (Public outcry against JLC’s MLC’s reputation) खो बैठते हैं और गाली गलौज की भाषा पर उतारू हो जाते हैं।
बिहार विधान परिषद के सदस्य की सारी तस्वीर कुलपति कक्ष में मौजूद सीसीटीवी में कैद हो चुकी है और राजभवन के पास सीसीटीवी में कैद उनके चेहरे पहुंचेंगे तो विधान पार्षद का रंग (Public outcry against JLC’s MLC’s reputation) बदरंग हो सकता है। अपनी गलतियों को छुपाते हुए कुलपति पर आरोप लगाने वाले विधान पार्षद की छवि लगातार धूमिल होती जा रही है।
वे जिस जनतादल यूनाइटेड के सदस्य हैं और राज्य की सत्ता में काबिज दल की प्रतिष्ठा का जिस तरह से हनन करने में जुटे हुए हैं उससे जदयू की साख पर यहां काफी असर पड़ने लगा है। जदयू नेताओ ने भी दबी जुबान से विधान पार्षद के असंसदीय भाषाओं के इस्तेमाल,अमर्यादित आचरण (Public outcry against JLC’s MLC’s reputation) और सिंडिकेट की बैठक में मनमानी कराने,नही होने पर  कथित  गाली गलौज की भाषा पर उतारू होने की बात को जदयू की साख और विश्वसनीयता के लिए खतरा बताया है।
नेताओ ने कहा है कि विधान पार्षद संजीव श्याम ने दल में जनाधार बढ़ाया नही और जो जनाधार है उसे भी खत्म करने पर तुले हुए हैं जिसे जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष सांसद आरसीपी सिंह और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से (Public outcry against JLC’s MLC’s reputation) अवगत कराकर इनपर लगाम लगाने की मांग की जाएगी।
Continue Reading

Bihar

बिहार में ग्राहकों और अभिकर्ताओं के लिए एलआईसी हुआ पेपरलस, आई डिजिटल आनंदा

Published

on

LIC becomes PPP for customers and agents in Bihar, I Digital Anand

पटना,देशज न्यूज। भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) ने हाल ही में अपने ग्राहकों की सुविधा को बढ़ाने और अभिकर्ताओं को अत्मनिर्भर बनाने की राह में एक और कदम बढ़ाकर एक डिजिटल ऐप आनन्दा (आत्म निर्भर अभिकर्ता नवव्यवसाय ऐप) की शुरुआत की है। यह डिजिटल ऐप ग्राहकों और (LIC becomes PPP for customers and agents in Bihar, I Digital Anand) अभिकर्ताओं को पेपरलेस तरीके से जीवन बीमा पॉलिसी प्राप्त करने एंव पूरा करने की सुविधा देता है।

आज की तेज रफ्तार जिंदगी में सभी के पास समय की कमी है और हर काम के लिए रोज ऐप विकसीत किए जा रहे हैं। कोरोना के समय में तो पूरी जिंदगी ऑनलाइन ही हो गई है और सभी ग्राहक डिजिटल ऐप के द्वारा अपनी जरूरतों को पूरा कर रहे हैं। ऐसे समय में अपने घर या ऑफिस में बैठकर बीमा प्राप्त करने तथा (LIC becomes PPP for customers and agents in Bihar, I Digital Anand) पूरा करने की ग्राहकों और अभिकर्ताओं की जरूरत को एलआईसी ने अच्छी तरह से समझा और अपने आंतरिक स्त्रोतों से इस ऐप को विकसीत किया।

निगम के क्षेत्रीय प्रबंधक महेंद्र कुमार ने इस बारे में जानकारी देते शुक्रवार को कहा कि इस ऐप में आधार संख्या की सहयता से ग्राहक का ई-प्रमाणीकरण किया जाता है और अन्य जानकारी भी ऐप के द्वारा ही डाली जाती है। पॉलिसी की प्रीमियम क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड और नेटबैंकिंग जैसे ऑनलाइन तरीकों से जमा कर (LIC becomes PPP for customers and agents in Bihar, I Digital Anand) देने के बाद पॉलिसी पूरी हो जाती है। ग्राहकों के लिए ओटीपी के द्वारा प्रमाणीकरण किया जाता है, जिससे उनके द्वारा दी गई जानकारी सुरक्षित रहती है। पॉलिसी पूरी होने के तुरंत बाद ई-पॉलिसी ग्राहक को ल द्वारा भेज दी जाती है।

महेंद्र कुमार ने कहा कि आरंभ होने के बाद से अभी तक कुल 17089 पॉलिसियां इस ऐप के माध्यम से पूरी की जा चुकी है। ग्राहकों की सुविधा को ध्यान में रखकर आगे आने वाले समय में निगम इस ऐप को और ज्यादा से ज्यादा अभिकर्ताओं में लोकप्रिय बनाकर अपने व्यवसाय को बढ़ाने की राह में आगे चल रहा है। हमारी (LIC becomes PPP for customers and agents in Bihar, I Digital Anand)  अपने ग्राहकों से भी अपेक्षा है कि इस ऐप के द्वारा पॉलिसी लेकर इन नई सुविधा का उपयोग करेंगे और अपने लिए और एलआईसी की सेवाओं के गुणवत्ता में और विकास करेंगे।

Continue Reading

Bihar

बड़ी खबर: सोनपुर गंगा नदी में बालू लदी दो नौका टकराई, बारह मजदूर लापता, तीन की मौत

Published

on

Big news: Two boats hit sand in Sonpur Ganga river, twelve laborers missing, three dead

पटना/वैशाली, देशज न्यूज। बिहार में घने कोहरे की वजह वैशाली जिले के सोनपुर के गंगाजल घाट के निकट गंगा नदी  में गुरुवार की देर रात शुक्रवार अल सबह बालू लदी (Big news: Two boats hit sand in Sonpur Ganga river, twelve laborers missing, three dead) दो नावों  के बीच टक्कर हो गई, जिसमें करीब 12 से अधिक मजदूर लापता है, वहीं तीन के मौत की पुष्टि हुई है।

पुलिस सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक गुरुवार की देर रात गंगा से बालू लेकर चली दो नौकाओं के नाविक कोहरे के कारण आगे देख नहीं सके। इस कारण दोनों नौकाएं आपस में (Big news: Two boats hit sand in Sonpur Ganga river, twelve laborers missing, three dead)  टकरा गईं। दोनों नौकाओं की टक्कर में 12 मजदूर लापता हो गए है।

लापता मजदूरों की खोज रात से ही की (Big news: Two boats hit sand in Sonpur Ganga river, twelve laborers missing, three dead)  जा रही है। सोनपुर गंगाजल पंचायत के मुखिया ने मीडिया से बातचीत में शुक्रवार को कहा कि अभी तीन मजदूरों की मौत हो चुकी है। मारे गए तीनों लोग सबलपुर मध्यवर्ती पंचायत के रहने वाले बताए गए हैं। बलपुर मध्यवर्ती पंचायत के मुखिया ने बताया कि नाव पर सवार और सभी लोगों को बचा लिया गया है। हालांकि, कुछ लोगों के अनुसार नौका सवार सात लोग लापता हैं।

Continue Reading

लोकप्रिय

Copyright © 2020 Deshaj Group of Print. All Rights Reserved Tingg Technology Solution LLP.

%d bloggers like this: