Connect with us

Bihar

दीपावली-छठ पूजा पर बिहार में नहीं सुनाई देगी पटाखों की शोर, सरकार की 1 दिसंबर तक रोक

Published

on

दीपावली-छठ पूजा पर बिहार में नहीं सुनाई देगी पटाखों की शोर, सरकार की 1 दिसंबर तक रोक
दीपावली-छठ पूजा पर बिहार में नहीं सुनाई देगी पटाखों की शोर, सरकार की 1 दिसंबर तक रोक

पटना,देशज न्यूज। बिहार में इस बार दीपावली छठ और नववर्ष पर पटाखों का कान फोड़ू शोर सुनाई नहीं देगा। राज्यभर में केवल हरित पटाखे ही बनेंगे और बिकेंगे। पटाखे चलेंगे भी तय समयसीमा के अंदर।

वहीं पटना, गया और मुजफ्फरपुर में किसी भी तरह के पटाखों का प्रयोग नहीं होगा। राज्य सरकार ने यह रोक एक दिसंबर तक लगाई है। ई-कॉमर्स वेबसाइटों के माध्यम से पटाखों की ऑनलाइन बिक्री भी प्रतिबंधित की गई है। सुप्रीम कोर्ट और राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (एनजीटी) के आदेश के क्रम में ऐसा किया गया है।

लगातार विश्वसनीय, असरदार, करेंट, ब्रेकिंग दरभंगा, मधुबनी से लेकर संपूर्ण मिथिलांचल, देश से विदेशों तक लगातार खबरों के लिए हमसें यहां जुड़ें,

पटना, गया, मुजफ्फरपुर में एक दिसंबर तक पूरी तरह रोक लगाने के साथ ही पूरे बिहार में 125 डेसीबल से कम आवाज वाले पटाखे ही चल सकेंगे। हरित पटाखे यानी बहुत कम धुंआ उत्सर्जित करने वाले पटाखों के ही निर्माण और बिक्री की अनुमति राज्य सरकार ने दी है। पटाखों के निर्माण में बेरियम के उपयोग को भी वर्जित कर दिया गया है। ज्यादा शोर, वायु प्रदूषण और अपशिष्ट पैदा करने वाली लड़ी वाले पटाखों के निर्माण पर भी रोक लगा दी गई है।

राज्य सरकार ने त्योहारों के अवसर पर आतिशबाजी की समयसीमा भी तय कर दी है। दीपावली और गुरुपर्व पर केवल मान्य पटाखों का उपयोग रात आठ से 10 बजे के बीच किया जा सकता है। वहीं छठ पर सुबह छह से आठ बजे तक ही पटाखे चलेंगे। क्रिसमस और नववर्ष के मौके पर रात्रि 11.55 बजे से 12.30 बजे यानी सिर्फ 35 मिनट तक ही पटाखों का उपयोग किया जा सकेगा।

आदेश में सामुदायिक आतिशबाजी को प्रोत्साहित करने और इसके लिए जगह चिन्हित कर आमजन को सूचना देने को भी कहा गया है। इन आदेशों का पालन कराने का जिम्मा संबंधित पदाधिकारियों खासकर पुलिस को सौंपा गया है। थाना प्रभारियों को यह सुनिश्चित करना होगा कि पटाखों का उपयोग केवल तय स्थान और समयसीमा में ही हो। ऐसा न करने पर उन्हें सुप्रीम कोर्ट की अवमानना का मामला माना जाएगा।

लगातार बढ़ते प्रदूषण का सीधा असर लोगों के स्वास्थ्य पर पड़ रहा है। तमाम शहरों में प्रदूषण के चलते दिन में भी धुंध की सी स्थिति दिखती है। एनजीटी ने इसे गंभीरता से लेते हुए नौ नवंबर को आदेश जारी किया था। कहा था कि बीते साल नवंबर में देश के जिन शहरों में हवा की गुणवत्ता ठीक नहीं थी, वहां पटाखे ना बनेंगे और ना ही बिकेंगे।

इस श्रेणी में बिहार के तीन शहर पटना, गया और मुजफ्फर शामिल हैं। असल में हवा की गुणवत्ता जांच की व्यवस्था भी केवल इन्हीं तीन शहरों में थी। एनजीटी ने देश के बाकी शहरों में भी प्रदूषण की रोकथाम के लिए कदम उठाने के लिए राज्य सरकारों से कहा था। राज्य सरकार ने इसका आदेश जारी कर दिया है।

 

145 साल पुराने दरभंगा से पहली बार खबरों का गरम भांप ...असंभव से आगे देशज टाइम्स हिंदी दैनिक। वेब पेज का संपूर्ण अखबार। दरभंगा खासकर मिथिलाक्षेत्रे, हमार प्रदेश, सारा जहां की ताजा खबरें। रोजाना नए कलेवर में। फिल्म-नौटंकी के साथ सरजमीं को समेटे। सिर्फ देशज टाइम्स में, पढि़ए, जाग जाइए।

Darbhanga

केंद्र सरकार की जन-श्रमिक विरोधी नीतियों के खिलाफ बीमा कर्मियों का प्रदर्शन, नारेबाजी

Published

on

केंद्र सरकार की जन-श्रमिक विरोधी नीतियों के खिलाफ बीमा कर्मियों का प्रदर्शन, नारेबाजी
केंद्र सरकार की जन-श्रमिक विरोधी नीतियों के खिलाफ बीमा कर्मियों का प्रदर्शन, नारेबाजी

केंद्र सरकार की जन-श्रमिक विरोधी नीतियों के खिलाफ बीमा कर्मियों का प्रदर्शन, नारेबाजीदरभंगा, देशज न्यूज। केंद्रीय श्रम संगठनों के आह्वान पर अखिल भारतीय बीमा कर्मचारी संघ के बैनर तले भारतीय जीवन बीमा निगम के सभी तृतीय व चतुर्थ वर्गी कर्मी एक दिवसीय हड़ताल पर रहे। उन्होंने केंद्र सरकार की जनविरोधी नीतियों व श्रमिक विरोधी नीतियों के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन करते हुए नारेबाजी की।

वहीं बीमा कार्यालय के बाहर प्रदर्शन करते हुए प्रमुख मांगों के समर्थन में प्रस्तावित आईपीऔ को वापस लेने, नई आर्थिक नीतियों को वापस केंद्र सरकार की जन-श्रमिक विरोधी नीतियों के खिलाफ बीमा कर्मियों का प्रदर्शन, नारेबाजीलेने,पब्लिक सेक्टर के निजीकरण का विरोध, श्रम कानूनों में संशोधन का विरोध, नई पेंशन नीति को वापस कर पुरानी पेंशन नीति को पुन: लागू करने समेत अन्य मांगों के समर्थन में नारे लगाए।

शाखा कार्यालय के समक्ष हड़ताल के दौरान धरने पर बैठे कर्मियों को आधार सचिव संजय कुमार, मनीष कुमार सिंह, शिव कुमार महतो, अरविदं कुमार, संदीप कुमार, अविनाश मिश्रा, उदित कुमार व अन्य नेताओं ने संबोधित किया।केंद्र सरकार की जन-श्रमिक विरोधी नीतियों के खिलाफ बीमा कर्मियों का प्रदर्शन, नारेबाजी

Continue Reading

Darbhanga

दरभंगा में मिली लखीसराय के युवक की लाश, हत्या की आशंका, बाइक, मोबाइल बरामद

Published

on

दरभंगा में मिली लखीसराय के युवक की लाश, हत्या की आशंका, बाइक, मोबाइल बरामद
दरभंगा में मिली लखीसराय के युवक की लाश, हत्या की आशंका, बाइक, मोबाइल बरामद

दरभंगा, darbhanga देशज टाइम्स ब्यूरो। लखीसराय के युवक मनीष कुमार सिंह की हत्या कर शव को लहेरियासराय इलाके में फेंक दिया गया है। स्थानीय पुलिस मामले की तहकीकात में जुटी है। मौके से पुलिस ने एक बाइक व मोबाइल बरामद किया है। फिलहाल हत्या व आत्महत्या या फिर हादसे में मौत इसको लेकर संशय की स्थिति बनी हुई है।

पुलिस कुछ भी बताने की स्थिति में नहीं है। जानकारी के अनुसार,  लहेरियासराय  एकमी के शास्त्रीनगर मोहल्ला में एक युवक की लाश मिली। सड़क किनारे पड़ी इस लाश को देखने के लिए भीड़ उमड़ पड़ी। लाश मिलने की जानकारी से पूरे इलाके में सनसनी फैल गई। घटना की जानकारी मिलते ही प्रशिक्षु आईएएस विवेक शर्मा स्थल पर पहुंचे।

वहीं, युवक की पहचान लखीसराय के शिवदानी सिंह के पुत्र मनीष कुमार सिंह के रूप में हुई। बताया जाता है, मनीष लखीसराय रैक प्वाइंट से बालू, गिट्‌टी लोड करवाने निकले थे। घटनास्थल से बाइक व सैलफोन बरामद हुआ है। फिलहाल, पुलिस मामले की तफ्तीश में जुट गई है। शव को पोस्टमार्टम के लिए डीएमसीएच भेज दिया गया है।

पुलिस ने बताया, मनीष एक परिचित के यहां भी गया था। फिलहाल पुलिस आगे कुछ भी बताने से परहेज कर रही। मामले की जांच चल रही है।मनीष शास्त्री नगर मोहल्ला स्थित एक परिवार से बराबर मिलने जाता था। गुरुवार की सुबह भी उसके वहां जाने की सूचना है। इस स्थिति में उसकी हत्या हुई है अथवा स्वभाविक मौत इसकी जांच की जा रही है। लोग इसे हत्या की घटना से भी जोड़कर देख रहे हैं। हालांकि, मनीष के शरीर पर जख्म के निशान नहीं मिलने से पुलिस परेशान है। बताया गया है कि पुलिस संबंधित परिवार से पूछताछ करने की तैयारी में है। मनीष के स्वजनों को घटना की जानकारी दी गई है। इसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

Continue Reading

Bihar

सुशील मोदी ने सार्वजनिक किया लालू यादव का नंबर, Twitter ने उठाया ये सख्त कदम

Published

on

सुशील मोदी ने सार्वजनिक किया लालू यादव का नंबर, Twitter ने उठाया ये सख्त कदम
सुशील मोदी ने सार्वजनिक किया लालू यादव का नंबर, Twitter ने उठाया ये सख्त कदम

नई दिल्ली, देशज न्यूज। बिहार (Bihar) के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) ने जेल में बंद राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) पर बीजेपी विधायकों की खरीद-फरोख्त का प्रयास करने का आरोप लगाया था। सुशील मोदी ने अपने एक ट्वीट में लालू प्रसाद का एक नंबर शेयर किया था जिसे अब ट्विटर से हटा दिया गया है। ट्विटर (Twitter) ने पूर्व उपमुख्यमंत्री के ट्वीट को नियमों का उल्लंघन बताते हुए इस ट्वीट को हटा दिया है।

sushil modi

 

बिहार में विधायकों को लालच देने के लिए राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के जेल में बंद अध्यक्ष लालू प्रसाद की भाजपा विधायक के साथ फोन पर की गई कथित बातचीत की ऑडियो क्लिप सामने आने के बाद बुधवार को राजद को शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा। माना जा रहा है कि चारा घोटाला मामले में रांची की एक जेल में बंद प्रसाद ने भाजपा विधायक ललन पासवान को मंगलवार को कथित रूप से उस समय फोन किया, जब पासवान भाजपा के वरिष्ठ नेता तथा पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी के साथ बैठक कर रहे थे।

राजद सुप्रीमो प्रसाद के कटु आलोचक मोदी ने मंगलवार देर रात ट्वीट किया कि प्रसाद राजद विधायकों को मंत्रिपद का लालच देकर खरीदने की कोशिश कर रहे हैं। मोदी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर डेढ़ मिनट की क्लिप साझा की जिसमें प्रसाद को अपने अंदाज में पीरपैंती के विधायक ललन कुमार से बातचीत करते सुना जा सकता है। ऑडियो में प्रसाद को यह कहते हुए सुना जा सकता है, ‘हम आपका ठीक से ख्याल रखेंगे, आप कल विधानसभा अध्यक्ष पद के चुनाव में राजग उम्मीदवार को हराने में हमारी मदद कीजिए।’

ऑडियो में विधायक अपनी पार्टी के खिलाफ वोट करने में अपनी दिक्कतों को बता रहे हैं जिस पर प्रसाद कहते हैं ‘आपको चिंतित होने की जरूरत नहीं है। हमारा अपना विधानसभा अध्यक्ष होगा। हम इस सरकार को गिराकर अपनी सरकार बनाते ही आपको पुरस्कृत करेंगे।’ भाजपा विधायक ने ऑडियो क्लिप की पुष्टि की और कहा कि सुशील कुमार मोदी की मौजूदगी में बातचीत हुई, जिसका भान संभवत: राजद सुप्रीमो को नहीं था। ललन कुमार ने संवाददाताओं से कहा, ‘मैं सुशील कुमार मोदी के साथ बैठक में था जब मेरा निजी सचिव आया और सूचित किया कि मेरे मोबाइल पर लालू प्रसाद का फोन है। मुझे आश्चर्य हुआ, लेकिन मैंने सोचा कि कई अन्य लोगों की तरह उन्होंने चुनावी जीत पर बधाई देने के लिए फोन किया होगा।’

विधायक ने कहा, ‘वह काफी वरिष्ठ नेता हैं, इसलिए मैंने उन्हें प्रणाम किया। वह सरकार गिराने की बात करने लगे। मैंने उन्हें बताने का प्रयास किया कि मैं पार्टी के अनुशासन से बंधा हुआ हूं। फोन बीच में रोकते हुए मैंने सुशील मोदी को सूचित किया।’ मोदी ने मंगलवार की रात ट्वीट कर दावा किया कि उन्होंने राजद सुप्रीमो को फोन कर ‘गंदे तरीके’ अपनाने के खिलाफ चेतावनी दी। उन्होंने अपनी पार्टी के नेता विजय कुमार सिन्हा के विधानसभा अध्यक्ष निर्वाचित होने पर उन्हें बधाई देते हुए कहा, ‘लालू प्रसाद का षड्यंत्र विफल हो गया।’

उपमुख्यमंत्री तार किशोर प्रसाद ने घटना की कड़ी निंदा की। उन्होंने विधानसभा परिसर में संवाददाताओं से कहा कि वह झारखंड सरकार से कहेंगे कि मामले का संज्ञान ले और जरूरत पड़ने पर इस मामले में उच्चस्तरीय जांच के लिए केंद्र से संपर्क करे। बिहार के मंत्री मुकेश सहनी ने भी इस घटना की कड़ी निंदा की। विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) के संस्थापक सहनी ने कहा, ‘जो लोग सरकार गिराने की नीयत से विधायकों से बात करते हैं उन्हें लोकतांत्रिक नियमों पर बोलने का अधिकार नहीं है।’

इस बीच, विधानसभा की कार्यवाही के दौरान नदारद रहे राजद नेताओं ने इस मुद्दे पर सोची-समझी चुप्पी साध रखी है, जिससे सत्ता में रहते हुए जंगलराज के आरोप झेलने वाली पार्टी की छवि पर एक और दाग लग सकता है। पार्टी के कुछ नेताओं ने नाम सार्वजनिक नहीं करने की शर्त पर कहा, ‘यह एक शरारत हो सकती है। लालू प्रसाद की आवाज मशहूर है और कई लोग बहुत सफाई से उनकी आवाज निकाल सकते हैं।’ हालांकि पार्टी नेताओं ने अभी तक इन आरोपों को सिरे से दरकिनार नहीं किया है।

बहरहाल, महुआ सीट से नवनिर्वाचित विधायक मुकेश रौशन ने दावा किया, ‘मार्च में आप बड़ा उलटफेर देखेंगे। यह सरकार गिर जाएगी और तेजस्वी यादव मुख्यमंत्री बनेंगे। सभी दलों के विधायक हमारे संपर्क में हैं। देखिए और इंतजार कीजिए।’ इस बीच झारखंड के जेल महानिरीक्षक वीरेन्द्र भूषण ने रांची में कहा कि जिला प्रशासन की अनुमति से प्रसाद रिम्स निदेशक के बंगले में रहते हैं।

रांची जिला प्रशासन प्रसाद के आगंतुकों और उनसे जुड़े अन्य मुद्दों पर निर्णय करता है। सोशल मीडिया में चल रही क्लिप के बारे में भूषण ने रांची में कहा, ‘हम इसे देखेंगे और अगर कोई सच्चाई मिलती है तो हम उप जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक से मामले की जांच करने और कानून सम्मत कार्रवाई करने के लिए कहेंगे।’

Continue Reading

लोकप्रिय

Copyright © 2020 Deshaj Group of Print. All Rights Reserved Tingg Technology Solution LLP.

%d bloggers like this: