Connect with us

Darbhanga

दरभंगा नगर निगम पर विस में गरजे सरावगी, निगम की करतूत से 25 हजार पीड़ितों तक राहत नहीं

Published

on

दरभंगा नगर निगम पर विस में गरजे सरावगी, निगम की करतूत से 25 हजार पीड़ितों तक राहत नहीं
  • देशज हलचल 
  • शहरी बाढ़ पीड़ितों की पीड़ा को संजय सरावगी ने उठाया विधानसभा में
  • डीएम डॉ.त्यागराजन एसएम ने नगर आयुक्त के नाम जारी किया पत्र
  • डीएम ने कहा सर्वोच्च प्राथमिकता के तौर पर बाढ़ पीड़ितों की सूची को करें जमा

दरभंगा नगर निगम पर विस में गरजे सरावगी, निगम की करतूत से 25 हजार पीड़ितों तक राहत नहींदरभंगा, देशज टाइम्स ब्यूराू। विधानसभा के एक दिवसीय सत्र में सोमवार को दरभंगा शहर के बाढ़ पीड़ितों की समस्या से विधानसभा भी गूंज उठा। विधानसभा अध्यक्ष से अनुमति लेकर नगर विधायक संजय सरावगी ने अपनी बारी आते ही दरभंगा शहर के बाढ़ पीड़ितों की समस्या को लेकर सदन में उठ खड़े हुए। शहरवासियों की पीड़ा को बड़े ही गंभीरता से सदन के पटल पर रखा।

 

नगर विधायक ने दरभंगा की आवाज को सदन में बुलंद करते कहा, दरभंगा शहर का 20 वार्ड पूरी तरह बाढ़ में डूबा हुआ है। जिला प्रशासन की मुस्तैदी से प्रभावित परिवारों को ग्रामीण क्षेत्रों में 6-6 हजार की राशी दी जा रही है लेकिन सरकार की ओर से बाढ़ सहायता की मिलने वाली 6 हजार की राशि से अभी तक नगर निगम की शिथिलता के कारण दरभंगा  शहर के 20 वार्ड के तकरीबन 25हजार  से अधिक परिवार वंचित हैं।mla sanjay sarawgi

लगातार विश्वसनीय, असरदार, करेंट, ब्रेकिंग दरभंगा, मधुबनी से लेकर संपूर्ण मिथिलांचल, देश से विदेशों तक लगातार खबरों के लिए हमसें यहां जुड़ें,

 

नगर विधायक ने बिहार सरकार से अनुरोध किया कि दरभंगा शहर के शहरी बाढ़ पीड़ितों की समस्या को लेकर गंभीरता से इस दिशा में पहल किया जाए। इधर डीएम डॉ.त्यागराजन एसएम ने नगर आयुक्त नगर निगम दरभंगा को पत्र जारी कर शहरी बाढ़ पीड़ितों की सूची अविलंब सरवोच्च प्राथमिकता के तौर पर प्रस्तुत करने का निर्देश जारी किया है।दरभंगा नगर निगम पर विस में गरजे सरावगी, निगम की करतूत से 25 हजार पीड़ितों तक राहत नहीं

जानकारी के अनुसार, शहरी 25 हजार से अधिक बाढ़ पीड़ित परिवारों के खाते में छह हजार की राशि पहुंचाने को लेकर श्री सरावगी  विगत 1 सप्ताह से शहरी बाढ़ पीड़ितों की समस्याओं को लेकर गंभीरता से हर संभव प्रयास करने में जुटे हैं। लेकिन नगर निगम शहरी बाढ़ पीड़ितों की सूची अभी तक सौंप ही नहीं रही है।mla sanjay sarawgi

 

इस मामले की जानकारी श्री सरावगी की ओर से जिला प्रशासन को भी पुख्ता तौर पर दी जा चुकी है ।रविवार को भी नगर विधायक नगर निगम पर जमकर बरसे और नगर निगम से कहा कि अविलंब बाढ़ पीड़ितों की सूची उपस्थित की जाए। नगर विधायक ने बताया कि जहां जिला में दो लाख से अधिक परिवारों के खाते में बाढ़ सहायता की राशि पहुंच चुकी है।mla sanjay sarawgi दरभंगा नगर निगम पर विस में गरजे सरावगी, निगम की करतूत से 25 हजार पीड़ितों तक राहत नहीं

वहीं शहर के 20 वार्ड के डूबे तकरीबन 25 हजार से अधिक बाढ़ पीड़ित परिवार अभी भी व्यापक तकलीफ में हैं ही अपने खाते में छः हजार की राशि पाने के लिए भी व्याकुल होते जा रहे हैं। अगर यह राशि उनके खाते में पहुंच जाती है तो ऐसे विपदा के समय में उनका परिवार अपने जीवन की रक्षा करने को पहल कर सकेगा।imla sanjay sarawgदरभंगा नगर निगम पर विस में गरजे सरावगी, निगम की करतूत से 25 हजार पीड़ितों तक राहत नहींदेशज टाइम्स तस्वीर कैप्शन : दरभंगा शहर के बाढ़ पीड़ितों की समस्या को विधानसभा में रख रहे नगर विधायक संजय सरावगी

145 साल पुराने दरभंगा से पहली बार खबरों का गरम भांप ...असंभव से आगे देशज टाइम्स हिंदी दैनिक। वेब पेज का संपूर्ण अखबार। दरभंगा खासकर मिथिलाक्षेत्रे, हमार प्रदेश, सारा जहां की ताजा खबरें। रोजाना नए कलेवर में। फिल्म-नौटंकी के साथ सरजमीं को समेटे। सिर्फ देशज टाइम्स में, पढि़ए, जाग जाइए।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Darbhanga

बड़ी खबर : अब दरभंगा क्षेत्रीय परिवहन प्राधिकार से जारी होगा संपूर्ण भारत पर्यटन परमिट

Published

on

बड़ी खबर : अब दरभंगा क्षेत्रीय परिवहन प्राधिकार से जारी होगा संपूर्ण भारत पर्यटन परमिट
बड़ी खबर : अब दरभंगा क्षेत्रीय परिवहन प्राधिकार से जारी होगा संपूर्ण भारत पर्यटन परमिट

दरभंगा, देशज टाइम्स। राज्य परिवहन प्राधिकार की ओर से जनहित व वाहन स्वामियों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए संपूर्ण भारत पर्यटन परमिट निर्गत करने की शक्ति क्षेत्रीय परिवहन प्राधिकार, दरभंगा को प्रत्योजित की गई है।

राज्य परिवहन प्राधिकार, बिहार के इस निर्णय के पश्चात जिले के वाहन स्वामियों को संपूर्ण भारत पर्यटन परमिट प्राप्त करने के लिए अब पटना की दौड़ नहीं लगानी पड़ेगी। क्षेत्र के वाहन स्वामियों को अब क्षेत्रीय परिवहन प्राधिकार, दरभंगा के काउंटर पर सुगमता पूर्वक पर्यटन परमिट मिल सकेगी। ऑल इंडिया टूरिस्ट परमिट के लिए वर्तमान में विहत शुल्क की राशि 20,000 रुपए हैं।

संयुक्त आयुक्त-सह-सचिव क्षेत्रीय परिवहन प्राधिकार, दरभंगा दुर्गानंद झा की ओर से वाहन संख्या – BR07PC3336 (Cab) को आज प्रथम ऑल इंडिया टूरिस्ट परमिट निर्गत किया गया। इस अवसर पर कार्यालय प्रधान लिपिक रतीश कुमार झा के साथ अन्य कार्यालय कर्मी मौजूद थे।

Continue Reading

Darbhanga

अधिवक्ताओं की सुरक्षा अहम, मास्क-सैनिटाइज़र लेकर पहुंचा रोटरी क्लब दरभंगा मिडटाउन

Published

on

अधिवक्ताओं की सुरक्षा अहम, मास्क-सैनिटाइज़र लेकर पहुंचा रोटरी क्लब दरभंगा मिडटाउन
अधिवक्ताओं की सुरक्षा अहम, मास्क-सैनिटाइज़र लेकर पहुंचा रोटरी क्लब दरभंगा मिडटाउन

दरभंगा, देशज टाइम्स। रोटरी क्लब दरभंगा मिडटाउन ने गुरुवार को कोर्ट परिसर स्थित वकालतखाना सेंट्रल हॉल में अधिवक्ताओं के बीच ट्रिपल लेयर मास्क व 70 फीसद अल्कोहल युक्त सैनिटाइज़र की शीशियों का वितरण किया।

जानकारी के अनुसार, कार्यक्रम का आयोजन बार एसोसिएशन की मदद से किया गया। इसमें करीब आठ सौ रोटरी मास्क व 100ml सैनिटाइजर की आठ सौ शीशियों का वितरण किया गया।

मौके पर रोटरी दरभंगा मिडटाउन के अध्यक्ष रो. डॉ. नीरज प्रसाद ने कहा, इस कोरोना महामारी के दौरान जिस प्रकार से अधिवक़्तागण लोगों को उचित न्याय दिलाने का काम कर रहे हैं, उसे देखते हुए क्लब के सदस्यों को लगा, इनकी व्यक्तिगत सुरक्षा के लिए भी कुछ करना चाहिए। इसी के मद्देनजर इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

रोटरी क्लब दरभंगा मिडटाउन की ओर से क्लब के सचिव रो. विशाल गौरव, कोषाध्यक्ष रो. डॉ. संजीव मिश्रा, पूर्व अध्यक्ष रो. डॉ अमिताभ सिन्हा व रो. डॉ. अभिषेक सर्राफ ने वकीलों को मास्क/सैनिटाइजर बांटा।

कार्यक्रम में मंच संचालन बार एसोसिएशन के सचिव कृष्ण कुमार मिश्रा ने की वहीं रोटरी क्लब के सदस्यों का स्वागत व अभिनंदन किया गया।अध्यक्ष रविशंकर प्रसाद ने क्लब के सदस्यों का अभिवादन करते धन्यवाद ज्ञापन किया। कार्यक्रम में वरिष्ठ अधिवक्ता शिव कुमार झा की विशिष्ट भूमिका को रोटरी क्लब दरभंगा मिडटाउन ने महत्त्वपूर्ण बताया।अधिवक्ताओं की सुरक्षा अहम, मास्क-सैनिटाइज़र लेकर पहुंचा रोटरी क्लब दरभंगा मिडटाउनफोटो कैप्शन : डॉ.संजीव मिश्रा, बार एसोसिएशन दरभंगा के अध्यक्ष रवि शंकर प्रसाद, रॉटरी मिडटाउन के अध्यक्ष डॉ. नीरज प्रसाद

Continue Reading

Darbhanga

मिथिला मखाना के नाम से ही होगा जीआई टैगिंग, भागलपुर कृषि विवि ने लगाई मुहर

Published

on

मिथिला मखाना के नाम से ही होगा जीआई टैगिंग, भागलपुर कृषि विवि ने लगाई मुहर
मिथिला मखाना के नाम से ही होगा जीआई टैगिंग, भागलपुर कृषि विवि ने लगाई मुहर
बिरौल देशज टाइम्स ब्यूरो। मिथिला की आन-बान और शान है मखाना। मिथिला की पहचान है मखाना। इस बात को आज प्रमाण भी मिल गया है। कारण, मिथिला मखाना (mithila makhana) के नाम से ही जीआई टैगिंग हो इस बात पर बिहार कृषि विश्वविद्यालय, सबौर, भागलपुर ने अपनी सहमति प्रदान कर दी है। इससे संपूर्ण मिथिलांचल में खुशी है।
जानकारी के अनुसार, मिथिला की मान-मर्यादा से खिलवाड़ करने का सरकार पर लगातार आरोप लगते रहें। विपक्ष इस मुद्दे पर लगातार नीतीश सरकार पर हमलावर रहा। कहा गया, दरअसल नीतीश सरकार की नीयत में ही खोट है। मिथिला के नाम से बैंक हो ये बात नीतीश कुमार को बर्दाश्त नहीं था। मिथिला व मैथिली से ही नीतीश कुमार को नफरत है। यही वजह है, मखाना जिसके बारे में दुनिया जानती है इसकी खेती सिर्फ व सिर्फ मिथिला क्षेत्र में होती रही है उसकी जीआई टैगिंग बिहार के नाम पर करने की साजिश रच दी गई।
नीतीश पर हमलावरों का कहना था, जब सिलाब का खाजा हो सकता है, मगही पान हो सकता है, भागलपुर का सिल्क हो सकता है तब मखाना मिथिला का क्यों नहीं हो सकता है। जीआई टैगिंग का अर्थ ही यही होता है, जिस भौगोलिक क्षेत्र में जिस चीज का उत्पादन सबसे ज्यादा हो रहा हो उसके नाम से उस वस्तु की पहचान स्थापित हो। मखाना की जीआई टैगिंग मिथिला (mithila makhana)  के नाम पर हो यही यहां के लोग चाहते थे। मखाना को मिथिला मखाना के नाम पर जीआई टैगिंग के लिए मिथिलावासियों ने मुहिम चलाया।
इस मुहिम की शुरूआत करने वाले राजद के कार्यकर्ता व गौड़ाबौराम के संभावित आरजेडी प्रत्याशी संजय सिंह “पप्पू” सिंह ने इस बारे में पूछने पर कहा, सरकार शुरूआत से ही मिथिला के साथ छल करते आ रही है। राजद ने शुरू से ही इसका विरोध किया। कहा, अभी तो डबल इंजन की सरकार है, और यहां जदयू भाजपा के सांसद व मंत्रीगण इस मुद्दे पर मुंह में दही जमाकर बैठे रहे।
श्री सिंह ने कहा, अभी हमारी लड़ाई जारी रहेगी। प्राथमिक शिक्षा में मैथिली को स्थान दिलवाना भी हमारा लक्ष्य है, ये कितने दुर्भाग्य की बात है कि मिथिला में मैथिली की पढ़ाई नहीं होती है, लेकिन बांग्ला विषय की होती है। हम बांग्ला या अन्य किसी भाषा का विरोध नहीं करते हैं लेकिन मैथिली हमारी मातृभाषा है और उसको सम्मान नहीं मिले तो अंतरात्मा रोती है। मिथिला व मैथिली (mithila makhana) के विकास के लिए हम  समर्पित हैं। हम अपनी लड़ाई को अंजाम तक पहुंचा कर ही मानेंगे।
श्री सिंह ने मखाना मुहिम में साथ देने के लिए रजनीकांत पाठक, अनूप मैथिल, आदित्य मैथिल, एमएसयू के समेत लाखों-करोड़ों मिथिलावासियों को बधाई देते कहा, हमने आखिरकार सफलता हासिल की। बिहार सरकार के कुचक्रो का पर्दाफाश हुआ।मिथिला के साथ कैसे भेदभाव बरता जा रहा है। (mithila makhana)मिथिला मखाना के नाम से ही होगा जीआई टैगिंग, भागलपुर कृषि विवि ने लगाई मुहर
Continue Reading

लोकप्रिय

Copyright © 2020 Deshaj Group of Print. All Rights Reserved Tingg Technology Solution LLP.

%d bloggers like this: