Connect with us

Madhubani

Jaynagar: विवाहपंचमी तक जयनगर-जनकपुर रेलमार्ग पर चलेगी नेपाली ट्रेन,कर्मियों की भर्ती शुरू

Published

on

Jaynagar: विवाहपंचमी तक जयनगर-जनकपुर रेलमार्ग पर चलेगी नेपाली ट्रेन,कर्मियों की भर्ती शुरू

अब आपके नाम, दीप जलेंगे चारों धाम। सुख, शांति, समृद्धि आएगी घर बैठे। 🙏🏻🕉 कीजिए, मनोरथ पूर्ण। रंगीन दीपोत्सव के धनतेरस पर छलकेगा आस्था। ☀️ जलाइए, अपने इच्छित धाम में नव दीप। 🪔 देशज टाइम्स लेकर आया है इस दिवाली आपके लिए बेहद आध्यात्मिक खास। 🔱🙏🏻 लिंक पर क्लिक कर कोरोनाकाल मैं अपने पसंद के धाम में जलाएं इस धनतेरस पवित्र, असंख्य दीप। 🪔 👇🏻 https://bhagwaanji.com/diwali/?ref=diya20204 #Diwali2020

जयनगर, देशज टाइम्स मधुबनी ब्यूरो। भारत-नेपाल के बनते -बिगड़ते सम्बंधो के बीच अन्तर्राष्ट्रीय महत्व के जयनगर-जनकपुर रेलमार्ग पर रेल परिचालन की सुगबुगाहट एक बार फिर से तेज हो गया है। माना जा रहा है कि सब कुछ ठीक रहने पर विवाहपंचमी यानी 19 दिसम्बर से इस मार्ग पर ट्रेन का परिचालन शुरु हो सकता है।

जानकारी के अनुसार, दोनो देशो के बीच वर्षो के कायम प्रगाढ़ मैत्री सम्बंध के प्रतीक तथा नेपाल सीमावर्ती इस इलाके के लोगो के लिये लाइफलाइन माने जाने वाले इस मार्ग पर आमान परिवर्तन को लेकर बीते करीब 8 वर्षो से ट्रेन परिचालन बंद है।भारत के सहयोग से करीब 750 करोड़ रुपए की लागत वाली जयनगर-वर्दीवास आमान परिवर्तन परियोजना में जयनगर-जनकपुर के बीच सभी कार्य लगभग पूरा हो चुका है।

दो वर्ष से तैयार इस रेलखण्ड मे ट्रेन परिचालन शुरु नही होने से जहां स्थानीय यात्रियों को भारी कठिनाई का सामना करना पर रहा है। वही पर्यटन व बाणिज्य व्यवसाय पर भी प्रतिकूल असर पर रहा है।ट्रेन परिचालन मे बिलम्ब के लिये दोनो देशो के बीच बनते-बिगड़ते सम्बंध को जिम्मेवार माना जाता है।

अब जबकी पटरी,सिग्नल से लेकर स्टेशन भवन का निर्माण तक पूरा हो चुका है।दोनो देशो मे शीर्ष स्तर पर व्याप्त गतिरोध के बीच इस मार्ग पर चलने के लिए एक जोड़ी डीएमयू कोच भी पहुंच चुका है। तब ट्रेन परिचालन को लेकर स्थानीय लोगो की आकांक्षाये उच्चस्तर पर पहुंच गया है। शीर्ष प्रशासनिक सूत्र से मिली जानकारी के अनुसार दोनो देशो के रिश्तो पर जमी बर्फ अब पिघलने लगा है। स्वतंत्रतादिवस से शुरु हुई पहल अब शीर्ष अधिकारियो के आगमन तक पहुंच गया है।

परिणामस्वरुप इस मार्ग पर ट्रेन परिचालन के शीध्र शुरु होने की उम्मीद है।सूत्र ने बताया कि परिचालन शुरु करने के लिये कोंकण रेलवे के द्वारा स्टेशनमास्टर व टेक्नीशियन का चयन किया जा रहा है।फिलहाल भारतीय रेलवे से हाल के वर्षो मे सेवानिवृत वैसे स्टेशनमास्टर व टेक्नीशियन को दो वर्षो के लिये अनुबंध पर रखा जायेगा ।जिनकी उम्र 65 साल से कम है।दो वर्ष के बाद इन पदो पर नेपाली नागरिक तैनात किए जाएंगे।

सेवानिवृतकर्मियो के अनुबंध के लिये कोंकण रेलवे के अधिकारी यहां पहुंच चुके है। इससे माना जा रहा है कि आगामी 19 दिसम्बर को विवाहपंचमी के मौके पर जगतजननी सीता की भूमि जनकपूरधाम मे आयोजित होनेवाले भव्य समारोह मे श्रद्धालुओ को रेल यात्रा की सुविधा उप्लब्ध हो सकेगा।

145 साल पुराने दरभंगा से पहली बार खबरों का गरम भांप ...असंभव से आगे देशज टाइम्स हिंदी दैनिक। वेब पेज का संपूर्ण अखबार। दरभंगा खासकर मिथिलाक्षेत्रे, हमार प्रदेश, सारा जहां की ताजा खबरें। रोजाना नए कलेवर में। फिल्म-नौटंकी के साथ सरजमीं को समेटे। सिर्फ देशज टाइम्स में, पढि़ए, जाग जाइए।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Bihar

हरलाखी में राशन कार्ड में छूटे लोगों के नाम जोड़ने के लिए बढ़ी बेतहाशा भीड़, मौज मार रहे बिचौलिए

Published

on

हरलाखी में राशन कार्ड में छूटे लोगों के नाम जोड़ने के लिए बढ़ी बेतहाशा भीड़, मौज मार रहे बिचौलिए

हरलाखी। हरलाखी प्रखंड कार्यालय परिसर उमगांव में इन दिनों राशन कार्ड में छूटे हुए लोगों के नाम जोड़ने के लिए आवेदन लेने की प्रक्रिया चल रही है। जिसकी शुरुआत बीडीओ अरविन्द कुमार सिंह के निर्देश पर 22 फरवरी से शुरू की गई थी। लेकिन राशन कार्ड में नाम जोड़वाने के लिए आवेदन करने वाले लोगों की बेतहाशा भीड़ बढ़ने से बिचैलियों की चांदी कटने लगी है। भीड़ का फायदा उठाकर बिचैलिए बड़े पैमाने पर अवैध उगाही का काम शुरू कर दिया है।

दिन भर ब्लॉक परिसर में दलाल व बिचैलियों का जमावड़ा लगा रहता है। लोगों का आरोप है कि आवेदन करने वाले सुबह 6 बजे से ही लाइन में खड़े हो जाते हैं। दिन भर लाइन में खड़े होने के बावजूद उनका नंबर अपेक्षित समय पर नहीं आ पाता है। जबकि बिचैलिए रुपये लेकर पिछले दरवाजे से काम करवा देते हैं। इतना ही नहीं महिलाओं के लिए अलग कॉउंटर की भी व्यवस्था नहीं की गई है। एक ही काउंटर से महिला व पुरुषों का काम होता है। जिससे महिलाओं को सबसे ज्यादा समस्याओं से जूझना पड़ता है। प्रखंड परिसर में एक अदना सा शौचालय भी नहीं है।

बनाया गया शौचालय बनने के समय से ही ध्वस्त है। सुबह से शाम तक महिलाओं को रुकना पड़ता है। बावजूद लोग एक दिन में आवेदन नहीं कर पाते हैं। पिपरौन के स्थानीय समाजसेवी दीपक प्रसाद महतो ने बताया कि बिचैलियों द्वारा बैक डोर से काम करवाने के लिए 2 सौ से 3 सौ रुपये लिए जा रहे हैं। जबकि आरटीपीएस काउंटर पर लाइन में खड़े लोगों का काम समय पर नहीं हो पाता है। जिससे परेशान होकर मजबूरन लोग लाइन से निकल कर बिचैलियों को रुपये देकर अपना आवेदन ऑनलाइन करवा रहे हैं।

ये बिचैलियों आरटीपीएस काउंटर के पिछले दरवाजे से पैसे लेकर लोगों का काम करवा रहे हैं। जिससे अफरातफरी का माहौल बना हुआ है। प्रशासन सबकुछ जानते हुए भी मूकदर्शक बनी हुई है। इस बाबत बीडीओ ने बताया कि अवैध उगाही की शिकायत मिलने पर कार्रवाई की जाएगी। काउंटर बढ़ाने के लिए सिस्टम दुरुस्त कराए जा रहे हैं।

Continue Reading

Bihar

बिस्फी के भोज पंडौल पंचायत में नलजल योजना व आवास योजना की जांच में मिली कई खामियां, कैसे होगा दूर बड़ा सवाल

Published

on

बिस्फी के भोज पंडौल पंचायत में नलजल योजना व आवास योजना की जांच में मिली कई खामियां, कैसे होगा दूर बड़ा सवाल

बिस्फी। सात निश्चय योजना को सतप्रतिषत अमलीजामा पहनाने के लिए प्रखंड विाकस पदाधिकारी बालेंदु नारायण पांडे ने बिस्फ प्रखण्ड क्षेत्र के पंचायतों में नजजल योजना के तहत कराए गए कार्यो की जांच में जुटे हुए हैं। तथा नजजल योजना में गड़बड़ी को लेकर मुखिया,वार्ड सदस्य एवं वार्ड क्रियान्वयन समिति के साथ-साथ ठेकेदर कर खिलाफ कार्रवाई के लिए जिलाधिकारी को लिखित पत्र भेज रहे हैं। इसी दौरान गुरुवार को प्रखंड विकास पदाधिकारी ने भोज पंडौल पंचायत के वार्ड संख्या-12 में नलजल योजना की जांच किया गया।

उन्होने बताया कि वार्ड संख्या-12 की स्थिति बहुत ही खराब है। इस वार्ड में विधुत कनेक्शन का भी अभाव हैं। तथा भवन में अभी तक कनेक्शन नहीं हुआ है। उन्होने बताया कि कार्रवाई हेतु प्रक्रिया तैयारी की जा रही है। प्रखंड विकास पदाधिकारी ने भोज पंडौल पंचायत के वार्ड संख्या-12 में प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत लाभुकों का भी जांच किया। जहां अधिकारी ने पाया कि लाभुकों ने राशि लेकर अभी तक आवास निर्माण नहीं किया है। उनको शीघ्र घर बनाने का निर्देश दिया गया। उन्होने बताया कि 30 लाभुकों में 26 लोगों ने प्रथम किस्त लेकर अभी तक घर नहीं बनाया है। उनको नीलाम पत्र वाद दायर कर राशि वसूली की कार्रवाई की जायेगी।

Continue Reading

Bihar

मधुबनी के डीडीसी अजय कुमार सिंह ने कहा, हर भाषा की इज्जत करना जरूरी, उर्दू कार्यशाला सह फरोग-ए-उर्दू सेमिनार में पत्रकार आकिल हुसैन सम्मानित

Published

on

मधुबनी के डीडीसी अजय कुमार सिंह ने कहा, हर भाषा की इज्जत करना जरूरी, उर्दू कार्यशाला सह फरोग-ए-उर्दू सेमिनार में पत्रकार आकिल हुसैन सम्मानित

मधुबनी। स्थानीय विकास भवन के सभागार में जिला उर्दू भाषा कोषांक मधुबनी के तत्वधान में जिला स्तरीय उर्दू कार्यषाला सह फरोग-ए-उर्दू सेमिनार का आयोजित हुआ। जिसका उदघाटन उप विकास अयुक्त अजय कुमार सिंह एवं अपर समाहर्ता अमित कुमार ने संयुक्त रूप से किया। सेमिनार को सम्बोधित करते हुुए उप विकास अयुक्त अजय कुमार सिंह ने कहा कि उर्दू जिन्दगी गुजारने का रास्ता सीखाती है। कोई भी भाषा किसी खास जाति या मजहब की नही होती है। तथा उर्दू भाषा का जन्म भारत में ही हुआ।

उन्होने कहा कि हर भाषा की इज्जत करना जरूरी है,तभी हमारा समाज आगे बढ़ सकेगा। हर कोई भाषा एक-दुसरे को समझने का मौका देती है। किसी भी भाषा से हम हट जाएंगे,तो वह बर्बाद होने लगती है। इस लिए आप सभों से मेरी अपील है कि उर्दू भाषा से दूरी न बनाएं। उर्दू भाषा से मोहब्बत करें,तभी उसका विकास संभव है। मौके पर डिप्टी कलेक्टर अमित कुमार, प्रो अबरार अहमद इजरावी,मो नेसार,वासिफ जमाल,हैदर इमाम अंसारी,असरफ जलील, अब्दूल कादिर,मुफ्ती इमदादुल्लाह,तजम्मुल हुसैन आदि ने भी सम्बोधित किया।

वहीं, मुशायरा का भी आयोजन सरवर पण्डौलवी की अध्यक्षता में हुआ। इसमें शायर मकसूद आलम रिफत, मी-सरवर पण्डौलवी,आषिफ हिन्दुस्तानी,सरफ्फुद्दीन साहिल आदि ने अपने कलाम पढ़े। आयोजित सेमिनार एवं मुशायरा का संचालन वरीय उर्दू अनुवादक हैदर इमाम अंसारी एवं उर्दू अनुवादक वासिफ जमाल ने किया। वहीं, पत्रकारिता के क्षेत्र बेहतर कार्य के लिए डीडीसी अजय कुमार की ओर से पत्रकार आकिल हुसैन को सम्मानित किया गया।

Continue Reading

लोकप्रिय

%d bloggers like this: