Connect with us

Bihar

कल से चलेंगी 7 इंटरसिटी, 5 मेमू ट्रेनें, दरभंगा से पटना-सहरसा के बीच मेमू पैसेंजर का परिचालन 30 तक

Published

on

कल से चलेंगी 7 इंटरसिटी, 5 मेमू ट्रेनें, दरभंगा से पटना-सहरसा के बीच मेमू पैसेंजर का परिचालन 30 तक

पटना, देशज न्यूज। कोरोना काल (Corona period) में ट्रेनों के परिचालन पर भी काफी असर पड़ा है. इससे यात्रियों को भारी असुविधाओं का सामना करना पड़ा है। अब पूर्व मध्य रेलवे ने बिहार में छठ पूजा (Chhath Pooja) पर यात्रियों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए पटना से सहरसा और जयनगर समेत 7 जगहों के लिए कुल 7 इंटरसिटी ट्रेनें चलाने की घोषणा की है।

ये ट्रेनें 21 नवंबर से 30 नवंबर के बीच चलाई जाएंगी. यह ट्रेनें पूरी तरह से आरक्षित होंगी, बिना रिजर्वेशन के इसमें कोई भी यात्रा नहीं कर सकेगा। समस्तीपुर रेलमंडल के दरभंगा से पटना और सहरसा से पटना के बीच मेमू पैसेंजर ट्रेनों का परिचालन 30 नवंबर तक प्रतिदिन होगा।

लगातार विश्वसनीय, असरदार, करेंट, ब्रेकिंग दरभंगा, मधुबनी से लेकर संपूर्ण मिथिलांचल, देश से विदेशों तक लगातार खबरों के लिए हमसें यहां जुड़ें,

ट्रेन नंबर 03357 दरभंगा से पटना मेमू स्पेशल पैसेंजर ट्रेन 15:00 बजे दरभंगा से खुलकर 16:15 बजे समस्तीपुर पहुंचेगी. यह ट्रेन समस्तीपुर से 16:20 बजे खुलकर वाया मुजफ्फरपुर, हाजीपुर, पाटलिपुत्र स्टेशन पर रुकती हुई रात में 21:30 बजे पटना पहुंचेगी।

इसी तरह ट्रेन नंबर 03358 मेमू स्पेशल पैसेंजर ट्रेन पटना से सुबह 7 बजे खुलकर पाटलिपुत्र, हाजीपुर, मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर रुकते हुए 13:30 बजे दरभंगा स्टेशन पहुंचेगी. दूसरी तरफ मंडल के सहरसा स्टेशन से ट्रेन नंबर 03359 मेमू स्पेशल पैसेंजर ट्रेन दिन में 3 बजे खुलकर खगड़िया, बेगूसराय, मोकामा, पटना साहिब स्टेशन होते हुए 22:15 बजे पटना पहुंचेगी।

रेलवे ने मेमू ट्रेनों की समय सारणी भी जारी कर दी है. यात्री अनारक्षित काउंटर या मोबाइल ऐप के जरिए टिकट लेकर इन ट्रेनों में यात्रा कर सकते हैं. रेलमंडल के दरभंगा, जयनगर, रक्सौल और मुजफ्फरपुर से हावड़ा, मुंबई, अहमदाबाद और उधना के लिए छठ पूजा स्पेशल ट्रेनों का परिचालन किया जाएगा। अलग-अलग स्टेशनों से खुलने और गुजरने वाली गाड़ियों का टाइमटेबल भी जारी कर दिया गया है।

145 साल पुराने दरभंगा से पहली बार खबरों का गरम भांप ...असंभव से आगे देशज टाइम्स हिंदी दैनिक। वेब पेज का संपूर्ण अखबार। दरभंगा खासकर मिथिलाक्षेत्रे, हमार प्रदेश, सारा जहां की ताजा खबरें। रोजाना नए कलेवर में। फिल्म-नौटंकी के साथ सरजमीं को समेटे। सिर्फ देशज टाइम्स में, पढि़ए, जाग जाइए।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Bihar

Second Phase Vaccination: डीएमसीएच समेत बिहार के 301 केंद्रों पर टीके का दूसरा चरणा शुरु

Published

on

Second phase of corona vaccination begins at 301 centers in

-पहली वैक्सीन पीएमसीएच के प्राचार्य डॉ.विद्यापति चौधरी को दी गई

पटना, देशज न्यूज।देशव्यापी कोरोना वैक्सीनेशन का दूसरा चरण सोमवार को बिहार के 301 केंद्रों पर शुरु हो गया। राजधानी पटना के 17 केंद्रों पर भी टीकाकरण शुरू हुआ। पटना मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (पीएमसीएच) के प्राचार्य डॉ.विद्यापति चौधरी को पहली वैक्सीन दी गई। इसके बाद डॉ.राणा को वैक्सीन दी गई।

पीएमसीएच में सुबह नौ बजे से वैक्सीनेशन की तैयारी थी, लेकिन यहां 11 बजे से वैक्सीनेशन की शुरुआत हो सकी।इसकी एक बड़ी वजह कड़ाके की ठंड रही। पीएमसीएच के सुपरिटेंडेंट डॉ. बिमल कारक के मुताबिक आज पहले दिन 100 लोगों का वैक्सीनेशन शाम पांच बजे तक किया गया, जिनको आज कोरोना का टीका लगाया गया है वे सब स्वास्थ्य क्षेत्र से ही जुड़े थें ।

पटना के सबसे प्रतिष्ठित निजी अस्पताल पारस में सुबह 10 बजे वैक्सीनेशन का काम शुरू हो गया है। यहां राज्य स्वास्थ्य समिति से मिली 100 हेल्थ वर्करों की सूची में पहले वेरिफिकेशन किया गया है फिर वैक्सीनेशन किया ( Second phase of corona vaccination begins at 301 centers in) जा रहा है। कॉर्डिनेटर पुनीत का कहना है कि 100 की सूची है, जिसे शाम पांच बजे तक पूरा कर लिया गया।

दरभंगा के सबसे बड़े अस्पताल दरभंगा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (डीएमसीएच) में भी ठंड की वजह से वैक्सीनेशन का काम सुबह 11 बजे से शुरु हो पाया ,यहां भी 100 स्वास्थ्यकर्मियों को कोरोना वैक्सीन दी गई। भागलपुर के सदर अस्पताल में दूसरे सेशन का पहला वैक्सीन अनुपमा सहाय को पड़ा।

दूसरे सेशन में 100 स्वास्थ्यकर्मियों को वैक्सीन देने का लक्ष्य रखा गया है लेकिन भागलपुर में अब तक कुल 11 लोगों को वैक्सीन लगी है। अस्पतालकर्मी सूची में जिनका-जिनका नाम है, उन्हें फोन कर रहे हैं और आकर वैक्सीन लेने को कह रहे हैं। टीका लेने के नाम पर स्वास्थ्यकर्मी अब भी सिर दर्द और पेट में दर्द होने का बहाना बनाकर नहीं पहुंचे।

उल्लेखनीय है कि दूसरे चरण में पुलिस, केंद्रीय पुलिस, आर्म्ड फोर्स, होमगार्ड, गृह कारा, आपदा प्रबंधन, सिविल डिफेन्स, राजस्वकर्मी एवं नगर निकाय के सफाईकर्मी व अन्य कर्मियों को टीका लगाना है। इनके निबंधन की कार्रवाई तेजी से की जा रही है।

Continue Reading

Bihar

मुजफ्फरपुर में बैंक लूट की योजना बनाते पांच अपराधी 3 कट्टा,10 कारतूस,3 बाइक समेत गिरफ्तार

Published

on

Five criminals arrested, including 3 kattas, 10 cartridges, 3 bikes planning a bank robbery in Muzaffarpur
मुजफ्फरपुर, देशज न्यूज। जिले में लगातार बढ़ते अपराध पर अंकुश लगाने को लेकर पुलिस कार्रवाई में जुटी हुई है। इसी क्रम में सोमवार को पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है। कुछ अपराधी सकरा ( Five criminals arrested, including 3 kattas, 10 cartridges, 3 bikes planning a bank robbery in Muzaffarpur) थाना अंतर्गत मुरौल स्थित एक ग्रामीण बैंक को लूटने वाले थे जिसकी उन्होंने रेकी भी की थी।
इसकी सूचना मिलने पर नगर पुलिस अधीक्षक,डीएसपी और एसआईटी ने उक्त स्थल पर छापेमारी की जिसमें पांच अपराधियों को तीन देशी कट्टा,10 कारतूस,तीन मोटरसाइकिल और दो मोबाइल के साथ ( Five criminals arrested, including 3 kattas, 10 cartridges, 3 bikes planning a bank robbery in Muzaffarpur) गिरफ्तार किया।
इस बारे में सोमवार को पत्रकारों को जानकारी देते हुए एसएसपी जयंत कांत ने कहा कि पांच अपराधियों को हथियार समेत अन्य सामानों के साथ गिरफ्तार किया गया है और जब इनसे पूछताछ की गई ( Five criminals arrested, including 3 kattas, 10 cartridges, 3 bikes planning a bank robbery in Muzaffarpur) तो उन्होंने अपनी संलिप्तता सकरा थाना क्षेत्र में घटित आधादर्जन घटनाओं में स्वीकार की है।
इसमें व्यापारी से लूट ,बाइक की लूट और बैंक से पैसा लेकर आ रहे ग्राहकों से लूटपाट की है। पकड़े गए अपराधियों का और भी अन्य जगहों से आपराधिक मामला खंगालने में पुलिस की टीम ( Five criminals arrested, including 3 kattas, 10 cartridges, 3 bikes planning a bank robbery in Muzaffarpur) जुटी हैं। सभी को रिमांड पर लेकर होगी गहन पूछताछ।
Continue Reading

Bihar

पूर्णिया में मानवता की अजब प्रेम की गजब कहानी, अंतिम संस्कार में मालिक ने दिया कुत्ते को कंधा

Published

on

A wonderful story of humanity seen in Purnia of Bihar, the owner gave the dog a shoulder at the funeral
पूर्णिया, देशज न्यूज। कहते है कि इंसान से ज्यादा कुत्ते वफादार होते हैं। कुत्ते इंसान की भावनाओं को समझते हैं और उनसे प्यार करते हैं। वहीं इंसान भी कुत्तों से उतना ही प्यार करते हैं। बापू ने भी कहा है (A wonderful story of humanity seen in Purnia of Bihar, the owner gave the dog a shoulder at the funeral) कि किसी देश का विकास और महानता का अनुमान वहां के पशुओं के साथ होने वाले व्यवहार से लगा सकते हैं।
आज के भागदौड़ भरी जिंदगी में जहां लोग अपने प्रिय लोगों के अंतिम संस्कार में शामिल नहीं हो पातें हैं, वहीं जिले के के.नगर प्रखंड के कोहवारा पंचायत के रामनगर में एक परिवार ने अपने कुत्ते की मौत (A wonderful story of humanity seen in Purnia of Bihar, the owner gave the dog a shoulder at the funeral) होने पर उसे हिंदू रीति-रिवाज से अंतिम विदाई देकर अनूठा मिशाल पेश किया।
समर शैल नेचुरल फार्म के संस्थापक हिमकर मिश्रा ने फार्म व ड्योढी के संरक्षण के लिए अनेक किस्म के कुत्ते पाल रखे हैं। जिसमें से एक ब्राउनी नामक कुत्ता था जो लगभग पिछले 15 सालों से उन्होंने पाल रखा था। रामनगर स्थित समर शैल नेचुरल फार्म में एक कुत्ते ब्राउनी की मौत पर अंतिम यात्रा निकाली गई। ब्राउनी की मौत के बाद निकली इस अंतिम यात्रा में न सिर्फ इस फॉर्म के संस्थापक हिमकर मिश्रा बल्कि फार्म के सभीकर्मी और उनके परिवार वाले भी शामिल हुए। फूल-माला से (A wonderful story of humanity seen in Purnia of Bihar, the owner gave the dog a shoulder at the funeral) सजी अर्थी को कंधे पर ले जाकर फार्म के औरा बाड़ी में ब्राउनी को अंतिम पूरे विधि-विधान के साथ दफनाया गया।
फार्म के संस्थापक हिमकर मिश्रा बताते हैं कि ब्राउनी सिर्फ कुत्ता नहीं बल्कि इस फार्म का रक्षक भी था। उसे कभी किसी से कोई शिकायत नहीं रही। वह हम सभी के जिंदगी का एक हिस्सा था, जो पूरी वफादारी और इमानदारी से (A wonderful story of humanity seen in Purnia of Bihar, the owner gave the dog a shoulder at the funeral) फार्म की रक्षा करता रहा। हिमकर बताते हैं कि ब्राउनी उनके घर के सदस्य जैसा था।
उन्होंने बताया कि आज से 15 वर्ष पूर्व पुणे में कुत्ते का छोटा बच्चा का खरीदकर भोपाल ले कर आये थे। वह इंडियन शिप ब्रिड का डॉग था। ब्राउनी की मौत के बाद हम सबने मिल कर उसे ऐसी विदाई देने की सोची जो लोगों के लिए प्रेरणा बन सके। जिस तरह से आदमी की मौत पर अंतिम यात्रा निकाली जाती है। उसी तरह ब्राउनी की मौत के बाद उसके लिए अर्थी बनवाया और उसकी अंतिम यात्रा निकाली गई। जिस जगह ब्राउनी को दफनाया गया है वहां अलग-अलग प्रजाति के काफी सारे पौधे भी लगाए गए हैं।
उन्होंने बताया कि जिस जगह ब्राउनी को दफनाया गया है उस जगह उसकी याद में ब्राउनी स्मृति स्मारक भी बनवाया जाएगा। ब्राउनी स्मारक स्थल को रंग बिरंगे फूलों का पार्क बनाकर ब्राउनी पार्क का नाम दिया जाएगा। जिसकी कवायद महज 8 दिनों के अंदर ही कर दी जाएगी। फार्म में जो भी लोग आएंगे उन्हें स्मारक को दिखाने के साथ-साथ ब्राउनी के किस्से को भी सुनाया जाएगा।
Continue Reading

लोकप्रिय

Copyright © 2020 Deshaj Group of Print. All Rights Reserved Tingg Technology Solution LLP.

%d bloggers like this: