Connect with us

Bihar

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने किया वंडर ऐप का शुभारंभ, दरभंगा समेत छह जिले में वंडर ऐप एप्पलीकेशन आज से शुरू, जिला एवं अनुमंडल अस्पतालों में दीदी की रसोई शुरू

Published

on

दरभंगा। पटना के संवाद भवन में स्वास्थ्य विभाग की ओर से आयोजित विभिन्न स्वास्थ्य सेवाओं के शुभारंभ कार्यक्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वंडर ऐप एप्लीकेशन का शुभारंभ किया। स्वास्थ्य विभाग की ओर से फिलहाल इसे बिहार के 6 जिलों दरभंगा सहित गया, पटना, मुजफ्फरपुर, नालंदा एवं भागलपुर में लागू किया गया है।

आत्मनिर्भर बिहार सात निश्चय पार्ट 2 के अंतर्गत बिहार में ग्रामीण स्वास्थ्य सेवा सुदृढ़ीकरण के लिए निर्मित वंडर एप्लीकेशन के क्रियान्वयन में महत्वपूर्ण योगदान देने के लिए दरभंगा के जिलाधिकारी डॉ. त्यागराजन एसएम को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उनके प्रतिनिधि डॉ. श्रद्धा झा को प्रशस्ति पत्र प्रदान देकर सम्मानित किया।

वंडर एप्प की सफलता के लिए केयर इंडिया के जिला समन्वयक डॉ. श्रद्धा झा, राज्य स्वास्थ्य समिति के मातृत्व स्वास्थ्य सेवा की निगरानी एवं अनुश्रवण करने वाले डॉक्टर सरिता, डीएमसीएच के स्त्री रोग विभागाध्यक्ष डॉ कुमुदिनी झा को भी प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित किया गया एवं इस एप्प को सरजमीं पर लाने में अपना महत्वपूर्ण सहयोग प्रदान करने वाली शिकागो निवासी डॉक्टर नर्मदा कुकुस्वामी को भी प्रधान सचिव, स्वास्थ्य विभाग, बिहार सरकार द्वारा धन्यवाद ज्ञापित किया गया।

इसके साथ ही इस अवसर पर ई-संजीवनी टेलीमेडिसिन सेवा, अश्विन पोर्टल, एंबुलेंस ट्रैकिंग सिस्टम, जीविका संपोषित दीदी की रसोई का शुभारंभ माननीय मुख्यमंत्री बिहार के कर कमलों से किया गया। बिहार राज्य के 1700 उप स्वास्थ्य केंद्रों पर आज से ई-संजीवनी टेलीमेडिसिन सेवा शुरू कर दी गयी है। इस सेवा के अंतर्गत उन सभी 1700 उप स्वास्थ्य केंद्रों पर प्रत्येक सोमवार, गुरुवार एवं शनिवार को 9:00 बजे पूर्वाह्न से 2:00 बजे अपराह्न तक ई- संजीवनी टेलीमेडिसिन की सेवाएं वीडियो कॉलिंग के माध्यम से मरीजों को प्रदान की जाएगी। जहाँ मरीजों को 37 प्रकार की निःशुल्क दवाएं भी उपलब्ध कराई जाएंगी। इस सेवा में मरीज की बीमारी की गंभीरता एवं जटिलता पाए जाने पर एंबुलेंस के साथ रेफरल सुविधा भी मुहैया कराई गई है।

जीविका संपोषित दीदी की रसोई राज्य के सभी जिला एवं अनुमंडल अस्पतालों में लागू किया गया है। जहाँ जीविका दीदियों द्वारा मरीजों को भोजन उपलब्ध कराया जाएगा। इस योजना को बाद में बिहार के सभी मेडिकल कॉलेजों में भी लागू किया जाएगा। शुभारंभ कार्यक्रम को मुख्यमंत्री के अलावे बिहार के दोनों उपमुख्यमंत्री तार किशोर प्रसाद एवं रेणु देवी,स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे, स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव  प्रत्यय अमृत द्वारा संबोधित किया गया। राज्य स्वास्थ्य समिति, बिहार के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार की ओर से शुभारंभ किए जाने वाले स्वास्थ्य सेवाओं का पावर पॉइंट प्रस्तुतीकरण के माध्यम से जानकारी दी गई।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार, ग्रामीण विकास विभाग के प्रधान सचिव अरविंद चौधरी, मुख्यमंत्री के सचिव अनुपम कुमार व मनीष कुमार वर्मा एवं ग्रामीण विकास विभाग,बिहार के सचिव बाला मुरूगन डी उपस्थित थे। आज जिस वंडर एप्प का बिहार के छः जिले में शुभारंभ किया गया है और जिसे दरभंगा जिले में सफलतापूर्वक संचालित किया गया। जिससे हजारों गर्भवती महिलाओं को इससे लाभ प्राप्त हुआ। आइए हम जानते हैं क्या है वंडर ऐप?

वंडर एप्प गर्भवती महिलाओं की पहचान कर उनकी जांच की जाती है। भीएचएसएनडी दिवस पर आंगनबाड़ी केंद्रों एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर गर्भवती महिलाओं की जांच होती है, प्रत्येक माह की 9 तारीख को प्रधानमंत्री मातृत्व अभियान के अंतर्गत गर्भवती महिलाओं की जांच होती है। प्रत्येक सोमवार को कैंप लगाकर भी जांच की जाती है। उनका ब्लड प्रेशर, हिमोग्लोबिन, यूरिन एल्ब्यूमिन, वजन इत्यादि की जाँच की जाती है। और जांच के दौरान प्राप्त विस्तृत विवरण को वंडर एप्प पर अपलोड किया जाता है।

जांच में जिन गर्भवती महिला में हिमोग्लोबिन, आयरन या कोई अन्य कमी है, तो इसे वंडर एप्प पर अपलोड किया जाता है। थोड़ी कमी पायी जाती है उनको पीला बॉक्स में तथा जिनमे गभीर कमी पायी जाती है उन्हें लाल बॉक्स में रखा जाता है। इस प्रकार प्रत्येक गर्भवती महिला का केस हिस्ट्री वंडर एप्प के माध्यम से मिल जाता है और फिर सही इलाज ससमय किया जाता है।

साथ ही किस कमी के लिए कौन सी दवा दी जानी है, किस तरह इलाज किया जाना है। यह भी जानकारी एप्प के माध्यम से दी जाती है। जैसे खून की कमी के लिए आयरन फोलिक एसिड की गोली इत्यादि। गंभीर समस्या के मामले में रेड अलर्ट तथा हल्की समस्या के मामले में येलो अलर्ट चिकित्सक के मोबाइल पर आ जाता है।

यदि किसी गर्भवती महिला को कोई गंभीर समस्या है तो वंडर एप्प के माध्यम से रेफरल अस्पताल या डीएमसीएच रेफर किया जाता है। इसके पहले उसे उस मरीज का रिपोर्ट ऑनलाइन भेज दिया जाता है। इस प्रकार 40 सेकेंड के अंदर में सारी जानकारी रेफरल अस्पताल या डीएमसीएच को मिल जाता है, जिसके कारण उस महिला मरीज को बचाने का सुनहरा अवसर प्राप्त हो जाता है। इससे पहले डॉक्टर को कई मामलों में पता नहीं रहता था कि आनेवाले मरीज का केस हिस्ट्री क्या है? लेकिन, वंडर एप्प के माध्यम से सबकी ट्रेसिंग तुरंत हो जाती है और गंभीर मरीज का प्राथमिकता आधारित इलाज शुरू हो जाता है। प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी या संबंधित डॉक्टर को पहले से पता रहता है कि आने वाली गर्भवती महिला कौन सी बीमारी से ग्रस्त है। इस प्रकार गर्भवती महिला का इलाज शुरू से अंत तक प्रोटोकॉल के अनुसार किया जाता है। इस एप्प के कारण दवा की सुविधा, इलाज की सुविधा व एएनएम की सुविधा बेहतर हुई है।

145 साल पुराने दरभंगा से पहली बार खबरों का गरम भांप ...असंभव से आगे देशज टाइम्स हिंदी दैनिक। वेब पेज का संपूर्ण अखबार। दरभंगा खासकर मिथिलाक्षेत्रे, हमार प्रदेश, सारा जहां की ताजा खबरें। रोजाना नए कलेवर में। फिल्म-नौटंकी के साथ सरजमीं को समेटे। सिर्फ देशज टाइम्स में, पढि़ए, जाग जाइए।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

BIRAUL

बिरौल में कुत्ते के बच्चे को लेकर पुलिस पदाधिकारी और कुत्ते के मालिक में जमकर बकझक-विवाद, थानाध्यक्ष ने कुत्ते के मालिक को पीटा, विरोध में उग्र ग्रामीणों ने थाने को घेरा,जमकर हंगामा

Published

on

बिरौल में कुत्ते के बच्चे को लेकर पुलिस पदाधिकारी और कुत्ते के मालिक में जमकर बकझक-विवाद, थानाध्यक्ष ने कुत्ते के मालिक को पीटा, विरोध में उग्र ग्रामीणों ने थाने को घेरा,जमकर हंगामा

बिरौल देशज टाइम्स ब्यूरो। जमालपुर थाना क्षेत्र के बड़़गांव मे एक कुत्ते के बच्चे को लेकर पुलिस पदाधिकारी और कुत्ते के मालिक के बीच विवाद को लेकर आक्रोशित ग्रामीणों ने सहायक थाना के मुख्य गेट को लगभग चार घंटे तक बाधित कर दिया तथा थानाध्यक्ष के विरुद्ध जमकर नारेबाजी करने लगे।

गणमान्य लोगों के हस्तक्षेप करने एवं इस विवाद के निपटारा हेतु शाम चार बजे पुलिस के साथ बैठक करने के आश्वासन मिलने के बाद लोगों जाम को हटाया। थाना को जाम करने वाले लोगों मे उत्तीम चौपाल,शंभू चौपाल सहित कई लोगों ने बताया कि बुधवार को सुबह सात बजे शंभू चौपाल अपने कुत्ते के बच्चे को थाना परिसर से लेकर जा रहे थे कि इसी क्रम में थानाध्यक्ष नमोनारायण राय ने उसे बुलाकर मारा-पीटा है।

वहीं थानाध्यक्ष श्री राय ने बताया कि थाना परिसर मे कुत्ते को लाने के लिए मना किया गया था। इस मामले को वैसे लोग तूल दे रहे थे जिन्हें हमारी पुलिसिंग पंसद नहीं है। इधर बड़़गांव उसके आसपास के गणमान्य लोगों का कहना है कि जब से नमोनारायण जी थानाध्यक्ष पद पर आए हैं तब से असामाजिक तत्वों एवं शराब माफियाओं के साथ परेशानी उत्पन्न हो गई है। इस मामले को वही लोग तूल दिया है जो वर्तमान समय के पुलिस पदाधिकारी के कार्रवाई को पसंद नहीं करते।

Continue Reading

Bihar

राजधानी पटना के बेउर जेल समेत राज्यभर के 59 जेलों में छापेमारी, चाकू, कांटी, तंबाकू, नशे का सामान,  मोबाइल,  पेन ड्राइव समेत कई सामान बरामद

Published

on

Raids in 59 jails across the state including Beur Jail in th

पटना।ऱाजधानी पटना के बेउर जेल समेत राज्यभर के 59 जेलों में आज प्रशासन और पुलिस की संयुक्त टीम ने छापेमारी की।पटना के बेउर समेत तमाम जिलों की जेलों में छापेमारी उस वक्त हुई जब जेल में मौजूद कैदी गहरी नींद में सो रहे थे।कई जेलों से चाकू, मोबाइल और नशे के सामान बरामद हुए हैं।

पुलिस और प्रशासन द्वारा जिन जिलों के जेलों में आज तड़के छापेमारी हुई है, उनमें  पटना, भागलपुर,  पूर्णिया,  बेगूसराय,  कटिहार,  किशनगंज,  समस्तीपुर,  नवादा,  बिहारशरीफ,  गोपालगंज,  बक्सर,  आरा, छपरा, औरंगाबाद, हाजीपुर समेत बिहार के 59 जेल शामिल हैं। इसमें किशनगंज जेल से चाकू कांटी और तंबाकू, कटिहार जेल से नशे का Raids in 59 jails across the state including Beur Jail in th सामान, बिहारशरीफ जेल से तीन मोबाइल, छपरा जेल से एक मोबाइल, गोपालगंज जेल मोबाइल व पेन ड्राइव, औरंगाबाद के दाउदनगर उपकारा से तीन मोबाइल व चार चार्जर, आरा जेल से मोबाइल,चार्जर,भागलुपर जेल से 25 पुड़िया खैनी और कुछ आपत्तिजनक समान बरामद हुए हैं।हाजीपुर और समस्तीपुर जेल से कोई आपत्तिजनक सामान नहीं बरामद हुआ है।

गृह विभाग की ओर जारी किया गया था आदेश

उल्लेखनीय है कि दो दिन पूर्व पटना की बेउर जेल में राजस्थान के दौसा के रहने वाले साइबर अपराधी कुणाल शर्मा की उठक-बैठक करने का एक वीडियो वायरल होने के बाद प्रशासन की नींद खुली है। जेलों में छापेमारी को लेकर बिहार के गृह विभाग की ओर से आदेश जारी किया गया था। इसी के बाद सुबह पांच बजे के करीब पटना समेत तमाम जिलों में Raids in 59 jails across the state including Beur Jail in th जिला प्रशासन और पुलिस के अधिकारी एक टीम बनाकर जेलों में गए व छापेमारी की। अचानक हुए इस छापेमारी से जेल में कैद कैदियों के बीच अफरातफरी मच गई थी।

Continue Reading

Bihar

स्टेट बैंक से दिनदहाड़े पांच लाख 29 हज़ार रुपये की लूट  

Published

on

Robbery of 5 lacs 29 thousand

समस्तीपुर।  जिले  में अपराधियों ने एक बार फिर से लूट की बड़ी घटना को अंजाम दिया है । अपराधियों ने मुफ्फसिल थाना क्षेत्र के जितवारपुर में बुधवार को दिनदहाड़े एसबीआई बैंक को निशाना बनाया ।  अपराधियों ने स्टेट बैंक की जितवारपुर शाखा से दिनदहाड़े पांच लाख 29 हज़ार रुपये लूट की घटना को अंजाम दिया।

घटना की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस बैंक के कर्मचारियों से पूछताछ कर रही है । मिली जानकारी के अनुसार यहां बुधवार की सुबह करीब 11 बजे बैंक खुलते ही तीन अपराधी बैंक में घुस गए । सबसे पहले हथियारबंद तीन अपराधियों ने बैंक के मैनेजर को बंधक बना लिया । बैंक में अन्य कई कर्मचारियों और ग्राहकों को धमकाया और पिस्तौल के बल पर अपराधियों ने बैंक के सेफ का ताला खुलवाया और उसमें रखे 5 लाख और काउंटर से 29 हजार रुपए लूटकर चलते बने । दिनदहाड़े हुए इस घटना के बाद इलाके में अफरा – तफरी मच गई है।

Continue Reading

लोकप्रिय

%d bloggers like this: